ज़ीरो FIR क्या है?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

क्या होती है ज़ीरो एफ़आईआर?

  • 12 जुलाई 2018

अगर कोई एफ़आईआर अपराध की घटनास्थल के दायरे से बाहर दर्ज करवाई जाती है तो उस एफ़आईआर को अपराध संख्या नहीं दी जाती. एक बार मामला दर्ज हो जाने के बाद इसे घटनास्थल वाले थाने में भेज दिया जाता है. इस एफ़आईआर को ज़ीरो एफ़आईआर कहा जाता है.

इसका मक़सद यह है कि एफ़आईआर दर्ज ना होने की सूरत में घटनास्थल से सबूत न मिट जाएं, इसलिए दूसरा थाना, संबंधित थाना क्षेत्र को अलर्ट करता है. यह एफ़आईआर महिला से जुड़े अपराधों के मामलों में ज़्यादा कारगर होती है.

वीडियोः सुमिरन प्रीत कौर/ सरोज सिंह

शूट एडिटः देवाशीष

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे