कांग्रेस ने दी नसीहत, लेकिन थरूर बयान पर डटे

  • 12 जुलाई 2018
इमेज कॉपीरइट Reuters

अगले आम चुनाव में मोदी सरकार की वापसी होने पर भारत के हिंदू पाकिस्तान बनने वाले शशि थरूर के बयान पर मचे विवाद के बाद कांग्रेस ने अपने नेताओं से सोच समझ कर बोलने को कहा है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इस बाबत कई ट्वीट किए हैं.

सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में कहा है, "बीते चार सालों में मोदी सरकार ने विभाजन, कट्टरता, घृणा, असहिष्णुता और ध्रुवीकरण का माहौल बना दिया है. दूसरी तरफ़ कांग्रेस, भारत की बहुलता भरी सभ्यता, विविधता, विभिन्न धर्म एवं संप्रदायाओं में सद्भाव की हिमायती रही है."

थरूर बोले, तो भारत बन जाएगा 'हिंदू पाकिस्तान'

सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में ये भी कहा है, "भारत के मूल्य और बुनियादी सिद्धांत, सभ्यता में हमारी भागीदारी सुनिश्चित करते हैं और हमें विभाजनकारी विचार वाले पाकिस्तान से अलग रखते हैं. सभी कांग्रेसी नेताओं को अपनी ऐतिहासिक ज़िम्मेदारी समझनी होगी और बीजेपी की नफ़रत की राजनीति को खारिज़ करने के लिए सोच समझकर शब्दों और मुहावरों का चुनाव करना होगा."

शशि थरूर ने तिरुवनंतपुरम में एक कार्यक्रम में कहा था, "अगर बीजेपी दोबारा लोकसभा चुनाव जीतती है तो हमें लगता है कि हमारा लोकतांत्रिक संविधान नहीं बचेगा. वो संविधान के बुनियादी सिद्धांतों को तहस-नहस करके एक नया संविधान लिखेंगे. उनका नया संविधान 'हिंदू राष्ट्र' के सिद्धांतों पर आधारित होगा. अल्पसंख्यकों को मिलने वाली बराबरी ख़त्म कर दी जाएगी और भारत 'हिंदू पाकिस्तान' बन जाएगा. "

थरूर ने कहा कि यह वो भारत नहीं होगा जिसके लिए महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, मौलाना अबुल कलाम आज़ाद और बाकी स्वतंत्रता सेनानियों ने संघर्ष किया था.

उनरे इस बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने थरूर के बयान की आलोचना करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से माफ़ी मांगने की मांग की है.

उनके बयान के जवाब में बीजेपी के संबित पात्रा ने एक ट्वीट किया है.

पात्रा ने लिखा, "थरूर कहते हैं कि अगर बीजेपी 2019 में फिर सत्ता में आती है तो भारत हिंदू-पाकिस्तान बन जाएगा! बेशर्म कांग्रेस भारत को नीचा दिखाने और हिंदुओं को बदनाम करने का कोई भी मौका नहीं गंवाती है. 'हिंदू आतंकवादियों' से लेकर 'हिंदू-पाकिस्तान' तक...कांग्रेस की पाकिस्तान को खुश करने की नीतियों का जवाब नहीं!"

बयान पर कायम हैं थरूर

वहीं शशि थरूर अपने बयान पर बने हुए हैं. थरूर के मुताबिक उन्होंने जो भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बारे में कहा था, उस पर कायम हैं.

इमेज कॉपीरइट @ShashiTharoor

उन्होंने कहा कि मीडिया से अपनी बातचीत में कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी हिंदू राष्ट्र के विचार में दिलचस्पी नहीं रखती है तो उन्हें ये स्वीकार करना चाहिए. जब तक वे ऐसा नहीं करते हैं तब तक उनके नज़रिए को ठीक ढंग से रखने वाला माफ़ी किस बात की मांगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)