प्रेस रिव्यू: '2019 से पहले सांप्रदायिक तनाव की जिम्मेदार कांग्रेस होगी'

  • 14 जुलाई 2018
निर्मला सीतारमण इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक बीजेपी ने शुक्रवार को कांग्रेस पर 'ख़तरनाक सांप्रदायिक खेल खेलने' का आरोप लगाया है.

बीजेपी ने कांग्रेस पार्टी पर 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले देश को मजहब के आधार पर बांटने का आरोप लगाया. बीजेपी ने कहा कि अगर अब से लेकर 2019 तक कोई भी अप्रिय घटना होती है तो इसके लिए कांग्रेस ज़िम्मेदार होगी.

भाजपा की वरिष्ठ नेता और केंद्रीण मंत्री निर्मला सीतारमण ने भाजपा पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 'डेली इंकलाब' में राहुल गांधी की मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ बैठक पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की है, जिसके अनुसार राहुल गांधी ने जनेऊ पहनने और मंदिर जाने पर माफ़ी मांगी है और यह भी स्वीकार किया है कि कांग्रेस इस रुख़ को ठीक करेगी.

रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा है, "हाँ, कांग्रेस एक मुस्लिम पार्टी है."उनके इस कथित बयान को लेकर रक्षा मंत्री और बीजेपी नेता निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है.

निर्मला सीतारमण ने कहा कि राहुल गांधी को बताना चाहिए कि उनके इस बयान का मतलब क्या है.

नई रक्षा मंत्री के सामने ये हैं चुनौतियां

इमेज कॉपीरइट Getty Images

10% से ज़्यादा फीस नहीं बढ़ा सकेंगे

राष्ट्रीय बाल सुरक्षा अधिकार आयोग ने मानव संसाधन मंत्रालय से निजी और गैर सहायता प्राप्त स्कूलों की फीस प्रति वर्ष 10 फीसद से अधिक नहीं बढ़ाने की सिफारिश की है.

दैनिक जागरण की ख़बर के मुताबिक आयोग की सदस्य प्रियंका कानूनगो ने कहा कि मंत्रालय को हमने राज्यों में जिलास्तरीय शुल्क नियामक प्राधिकरण बनाने का सुझाव दिया है.

यह स्कूलों में होने वाली फ़ीस वृद्धि पर नजर रखने का काम करेगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

'हिंदू तालिबान ने तोड़ी मस्जिद'

अयोध्या विवाद में सुन्नी वक्फ़ बोर्ड के वकील राजीव धवन ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में विवादास्पद दलील रखी.

दैनिक भास्कर के मुताबिक उन्होंने कहा, "जिस तरह बामियान में भगवान बुद्ध की प्रतिमा तालिबान ने तोड़ी थी, उसी तरह भारत में बाबरी मस्जिद को हिंदू तालिबान ने तोड़ा था."

इस दलील पर उत्तर प्रदेश सरकार ने आपत्ति भी जताई.

इससे पहले शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से सीनियर एडवोकेट एसएन सिंह ने कहा, "देश की एकता, अखंडता, शांति और सद्भाव के लिए बोर्ड मुस्लिम समुदाय के हिस्से की जमीन राम मंदिर के लिए देना चाहता है."

मामले की अगली सुनवाई 20 जुलाई को होगी.

इमेज कॉपीरइट NILESH PARDESHI

शूटर को दे दी बेटे को सुपारी

एक महिला ने अपने बेटे की हत्या सिर्फ इसलिए करा दी कि बेटा तांत्रिक के घर आने पर ऐतराज़ करता था.

18 जून को युवक का शव मिलने के बाद जांच में ये बात सामने आई है.

नवभारत टाइम्स के मुताबिक पुलिस ने बताया कि तांत्रिक महिला के घर चार साल से आता थे. दोनों के बीच शारीरिक संबंध होने के भी आरोप लगे.

बेटे की आपत्तियां बढ़ने लगीं तो मां ने तांत्रिक के साथ मिलकर बेटे की हत्या कर दी.

प्रॉपर्टी बेचकर 35 हज़ार रुपये कॉन्ट्रैक्ट किलर को दिए गए. पुलिस ने मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

'सरकार निगरानी राज बनाना चाहती है?'

सुप्रीम कोर्ट ने ऑनलाइन डेटा पर निगरानी करने के लिए सोशल मीडिया हब के गठन के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के निर्णय पर सख्त रूख अपनाते हुए कहा है कि यह 'निगरानी राज बनाने जैसा' होगा.

जनसत्ता की ख़बर के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार नागरिकों के वॉट्सऐप संदेशों को टैप करना चाहती है और उससे दो सप्ताह में जवाब मांगा है.

कोर्ट ने तृणमूल कांग्रेस के विधायक महुआ मोइत्रा की याचिका पर केंद्र को नोटिस जारी किया साथ ही इस मामले में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल से सहयोग मांगा.

पीठ ने कहा, 'सरकार नागरिकों के व्हाट्सऐप संदेशों को टैप करना चाहती है और यह 'निगरानी राज बनाने जैसा' होगा.

ये भी पढ़ें:

व्हाट्सऐप पर अफ़वाह फैलाई तो क्या होगी सज़ा

कैसी थी कश्मीर की मिलिटेंसी जिसका महबूबा ज़िक्र कर रही हैं

क्या 'अडल्ट्री क़ानून' में बदलाव से शादियां ख़तरे में पड़ जाएंगी?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए