झारखंडः सुसाइड नोट के साथ घर में मिली व्यवसायी परिवार की 6 लाशें

  • 16 जुलाई 2018
झारखंड इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

झारखंड के हज़ारीबाग शहर में एक व्यवसायी परिवार के सभी 6 लोगों की लाशें घर के भीतर मिली हैं.

साथ ही पुलिस ने घर से छह सुसाइड नोट भी ज़ब्त किए हैं. सभी सुसाइड नोट लाल रंग के लिफाफों में रखे हुए थे.

हज़ारीबाग के आरक्षी उप-महानिरीक्षक पंकज कंबोज ने बीबीसी को बताया है कि इस घटना में सभी लाशें अलग-अलग हालत में मिली थीं इसलिए इनका पोस्टमॉर्टम करवाया गया. फ़िलहाल पुलिस को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतज़ार है.

सुसाइड नोट में लिखा है कि वे लोग स्वेच्छा से आत्महत्या कर रहे हैं. हालांकि लिफाफे पर ये भी लिखा गया है कि बच्चे अमन को फंदे पर नहीं लटकाया जा सकता था, इसलिए उसकी हत्या की गई.

सुसाइड नोट और लिफाफों पर किसकी लिखाई है, पुलिस इसकी भी जाँच कर रही है ताकि पता चल सके कि ये सब किसने लिखा.

डिटेल जाँच के लिए पुलिस ने एक विशेष जाँच दल गठित किया है. साथ ही पोस्टमॉर्टम के लिए डॉक्टरों का एक बोर्ड भी बनाया गया है.

पुलिस अधिकारी पंकज कंबोज बताते हैं कि उन्होंने ख़ुद व्यवसायी के घर का जायज़ा लिया है.

प्रारंभिक छानबीन और व्यवसायी के परिजनों से पूछताछ में ये बात भी सामने आई हैं कि व्यवसाय में इस परिवार की बड़ी रक़म फंसी हुई थी. जबकि देनदारी को लेकर भी वे लोग परेशान थे.

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

ड्रा फ्रूट्स का कारोबार

हज़ारीबाग के केबी सहाय मार्ग स्थित खजांची तालाब के पास सीडीएम अपार्टमेंट में रहने वाले 70 साल के महावीर माहेश्वरी, शहर में ही ड्राई फ़्रूट्स के जाने-माने व्यवसायी थे.

जैन मंदिर के पास ही उनकी दुकान थी. इस व्यापार को वे अपने बेटे नरेश माहेश्वरी के साथ संभाल रहे थे.

ये जगह झारखंड की राजधानी रांची से क़रीब 95 किलोमीटर दूर है.

रविवार की सुबह अपार्टमेंट के नीचे उनके बेटे नरेश माहेश्वरी की लाश पड़ी थी.

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha
Image caption हज़ारीबाग के आरक्षी उप-महानिरीक्षक पंकज कंबोज

नरेश अग्रवाल की लाश अपार्टमेंट के नीचे मिलने की ख़बर पाकर ही उनके कुछ परिजन और परिचित वहाँ पहुंचे थे.

इसके बाद वे लोग तीसरे फ़्लोर पर उनके फ़्लैट नंबर 303 में गए, तो देखा कि कमरे में महावीर माहेश्वरी और उनकी पत्नी किरण माहेश्वरी की लाश फंदे से झूल रही है.

जबकि नरेश माहेश्वरी की पत्नी प्रीति माहेश्वरी, उनका 10 साल का बेटा अमन और 8 साल की बेटी अन्वी की लाश पलंग और सोफ़े पर पड़ी थी.

ये दोनों बच्चे हज़ारीबाग के एक प्रतिष्ठित स्कूल में पढ़ते थे. इसके बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुँची. बाद में कई आला अधिकारी भी मौक़े पर आए.

इस घटना की ख़बर पूरे शहर में आग की तरह फैल गई. अपार्टमेंट के सामने स्थानीय लोगों की भीड़ जुट गई.

इमेज कॉपीरइट Jharkhand Police

बच्चों का गला रेत दिया

आरक्षी उप-महानिरीक्षक पंकज कंबोज ने ये भी जानकारी दी है कि घटनास्थल पर किसी हिंसक वारदात के निशान नहीं मिले हैं.

ये भी नहीं लगता कि किसी ने मारपीट की है या तोड़फोड़-धक्का देकर कोई फ़्लैट के भीतर घुसा हो.

हालांकि बच्चे का गला रेता हुआ है और एक ब्लेड भी पुलिस ने बरामद किया है.

बच्चे के पिता जिनकी लाश अपार्टमेंट के नीचे मिली, उनके हाथ में खून के दाग भी हैं.

पुलिस अधिकारी ने बताया है कि फ़्लैट के अंदर से बेहोश करने वाले केमिकल इथर की एक बोतल मिली है.

इसलिए भी पोस्टमॉर्टम का इंतज़ार करना होगा कि परिवार के किस सदस्य की मौत कैसे और किन परिस्थितियों में हुई.

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

देनदारी और बकाये का दबाव

पुलिस अधिकारी के मुताबिक़, मृतकों के रिश्तेदारों से पूछताछ में ये जानकारी सामने आई है कि लेनदारी और देनदारी में उलझा ये परिवार काफ़ी परेशान था. काफ़ी वक़्त से घर की स्थिति ख़राब चल रही थी.

फ़्लैट के लिए भी उन लोगों ने कर्ज़ लिया था. हालांकि इन सभी दावों की भी अब जाँच की जायेगी.

इस बीच महावीर माहेश्वरी के एक भतीजे देवेश माहेश्वरी ने जानकारी दी है कि उनके चचेरे भाई नरेश ने बताया था कि बाज़ार में उनका काफ़ी पैसा फंसा है और पैसा मांगने वाले उनपर दबाव बना रहे हैं.

देवेश ने बताया, "तब मैंने अपने भाई से कहा था कि हम लोगों को साथ बैठना चाहिए कि आख़िर पैसे कैसे निकाले जा सकते हैं. ये बात हुई थी कि घबराने से काम नहीं चलेगा."

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

इन उलझनों के बीच अक्सर उनकी दुकान बंद रहती थी. इससे भी माहेश्वरी परिवार का कारोबार डगमगा गया था.

देवेश बताते हैं कि डॉक्टरों ने भी नरेश से ये कहा था कि वो ज़्यादा तनाव न लें. कभी-कभार लगता था कि वो अवसाद का शिकार हो रहे हैं.

देवेश ने कहा, "इतना होने के बाद हम लोगों ने सपने में भी ये नहीं सोचा था कि नरेश और पूरा परिवार इतने ख़ौफनाक तरीक़े से हमें छोड़कर चला जायेगा. कभी मन इस बात पर घबराता है कि कोई साज़िश का तो वे लोग शिकार नहीं हुए. मैंने कल रात ही तो चाचा जी को बाज़ार से खाने-पीने का सामान ख़रीदकर घर जाते देखा था. घर में रात का खाना भी सभी लोगों ने साथ में खाया है."

ये सब कहते हुए देवेश फूट-फूटकर रो पड़ते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार