पांच बड़ी ख़बरें: लोकसभा में हमारे पास संख्या बल- सोनिया गांधी

  • 19 जुलाई 2018
सोनिया गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

लोकसभा में नरेंद्र मोदी सरकार के ख़िलाफ़ कांग्रेस और टीडीपी के अविश्वास प्रस्ताव को स्वीकार किए जाने के बाद कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा सोनिया गांधी ने दावा किया है कि उनके पास संख्या बल है.

यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी कहा- किसने कहा है कि हमारे पास संख्या बल नहीं है.

20 जुलाई से विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर बहस शुरू होगी. माना जा रहा है कि विपक्ष के पास संख्याबल की कमी है.

लेकिन सोनिया गांधी ने दावा किया है कि उनके पास नंबर्स हैं.

इमेज कॉपीरइट SABARIMALA.KERALA.GOV.IN

'सबरीमाला में जाने का महिलाओं को अधिकार'

केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की महिलाओं के जाने पर प्रतिबंध को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि पुरुषों की तरह महिलाओं को भी मंदिर में जाने का अधिकार है.

पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने कहा कि प्रार्थना की सार्वजनिक जगह, जहां पुरुष जा सकता है वहां महिला भी जा सकती है और जो नियम पुरुषों पर लागू होते हैं वही महिलाओं पर भी लागू होते हैं.

इमेज कॉपीरइट MOHIT KANDHARI/BBC

अभियुक्तों के वकील को बनाया डिशनल एडवोकेट जनरल

जम्मू के कठुआ की आठ साल की बच्ची के साथ गैंगरेप मामले में अभियुक्तों के वकील असीम साहनी को जम्मू-कश्मीर में एडिशनल एडवोकेट जनरल नियुक्त किया गया है.

31 वकीलों को एडिशनल एडवोकेट जनरल नियुक्त किया गया है. पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने ट्वीट करके इस फ़ैसले की आलोचना की. उन्होंने इसे चौंकाने वाला फ़ैसला बताया है.

ग़ौरतलब है कि इस समय जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू है.

मिड-डे मील में ज़हर मिलाने पर हिरासत में

उत्तर प्रदेश के देवरिया में पुलिस ने बताया है कि उसने कथित तौर पर मिड-डे मील में ज़हर मिलाने पर एक सातवीं कक्षा की छात्रा को हिरासत में लिया है.

स्कूल ने आरोप लगाया है कि छात्रा ने अपने भाई की मौत का बदला लेने के लिए यह किया. पुलिस का कहना है कि इस पर गांववालों ने लड़की की मां को पीटा.

राष्ट्रपति चुनाव में दख़ल के लिए पुतिन ज़िम्मेदार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह 2016 के अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में दख़लअंदाज़ी के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन को निजी तौर पर ज़िम्मेदार मानते हैं.

ट्रंप ने अमरीकी टीवी से बातचीत में कहा कि उन्होंने हेलसिंकी शिखर सम्मेलन के दौरान यह बातें स्पष्ट कर दी थीं और कहा था कि रूस की दख़लअंदाज़ी बंद होनी चाहिए.

हालांकि, ट्रंप का यह बयान पुतिन के साथ हुए संयुक्त प्रेस कॉन्फ़्रेंस से अलग है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)