प्रेस रिव्यू: दिल्ली में भूख से तीन बच्चियों की मौत!

  • 26 जुलाई 2018
गेहूं इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सांकेतिक तस्वीर

दिल्ली में एक परिवार की तीन बेटियों की भूख से मौत हो गई है. द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक तीनों बच्चियों की उम्र दस साल से कम है.

खबर में दावा किया गया है कि भूख और कुपोषण से पीड़ित इन बच्चियों को अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन उनकी मौत पहले ही हो चुकी थी. अखबार ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से लिखा है कि बच्चियों के पेट में अन्न का एक दाना नहीं था. आठ वर्षीय मानसी, पाँच वर्षीय पारो और दो वर्षीय सूखो को लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल ले जाया गया था. अस्पताल की चिकित्सा निदेशक डॉक्टर अमिता सक्सेना ने बच्चियों के भूख से मरने की पुष्टि की है.

बच्चियों के पिता का नाम मंगल है और वो रिक्शा चलाते हैं. उनकी मां की मानसिक हालत कमज़ोर बतायी जा रही है. वो दिल्ली के मंडावली इलाक़े की एक झुग्गी में किराए के कमरे में रहते थे.

किराया न चुका पाने की वजह से उन्हें घर से निकाल दिया गया था. मंगल का रिक्शा दो सप्ताह पहले चोरी हो गया था जिसके बाद से वो कोई काम नहीं कर पा रहे थे. घर में पैसे न आने की वजह से खाना नहीं बन पा रहा था.

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने घटना की मजिस्ट्रेट जाँच के आदेश दिए हैं.

असमः नागरिकता रजिस्टर से ग़ायब लोगों को दावा करने का मौका

केंद्र सरकार का कहना है कि जिन लोगों का नाम असम के नागरिकता रजिस्टर में नहीं है उन्हें अपने दावे पेश करने का मौका दिया जाएगा.

द हिंदू की एक रिपोर्ट के मुताबिक गृह मंत्रालय ने असम सरकार से कहा है कि 30 जुलाई को राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के मसौदे के प्रकाशित होने के बाद असम सरकार या पुलिस को उन लोगों पर तुरंत कोई कार्रवाई नहीं करनी चाहिए जिनके नाम रजिस्टर में ना हों.

असम में बांग्लादेश से आए अवैध नागरिकों की पहचान के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर तैयार किया जा रहा है. इस रजिस्टर के पहले संस्करण में राज्य की कुल 3.29 करोड़ की आबादी में से सिर्फ़ 1.9 करोड़ लोगों के ही नाम थे.

पेटीएम से भारतीयों का डाटा हासिल करेगा चीनः सांसद

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राज्यसभा के लिए नामित सांसद नरेंद्र जाधव ने इंडियन एक्सप्रेस अख़बार से कहा है कि चीन भारतीय डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम के ज़रिए भारतीय नागरिकों का डाटा हासिल कर सकता है.

बुधवार को संसद के शून्यकाल के दौरान जाधव ने चीनी कंपनी अलीबाबा की पेटीएम में हिस्सेदारी की ओर ध्यान आकर्षित करवाया था. जाधव ने कहा कि चीनी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के भारतीय बाज़ार में घुसने से भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा पैदा हुआ है. चीन की कंपनी अलीबाबा की पेटीएम में हिस्सेदारी है.

अधिकारी अंतरधार्मिक विवाहों में रुकावट न डालेंः अदालत

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक हिंदू-मुस्लिम दंपती के अंतरधार्मिक विवाह पर फ़ैसला देते हुए पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा है कि अधिकारी ऐसे मामलों में रुकावटें न पैदा करें.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक अदालत ने कहा कि कोर्ट मैरिज की प्रक्रिया में धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र का बदलता दौर प्रतिबिंबित होना चाहिए और अंतरधार्मिक विवाहों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए.

हरियाणा सरकार के कोर्ट-मैरिज नियमों के ख़िलाफ़ हाई कोर्ट आए एक युगल की याचिका पर जस्टिस राजीव नारायण रैना ने कहा है कि हरियाणा को कोर्ट-मैरिज नियम दंपती की निजता का हनन करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे