एबीपी न्यूज़ चैनल का मामला संसद में गूँजा

  • 3 अगस्त 2018
भारतीय संसद इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले दो दिनों से सोशल मीडिया पर एबीपी टीवी चैनल को लेकर वायरल हो रही ख़बर शुक्रवार को लोकसभा में भी चर्चा में आ गई.

सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने चैनल के मैनेजिंग एडिटर के इस्तीफ़े और एक एंकर को हटाए जाने को सरकार की ओर से मीडिया को 'धमकाने' और 'मुंह बंद' करने का मामला बताया.

खड़गे ने दावा किया कि राज्य सभा के एक सीनियर सदस्य ने संसद के सेंट्रल हॉल में मीडिया को चैलेंज करते हुए कहा था कि अगर आप हमारे विचारों पर नहीं चलेंगे तो हम आपका चैनल बंद करवा देंगे.

इमेज कॉपीरइट AFP

केंद्रीय सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि ये चैनल का आंतरिक मामला है और इससे सरकार का कोई लेना-देना नहीं और उस चैनल की टीआरपी लगातार गिर रही थी और कोई उसे देखना नहीं चाहता था.

राजवर्धन सिंह राठौर ने बिना चैनल या किसी का नाम लिए बग़ैर कहा कि खड़गे जिस चैनल की बात कर रहे हैं उसने पहले ख़बर ग़लत चलाई थी, फिर भी सरकार ने उसे कोई कारण बताओ नोटिस नहीं भेजा और जो कुछ हुआ उसकी वजह चैनल की दर्शकों में गिरती लोकप्रियता रही होगी.

दावे-प्रतिदावे

पिछले दो दिनों से सोशल मीडिया पर ये ख़बर गर्म है कि 'मास्टर स्ट्रोक' नाम के एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के एक दावे को जिस तरह से ग़लत बताया गया था, उसे लेकर चैनल के प्रबंधन पर भारी दबाव था.

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से हुई बातचीत में दावा किया था कि सरकार की स्कीम के कारण चंद्रमणि कौशिक की आमदनी दोगुनी हो गई है. लेकिन एबीपी के रिपोर्टर ने जब छत्तीसगढ़ की इस महिला से बात की तो उसने दावा किया कि उसे अधिकारियों ने प्रधानमंत्री से ऐसा कहने के निर्देश दिए थे.

कार्यक्रम में उस औरत से बात की गई थी जिसकी आमदनी को प्रधानमंत्री की किसानों से सीधी बातचीत में दोगुना होना बताया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption राजवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि आजकल विपक्ष हर बात का आरोप मोदी-शाह पर लगाने की कोशिश करता है

सवालों के घेरे में सरकार

इसके बाद सोशल मीडिया पर बहुत सारे लोग ये शिकायत करते देखे गए कि मास्टर स्ट्रोक प्रोग्राम शुरू होते ही चैनल में रुकावट आने लगती है और वो ठीक से दिखाई नहीं देता.

दो दिन पहले एबीपी न्यूज़ के मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खांडेकर ने इस्तीफ़ा दे दिया था. साथ ही मास्टर स्ट्रोक प्रोग्राम के एंकर पुण्य प्रसून बाजेपेयी ने भी त्यागपत्र दे दिया.

ऐसी भी ख़बरें हैं कि एंकर अभिसार शर्मा को कुछ दिनों के लिए ऑफ़ एयर कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Abpnews

हालांकि इन तीनों में से किसी ने भी अपनी तरफ़ से चैनल में आए इन बदलावों पर कुछ नहीं कहा है, लेकिन इसे लेकर मीडिया पर बढ़ते दबाव और मीडिया के कामकाज को लेकर चर्चा जारी है.

मिलिंद खांडेकर ने भी ट्वीट करके एबीपी न्यूज़ छोड़ने की बात तो की, लेकिन कारणों की कोई चर्चा नहीं की है. चैनल ने भी इस बारे में कुछ नहीं कहा है.

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने एक ट्वीट में कहा है कि मोदी सरकार स्वतंत्र मीडिया को समाप्त करने पर उतारू है, तो कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इसे ऑपरेशन कमल क़रार दिया है.

हालांकि कुछ लोग ये भी सवाल उठा रहे हैं कि जिस कांग्रेस का ख़ुद का दामन भी मीडिया को लेकर दाग़दार है वो भला मोदी की बीजेपी हुकूमत पर ये सवाल खड़ा कर क्या साबित करना चाहती है!

भारतीय मीडिया कितना निष्पक्ष

मीडिया और दलित संघर्ष

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए