क्या चीन को भारतीय मुद्रा छापने का ठेका मिला है?

  • 14 अगस्त 2018
भारतीय मुद्रा इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत सरकार ने उस रिपोर्ट को ग़लत ठहराया है जिसमें कहा गया है कि एक चीनी कंपनी भारतीय करेंसी नोट छापने वाली है.

सोशल मीडिया में इस ख़बर के वायरल होने के बाद भारत ने इसे ''निराधार'' बताया है.

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि एक चीनी कंपनी को अंतरराष्ट्रीय मुद्राएं छापने का ठेका दिया गया है जिसमें भारतीय रुपया भी शामिल है.

ये ख़बर सोशल मीडिया पर तेज़ी से फैली और इस पर लोगों ने नाराज़गी जताई कि इससे राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

भारत चार अति सुरक्षित छापेखानों में अपने करेंसी नोट प्रिंट करता है.

आर्थिक मामलों के विभाग के एक अधिकारी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा, "चीनी कंपनी को भारतीय करेंसी नोट छापने का ऑर्डर दिए जाने से जुड़े रिपोर्ट्स एकदम निराधार हैं. भारतीय करेंसी नोट भारत सरकार और रिज़र्व बैंक के छापेखाने में ही छापे जाते हैं."

क्या भारत में नक़दी की कमी है?

चीनी मीडिया में छपी ये रिपोर्ट भारत में वायरल हो गई और #ChinaPrintingRupee थोड़े समय के लिए ट्रेंड में भी आ गया.

कई यूज़र्स ने सरकार से स्पष्टीकरण की मांग की और दोनों देशों के बीच हाल के तनाव को देखते हुए इस फ़ैसले के औचित्य पर सवाल उठाए.

पिछले साल जून में भारत और चीन के बीच कई हफ़्ते तक तनाव रहा था.

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भारत सरकार से इस पर प्रतिक्रिया की मांग की है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

दिल्ली सरकार के प्रवक्ता समेत दूसरे राजनेताओं ने कहा है कि अगर ऐसा होता है तो भारत की 'वित्तीय संप्रभुता' ख़तरे में पड़ सकती है.

इस रिपोर्ट में जिस कंपनी का ज़िक्र किया गया है उसका नाम है चाइना बैंकनोट प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉरपोरेशन.

ये कंपनी दुनिया का सबसे बड़ा मनी प्रिंटर होने का दावा करती है.

द साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने कंपनी के एक अधिकारी के हवाले से कहा है कि उसने कई देशों के करेंसी नोट छापने का ठेका हासिल कर लिया है जिनमें थाईलैंड, बांग्लादेश, श्रीलंका, मलेशिया, भारत, ब्राज़ील और पोलैंड शामिल हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे