राहुल गांधी विदेश में चीन-चीन करते हैं और सिद्धू पाकिस्तान-पाकिस्तान: भाजपा

  • 23 अगस्त 2018
इमेज कॉपीरइट Sambit Patra/Twitter

भारतीय जनता पार्टी ने जर्मनी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दिए भाषण पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि उन्हें अपनी जानकारी दुरुस्त करनी चाहिए.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को जर्मनी के हैमबर्ग में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था कि भाजपा सरकार ने ग़लत तरीके से नोटबंदी और जीएसटी लागू की, जिससे बेरोज़गारी बढ़ी और लोगों के अंदर पनपे ग़ुस्से के कारण लिंचिंग की घटनाएं होने लगी हैं.

इसके जवाब में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि उनकी सरकार के दौरान भारत में मोबाइल का उत्पादन बढ़ा है और लोगों की ग़रीबी दूर हो रही है.

उन्होंने कहा, "आईएमएफ़ ने कहा है कि मोदी सरकार की नीतियों के कारण आने वाले 30 सालों तक भारत विश्व का आर्थिक इंजन रहेगा. ब्रूकिंग रिपोर्ट के मुताबिक हर मिनट भारत में 44 लोग ग़रीबी रेखा से ऊपर उठ रहे हैं. क्या ये कोई छोटी बात है? पिछले ढाई सालों में पांच करोड़ हिंदुस्तानियों को ग़रीबी रेखा से ऊपर उठाने का काम किया है."

इमेज कॉपीरइट Rahul Gandhi/Twitter

हालांकि पात्रा ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर कुछ भी नहीं बोला.

राहुल ने अपने भाषण में आरोप लगाया था कि भाजपा की सरकार में ग़रीबों और दलितों पर अत्याचार बढ़े हैं. उनका कहना था कि विश्व में कहीं भी लोगों को विकास की प्रक्रिया से दूर रखा जाता है तो आईएस (इस्लामिक स्टेट) जैसे गुटों को बढ़ावा मिलता है.

चिंताजनक

इस पर संबित पात्रा ने कहा, "राहुल गांधी ने विदेशी धरती पर आतंकवाद और इस्लामिक स्टेट को जिस तरह से सही ठहराया है, उससे भयावह और चिंताजनक कुछ नहीं हो सकता है."

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने अपने भाषण में झूठ और ग़लत तथ्यों का इस्तेमाल किया था.

Image caption कथित गौरक्षकों द्वारा मारे गए रकबर की पत्नी

कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया था कि भाजपा की सरकार में दलितों को सुरक्षा देने वाले और भोजन के अधिकार के क़ानूनों को कमज़ोर किया गया.

पात्रा ने कहा, "क्या राहुल को पता है कि सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद सरकार नया क़ानून लेकर आई है. दलितों के हित के लिए कांग्रेस से बेहतर क़ानून मॉनसून सत्र में लाया गया था."

उन्होंने राहुल को सलाह दी कि उन्हें तथ्यों का अध्ययन करना चाहिए, फिर बोलना चाहिए.

संबित पात्रा ने कहा, "कांग्रेस की सरकार में महज 11 राज्यों में भोजन का अधिकार था. लेकिन मोदी सरकार में इस क़ानून को पूरे देश में लागू किया गया."

मनरेगा पर उन्होंने कहा "कांग्रेस के समय मनरेगा विफलता की एक कहानी थी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में यह सफलता की एक कहानी बन पाई है."

उन्होंने कहा, "भाजपा सरकार में 15 दिनों के अंदर ग्रामीणों को वेतन मिल जाता है जबकि कांग्रेस के वक़्त में उन्हें महीनों पैसे नहीं मिलते. भाजपा सरकार के दौरान मनरेगा के तहत 56% महिलाओं को रोज़गार मिला."

संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी ने विदेशी धरती पर देश का बदनाम किया है. उन्होंने वहां कोशिश की कि हिंदुस्तान को कम से कम कैसे आंका जाए. हिंदुस्तान को एक तुच्छ देश के रूप में पूरे विश्व के सामने कैसे दिखाया जाए.

राहुल गांधी ने अपने भाषण में चीन की प्रशंसा करते हुए कहा था कि चीन हर 24 घंटे में 50 हज़ार नौकरियां देता है.

इमेज कॉपीरइट PTI

इस पर संबित ने पूछा कि आख़िर ये आंकड़े राहुल गांधी कहां से लाए हैं.

उन्होंने कहा, "क्या ये आंकड़े 10 जनपथ पर बनाए गए हैं? राहुल गांधी बिना कोई तैयारी के बोलते हैं. जर्मनी में आप चीन-चीन कर रहे थे. राहुल विदेशी जमीन पर चीन चीन करते हैं और सिद्धू पाकिस्तान-पाकिस्तान करते हैं. क्या यहां कांग्रेस के अंदर कोई हिंदुस्तान-हिंदुस्तान करने वाला है भी या नहीं? राहुल गांधी विदेश में चीन-चीन करते हैं और सिद्धू पाकिस्तान-पाकिस्तान."

ये भी पढ़ें:क्या प्राचीन भारत का हिंदू वाक़ई सहिष्णु था?

'हमारे माथे पर कहीं नहीं लिखा है कि हम पाकिस्तानी हैं'

बीजेपी सरकार से क्यों ख़फ़ा है ये हिंदू गांव?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए