प्रेस रिव्यू: लालू, राबड़ी और तेजस्वी के खिलाफ चार्जशीट दायर

  • 25 अगस्त 2018
लालू और तेजस्वी इमेज कॉपीरइट PTI

भ्रष्टाचार के तीन मामलों में दोषी करार बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ गई हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय ने आईआरसीटीसी घोटाला मामले में लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेजस्वी यादव समेत 16 लोगों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दायर कर दी है.

ईडी ने आरोप लगाया कि लालू प्रसाद यादव समेत आईआरसीटीसी के अधिकारियों ने अपने पद का दुरुपयोग किया.

लालू और उनके परिवार के ख़िलाफ़ दाखिल आरोपपत्र पर बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा, "इस मामले से जुड़े इतने पुख्ता सबूत हैं कि कोई भी नहीं बचेगा. इन लोगों ने बिहार को लूटा और सत्ता का दुरुपयोग किया है."

सुशील मोदी ने आरोप लगाया, "इन लोगों ने 3 एकड़ जमीन को तेजस्वी के लिए हड़प लिया जिससे वहां पर 750 करोड़ मॉल बनाया जा सके."

इसके अलावा झारखंड हाई कोर्ट ने मेडिकल ग्राउंड पर लालू यादव की पैरोल बढ़ाने से इनकार कर दिया और उन्हें 30 अगस्त तक सरेंडर करने का आदेश दिया है. लालू यादव 10 अप्रैल से पैरोल पर हैं.

प्रवर्तन निदेशालय ने सील किया लालू परिवार का मॉल

इमेज कॉपीरइट AFP

'71 साल बाद भी दलितों पर दबंगों का अत्याचार नहीं रुका'

2010 के मिर्चपुर दलित हत्याकांड में दिल्ली हाईकोर्ट ने 33 लोगों को दोषी करार दिया है, जिनमें से 12 को उम्रकैद की सज़ा सुनाई गई है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक हरियाणा के हिसार ज़िले के मिर्चपुर गांव में अप्रैल 2010 में 60 साल के एक बुज़ुर्ग दलित और उनकी दिव्यांग बेटी को ज़िंदा जला दिया गया था.

अदालत ने कहा कि जाट समुदाय के लोगों ने वाल्मीकि समुदाय के सदस्यों के घरों को जानबूझकर निशाना बनाया.

दिल्ली हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार से कहा है कि दोषियों पर लगाए गए 13 लाख रुपए के जुर्माने का इस्तेमाल पीड़ितों के पुनर्वास में किया जाए.

पीठ ने अपने फैसले में कहा कि 71 साल बाद भी दबंग जातियों के लोगों द्वारा अनुसूचित जाति से संबंधित लोगों के खिलाफ अत्याचार की घटनाओं में कमी के कोई संकेत नहीं दिखते हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

अवैध निर्माण पर सरकार से जवाब तलब

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिल्ली समेत देश भर में अवैध निर्माण पर गहरी चिंता जताई है. कोर्ट ने कहा कि अवैध रूप से बनी इमारतों में लोग मर रहे हैं

नवभारत टाइम्स के मुताबिक कोर्ट ने कहा कि इन अवैध निर्माण करने वालों को लगता है कि कभी न कभी वह वैध हो जाएगा.

कोई क्लियरेंस नहीं है फिर भी आश्चर्यजनक रूप से बहुमंज़िला इमारतें खड़ी होती जा रही हैं. सरकार क्या कर रही है?

नेताओं के रंग-ढंग बताएगा मोबाइल ऐप

आम लोग अब अपने मोबाइल फोन पर एक नया एप्लिकेशन डाउनलोड कर प्रत्येक नेता की रेटिंग तय कर सकेंगे.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को नेता ऐप (नेशनल इलेक्टोरल ट्रांसफारमेशन एप्लिकेशन) को लॉन्च किया.

जनसत्ता के मुताबिक इस ऐप के ज़रिए जनता को किसी भी चुनाव में वोट डालने से पहले यह मालूम होगा कि उनके क्षेत्र में चुनाव लड़ रहे किस नेता की क्या रेटिंग है.

किस नेता ने जनता से किए वादों को पूरा किया है और किसने खोखली बयानबाज़ी की है.

इतना ही नहीं नया मोबाइल ऐप राजनीतिक दलों को अपना उम्मीदवार चुनने में भी मददगार साबित होगा.

इमेज कॉपीरइट AISAN GAMES/TWITTER

भारत से हटाई गई शैलजा ने ईरान को बनाया चैंपियन

कबड्डी में पुरुष टीम की हार के बाद शुक्रवार को महिलाओं को भी ईरान से 27-24 से हार झेलनी पड़ी.

ये एशियन गेम्स में पहला मौका है जब भारत को दोनों वर्गों में गोल्ड नहीं मिला.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक ईरान की जीत के पीछे रहीं भारत की शैलजा जैन, जो 18 महीने पहले तक भारतीय टीम की कोच थीं. शैलजा बताती हैं, "कबड्डी फेडरेशन ने मुझे हटा दिया था. एक भारतीय होने के नाते मुझे दुख है कि भारत को गोल्ड नहीं मिला. लेकिन, बतौर प्रोफेशनल मैं सिर्फ ईरान की टीम का भला सोचती हूं."

वो बताती हैं, "मैंने ईरान की खिलाड़ियों की दिनचर्या में योग और प्राणायाम को शामिल किया, जिससे उन्हें काफी फायदा हुआ."

इमेज कॉपीरइट SHARAD BADE/BBC

भारत में पैदा हुए पहले पेंगुइन की मौत

एक हफ्ते पहले ही मुंबई के चिड़ियाघर में भारत का पहला पेंगुइन पैदा हुआ था. लेकिन उसकी मौत हो गई है.

हिंदुस्तान टाइम्स अखबार के मुताबिक लीवर ठीक से काम ना करने समेत कई समस्याओं की वजह से बच्चे की मौत हुई.

साल 2016 में दक्षिण कोरिया से सात पेंगुइन भारत लाए गए थे. उनमें से एक की भी मौत हो गई थी, जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था.

दुनिया में हर रोज़ कितने जानवर पैदा होते हैं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे