भैंस चोरी के आरोप में मॉब लिंचिंग का शिकार हुआ शाहरुख़

  • 30 अगस्त 2018
शाहरुख़ का फ़िरोज़ ख़ान इमेज कॉपीरइट Manveer Singh
Image caption शाहरुख़ का फ़िरोज़ ख़ान

उत्तर प्रदेश के बरेली ज़िले में कुछ लोगों ने एक युवक को कथित तौर पर भैंस चुराने के आरोप में पीट-पीटकर मार डाला. पुलिस ने इस मामले में क़रीब दो दर्जन अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ हत्या का केस दर्ज किया है, लेकिन अभी तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं हुई है.

घटना बरेली के कैंट थाना क्षेत्र के डिंडोलिया गांव की है.

बरेली के नगर पुलिस अधीक्षक अभिनंदन सिंह के मुताबिक, "शाहरुख और उसके तीन दोस्त भैंस चुरा कर भाग रहे थे. गांव वालों ने उन्हें दौड़ा लिया. रास्ते में पानी भरा होने के कारण अन्य लड़के तैरकर भाग गए, लेकिन शाहरुख़ को तैरना नहीं आता था इसलिए वो गांववालों की पकड़ में आ गया और कई लोगों ने उसकी पिटाई कर दी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में भी अंदरूनी हिस्सों में मॉब लिंचिंग की वजह से ज़्यादा चोटें आने की पुष्टि हुई है."

पुलिस ने शाहरुख़ के भाई की तहरीर पर हत्या के आरोप में 20 से 25 अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया है. एसपी सिटी अभिनंदन सिंह ने बताया कि जिसकी भैंस चोरी हुई थी, उसकी तरफ़ से शाहरुख़ के साथियों के ख़िलाफ़ भी भैंस चोरी का केस दर्ज किया गया है.

बताया जा रहा है कि 17 वर्षीय शाहरुख़ दुबई में काम करते थे और बकरीद के मौक़े पर घर आए थे. शाहरुख़ के भाई फ़िरोज़ ख़ान ने बीबीसी को बताया, "मंगलवार की शाम मोहल्ले के ही दो-तीन लड़के उसे अपने साथ ले गए. वो देर रात तक घर नहीं आया. बुधवार की सुबह कैंट थाने के लोग हमारे घर आए कि शाहरुख़ ज़िला अस्पताल में भर्ती है. हम देखने गए तो उसकी सांसें चल रही थी, लेकिन वो कुछ बोल नहीं पाया."

'भैंस चोरी के आरोप पर यकीन नहीं'

इमेज कॉपीरइट Manveer Singh

फ़िरोज़ का कहना है कि भैंस चुराने की बात पर उन्हें यक़ीन नहीं है क्योंकि वो तो दुबई में कमाता था और कुछ ही दिन के बाद फिर जाने वाला था, ऐसे में वो भैंस क्यों चुराएगा.

फ़िरोज़ के मुताबिक, "उसके दोस्त अपने साथ लेकर गए थे. जब लड़ाई-झगड़ा हुआ तो दोस्त भाग गए. पकड़ में आने पर और अकेला पाकर लोगों ने उसकी लाठी-डंडों से पिटाई की."

फ़िरोज़ के मुताबिक शाहरुख़ पांच भाई और दो बहनों में सबसे छोटा था, फ़िरोज़ ने बताया, "पिता बीमार रहते हैं और खिलौने बेचने का काम करते हैं. हम सभी लोग छोटे-मोटे काम करके अपना पेट पालते हैं लेकिन कभी किसी के यहां कोई चोरी नहीं की. शाहरुख़ तो वैसे भी बहुत सीधा था."

भारत में मॉब लिंचिंग को ऐसे देख रहा विदेशी मीडिया

इमेज कॉपीरइट Manveer Singh

वहीं, गांव के कुछ लोगों का कहना है कि शाहरुख़ को अपने साथ ले जाने वाले माजिद और कुछ अन्य लोग भैंस चोरी जैसी घटनाओं में पहले भी शामिल रहे हैं. पुलिस भी सभी पहलुओं की जांच कर रही है. गांव में घटना के बाद तनाव को देखते हुए एहतियातन बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है.

परिवारवालों और गांव के लोगों का आरोप है कि पुलिस ने पहले इस घटना को गंभीरता से लिया ही नहीं, लेकिन जब शाहरुख़ की मौत हो गई तब जाकर घटना की रिपोर्ट दर्ज की गई.

इमेज कॉपीरइट Manveer Singh
Image caption बरेली के नगर पुलिस अधीक्षक अभिनंदन सिंह

बरेली के स्थानीय पत्रकार मनवीर सिंह बताते हैं, "पहले तो पुलिस ये मानने को तैयार ही नहीं थी कि शाहरुख की मौत मॉब लिंचिंग की वजह से हुई है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने इस बात को स्वीकार किया और ख़ुद एसपी सिटी ने पत्रकारों को ये जानकारी दी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि गांव वालों ने शाहरुख़ की बड़ी बेरहमी से पिटाई की जिससे उसके शरीर में काफी चोटें आईं और अगले ही दिन उसकी मौत हो गई. मौत न हुई होती तो शायद पिटाई की रिपोर्ट दर्ज ही न हुई होती और मामला सिर्फ़ भैंस चोरी का बताकर रफ़ा-दफ़ा कर दिया जाता."

मोदी राज में 'जीने का अधिकार' गायों के लिए: ओवैसी

भैंस चुराने के शक़ में युवक की पीट-पीटकर हत्या

गौरक्षा के नाम पर रकबर की पीट-पीटकर हत्या

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक,ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए