तमिलनाडु: 'फ़ासीवादी भाजपा' का नारा लगाने वाली छात्रा को मिली ज़मानत

  • 4 सितंबर 2018
तमिलनाडु, भाजपा फासीवाद इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

भारतीय जनता पार्टी के ख़िलाफ नारा लगाने वाली तमिलनाडु के तूतिकोरिन की छात्रा को ज़मानत मिल गई है.

सोफ़िया ने सोमवार को तूतिकोरिन एयरपोर्ट पर भाजपा अध्यक्ष तमिलइसई सौंदरराजन के सामने नारे लगाए थे, जिसके बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया था.

वो अपने मां-बाप के साथ चेन्नई से तूतिकोरिन जा रही थीं. भाजपा अध्यक्ष भी उसी हवाई जहाज से सफर कर रही थीं.

सोफ़िया हवाई जहाज़ के भीतर सौंदरराजन के कुछ दूर पर बैठी थीं. सफ़र के दौरान वो अपनी मां के साथ केंद्र सरकार की कुछ कार्रवाई की आलोचना कर रही थी.

तूतिकोरिन एयरपोर्ट पर उतरने के बाद उन्होंने भाजपा को फासीवाद कहते हुए मुर्दाबाद के नारे लगाए, जिसपर भाजपा अध्यक्ष और उनके कुछ लोगों ने आपत्ति जताई.

इमेज कॉपीरइट facebook

इस पर सोफ़िया ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हवाला दिया, जिसके बाद भाजपा अध्यक्ष ने पुलिस ने शिकायत दर्ज कराई.

सोफ़िया के वकील अतिशय कुमार ने बीबीसी से कहा कि तमिलइसई सौंदरराजन ने सोफ़िया को माफी मांगने को कहा, जिससे उन्होंने इनकार कर दिया.

गिरफ़्तार किए जाने के बाद सोफिया ने आरोप लगाया कि भाजपा अध्यक्ष के लोगों ने उनके साथ ग़लत व्यवहार किया.

सोफ़िया को पहले महिला जेल भेजा गया. वहां उन्हें पेट दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल ले जाया गया.

तूतीकोरिन एयरपोर्ट से बाहर रिपोर्टरों से बात करते हुए तमिलइसई सौंदरराजन ने कहा कि उन्हें शक है कि उस लड़की के पीछे कोई संगठन है.

डीएमके के अध्यक्ष एमके स्टालिन ने गिरफ़्तारी के मामले की आलोचना की थी और एक ट्वीट में उन्हें तुरंत छोड़े जाने की मांग की थी.

उन्होंने ट्वीट किया, "ऐसा कहने वाले लोगों को गिरफ़्तार करना है तो आप कितने लाख लोगों को गिरफ़्तार कर पाएंगे? मैं भी यह कहता हूं- भाजपा के फासीवाद शासन का अंत हो."

सोफिया कनाडा में शोध की छात्रा हैं. कई भारतीय वेबसाइट उनके विचारों को प्रकाशित करती हैं.

सोफिया और भाजपा अध्यक्ष के बीच हुई तीखी बहस की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और इस संदर्भ में कई ट्वीट भी किए जा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे