कोलकाता में गिरा पुल, कई गाड़ियां दबीं

  • 4 सितंबर 2018
कोलकाता इमेज कॉपीरइट SANJAY DAD

दक्षिण कोलकाता के माझेरहाट ब्रिज का एक हिस्सा गिर गया है. इसमें अब तक एक व्यक्ति की मौत की पुष्टि हुई है और 21 लोग ज़ख़्मी हुए हैं. ब्रिज के नीचे अभी तीन से चार लोगों के दबे होने की आशंका है. राहत बचाव कार्य अब भी जारी है.

मलबे में कई गाड़ियां दबी दिख रही थीं. चश्मदीदों का कहना है कि हादसा शाम में पौने पांच बजे के आसपास हुआ.

कोलकाता के स्थानीय पत्रकार प्रभाकर एम ने बीबीसी को बताया कि पुल के नीचे एक बस, कई कारें और मोटरसाइकिलें दबी हैं. यह ब्रिज अलीपुर और बेहला इलाक़े को जोड़ता है.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपए और घायलों को एक-एक लाख रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है.

यह बहुत ही व्यस्त इलाक़ा है और ट्रैफ़िक के कारण वहां काफ़ी भीड़भाड़ रहती है. इस पुल के नीचे से एक रेलवे लाइन गुज़रती है. रेलवे लाइन पर ही पुल का मलबा गिरा है जिससे यह रेल मार्ग भी बंद हो गया है. इस पुल को 40 साल पुराना बताया जा रहा है.

लगभग ढाई साल पहले पोस्ता इलाक़े में एक निर्माणाधीन पुल के टूटने के बाद यह इस तरह का दूसरा हादसा है. दार्जीलिंग के दौरे पर गईं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी वहीं से राहत और बचाव कार्यों का जायज़ा रही हैं. उनके देर रात यहां लौटने की संभावना है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ममता के निर्देश पर शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम और कोलकाता नगर निगम के मेयर शोभन चटर्जी भी मौक़े पर पहुंचे थे.

ममता ने दार्जीलिंग में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राहत और बचाव कार्य सरकार की प्राथमिकता है.

यह हादसा उस समय हुआ जब लोग दफ्तरों से घर लौट रहे थे. वह ब्रिज महानगर के व्यस्ततम ब्रिजों में शामिल है और उस पर हमेशा भारी ट्रैफिक रहता है.

दोपहर बाद हुई भारी बारिश से ब्रिज का एक हिस्सा 100 मीटर नीचे खिसक गया था. कम-से-कम आठ घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

टीएमसी नेता और राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने ट्वीट किया है, ''राहत और बचाव दल मौक़े पर पहुंच चुका है, दमकलकर्मी भी पहुंच चुके हैं, क्रेन भी मौक़े पर पहुंच चुकी है.''

कई स्थानीय लोग ट्वीट कर रहे हैं, सौमिक दास ने ट्वीट किया, ''माजेरहाट पुल टूट कर गिरा, कई लोगों की मौत होने की आशंका है...कोलकाता में एक और पुल हादसा''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे