50 करोड़ का लंचबॉक्स और चाय का प्याला चोरी

  • 5 सितंबर 2018

हैदराबाद पुलिस के पास एक अनोखा केस आया है, जिसके लिए उसे इतिहास में झांकना पड़ेगा.

केस है सोने के लंच बॉक्स की चोरी का. ये डिब्बा सिर्फ़ सोना से ही नहीं बना है, बल्कि इसमें नायाब हीरे-मोती भी जड़े हुए हैं.

इस लंचबॉक्स के अलावा हैदराबाद के अंतिम निज़ाम मीर उस्मान अली ख़ान का नीलम-जड़ा सोने का चाय का एक प्याला, तश्तरी और चम्मच भी चोरी हो गया है.

चोरी किए गए सामान का भार तीन किलोग्राम है और इसकी क़ीमत करीब 50 करोड़ रुपए बताई जा रही है.

पुलिस को चोरी का पता सोमवार सुबह लगा. शक है कि चोरी रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात को हुई.

ये सारा सामान निज़ाम संग्रहालय से चोरी हुआ है. यही संग्रहालय पहले निज़ाम का महल हुआ करता था.

10 साल पहले शाही परिवार की एक तलवार भी शहर के एक अन्य संग्रहालय से चोरी हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मीर उस्मान अली ख़ान एक ज़माने में दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति थे.

सीसीटीवी से छेड़छाड़

पुलिस ने बीबीसी तेलुगू सेवा को बताया कि उन्हें इस वारदाता को लेकर दो लोगों पर शक है.

इस शख़्स ने चार महीने में चुराए 120 टीवी!

लक्ज़री कार चुरा के ले जा रहे थे गधे!

ख़बरों के मुताबिक़ पुलिस ने स्थानीय पत्रकारों को बताया है कि चोरों ने म्यूज़ियम के सीसीटीवी कैमरों से छेड़छाड़ की थी ताकि उनकी चोरी की रिकॉर्डिंग न हो सके.

जिस कांच के दरवाज़े के उस पार ये सामान था, उस दीवार को तोड़ने के बजाय, बड़ी नफ़ासत के साथ खोला गया था ताकि कांच टूटने की आवाज़ न आए.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
ऐंटवर्प - नीरव मोदी पर बात करने से बच रहे हीरा व्यापारी

निज़ाम म्यूज़ियम को साल 2000 में जनता के लिए खोला गया था. इस म्यूज़ियम में मीर उस्मान अली ख़ान को साल 1967 में मिले कुछ बहुमूल्य उपहार भी रखे गए हैं.

साल 1967 में आख़िरी निज़ाम का निधन हो गया था.

निज़ाम के पास कई बेशकीमती हीरे-जवाहरात थे, जिनमें अंडे के साइज़ का जैकब्स डायमंड भी शामिल था.

13 साल पहले चोरी हुईं रूबी जड़ित सैंडल वापस मिलीं

कहाँ और क्यों चोरी हो रहे हैं उल्लू और बाज़

मौत के 50 बरस बाद क्यों याद आए निज़ाम?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे