अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल अस्पताल में भर्ती

  • 7 सितंबर 2018
इमेज कॉपीरइट Getty Images

पिछले 14 दिनों से अनशन पर बैठे गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पाटीदारों के नेता नरेश पटेल ने हार्दिक से मिलकर अनशन तोड़ने का आग्रह किया, जिसके बाद उन्हें एंबुलेंस में बिठाकर सोल सिविल अस्पताल ले जाया गया.

हालांकि हार्दिक पटेल की ओर से अनशन तोड़े जाने की कोई घोषणा नहीं हुई है.

गुजरात सरकार ने हार्दिक के अनशन को कांग्रेस द्वारा प्रायोजित विरोध बताया है और सरकार गिराने की साजिश क़रार दिया है.

शत्रुध्न सिन्हा, यशवंत सिन्हा के अलावा आप और टीएमसी के कई नेता पिछले कुछ दिनों में हार्दिक से मिलने आ चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/HARDIK PATEL

क्या है हार्दिक की मांग?

25 अगस्त से अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल ने सरकार के सामने तीन मांगे रखी हैं. वो पटेलों के लिए आरक्षण, गुजरात के किसानों के लिए लोन की माफ़ी और अल्पेश कठेरिया को रिहा करने की मांग कर रहे हैं.

मैं मर भी जाऊं तो भाजपा को क्या फर्कः हार्दिक

अनशन के दौरान वो लगातार भाजपा पर हमले करते रहे. गुरुवार को उन्होंने ट्वीट किया, "गोधरा कांड के गुंडे गुजरात के भाजपा वाले मैं मर जाऊं उनको क्या फर्क पड़ेगा, हज़ारों लोगों की हत्या करके तो सत्ता प्राप्त की है. 13 दिन के अनशन के बाद भी भाजपावालों ने अभी तक किसानों एवं सबसे बड़े पटेल समुदाय के बारे कुछ सोचा भी नहीं है और बोले भी नहीं. कोई बात नहीं चुनाव भी आ रहा है."

दूसरी तरफ़ गुरुवार को ही यह भी ख़बर आई कि गुजरात हाईकोर्ट हार्दिक पर 2015 में दर्ज राजद्रोह के मामले में उन्हें आरोपमुक्त करने की याचिका पर 9 अक्तूबर को आख़िरी सुनवाई करेगा.

हार्दिक पटेल ने मामले से आरोपमुक्त किए जाने को लेकर अप्रैल में याचिका दायर की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे