समलैंगिक संबंधों पर क्या है भारत के पड़ोसी देशों का क़ानून

  • 8 सितंबर 2018
समलैंगिकता इमेज कॉपीरइट Getty Images

धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फ़ैसले के बाद, सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबधों को अपराध की श्रेणी से बाहर करने वाला भारत, नेपाल के बाद दक्षिण एशिया का दूसरा देश बन गया है.

दक्षिण एशिया के ज़्यादातर देश अब भी इसे अपराध मानते हैं.

नेपाल

नेपाल ने समलैंगिक संबंधों को साल 2007 में अपराध की श्रेणी के बाहर किया था. इसके बाद अगस्त 2015 में गे राइट्स एक्टिविस्ट काठमांडू की सड़कों पर संविधान में अपने हक की मांग के लिए उतरे. एक महीने बाद उनकी ये मांग भी मान ली गई.

नेपाल ने अपना नया संविधान सितंबर 2015 में लागू किया था और संवैधानिक रूप से अल्पसंख्यकों को सुरक्षा देने वाला दुनिया का 10वां देश बना.

हालांकि, वहां एक ही सेक्स के लोगों को आपस में शादी करने की इजाज़त नहीं है.

2015 में एक सरकारी कमेटी ने इसे भी क़ानूनी मान्यता देने की सिफ़ारिश की थी, लेकिन अभी तक ये मुमकिन नहीं हो पाया.

क़ानून नहीं होने के बावजूद, रमेश नाथ योगी और एक ट्रांसजेंडर महिला मोनिका शाह ने अगस्त 2017 में शादी की, जिसे नेपाल की पहली एलजीबीटी शादी कहते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP/gETTY IMAGES

पाकिस्तान

समलैंगिक संबंध बनाना पाकिस्तान में अपराध है. एक ही सेक्स के साथ संबंध बनाने पर वहां उम्रक़ैद तक की सज़ा है. पाकिस्तान दंड संहिता की धारा 377 के तहत ये प्रावधान है.

लेकिन, पाकिस्तान ने तीसरे जेंडर को मान्यता देने के लिए साल 2018 में एक क़ानून पास किया था. पाकिस्तान के गे राइट्स एक्टिविस्ट्स का कहना है कि वहां खुलेआम गे होने की बात मानना सुरक्षित नहीं है.

हालांकि, कुछ लोग इस बात से इत्तेफ़ाक नहीं रखते. उनका कहना है कि कराची गे लोगों के लिए जन्नत है. भारत में समलैंगिक संबंधों पर आए फैसले को पाकिस्तान के अख़बारों में ज़्यादा जगह नहीं मिली. ज़्यादातर उदार छवि वाले अखबारों में इस ख़बर को लाइफस्टाइल या रिलेशनशिप के पन्नों पर जगह दी गई.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बांग्लादेश

बांग्लादेश को भी एलजीबीटी के लिए सुरक्षित जगह नहीं माना जाता. समलैंगिक संबंध बानाने पर वहां 10 साल से लेकर उम्रक़ैद तक की सज़ा का प्रावधान है.

देश के दो प्रसिद्ध गे राइट्स एक्टिविस्ट की साल 2016 में हत्या कर दी गई थी. एक साल के बाद पुलिस ने गे और बाईसेक्सुअल लोगों की एक सभा में रेड डाली और उन्हे मीडिया के सामने परेड कराया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

श्रीलंका

बांग्लादेश की तरह श्रीलंका में समलैंगिक संबंध बनाने पर 10 साल से लेकर उम्रक़ैद तक की सज़ा हो सकती है. जनवरी 2017 में इसे अपराध से बाहर करने के प्रस्ताव को वहां की कैबिनेट ने अस्वीकार कर दिया था.

कोलंबो टेलीग्राफ़ नाम के अख़बार ने 2016 में लिखा था, "श्रीलंका का समाज आमतौर पर समलैंगिकों के लिए डरावना है और वो इसमें गर्व भी महसूस करता है." इसके बावजूद वहां सज़ा देने की दर कम है.

लेकिन, मानवाधिकार संगठनों का मानना है कि समलैंगिक लोगों को न सिर्फ आम लोगों से बल्कि पुलिस से भी भेदभाव झेलना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अफ़ग़ानिस्तान

अफ़ग़ानिस्तान में गे होना आसान नहीं है. दो पुरषों के बीच संबंध की स्थिति में लंबे समय तक के लिए जेल में भेजा जा सकता है.

इसके अलावा इस्लामिक क़ानून में समलैंगिकता को अनैतिक और मुस्लिम सभ्यता के ख़िलाफ़ माना जाता है. इसलिए देश के कई हिस्सों में इसे कलंक माना जाता है.

हालांकि, कहा जाता है कि गांवों में ऐसे संबंध आम हैं. ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने 2017 में अफ़ग़ानिस्तान के गे शर्णार्थियों को वापस भेजने का फ़ैसला किया था जिसकी काफ़ी आलोचना हुई थी.

अफ़ग़ानिस्तान एक नए क़ानून के लिए ड्राफ्ट बना रहा है जिससे लड़कों पर होने वाले यौन अत्याचार को रोका जा सके. ऐसे अत्याचार को वहां बच्चाबाज़ी कहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

म्यांमार

ब्रिटिश काल का कानून म्यांमार में भी है जो समलैंगिकों के रिश्तों को मान्यता नहीं देता. वहां भी जुर्माने के साथ 10 साल से लेकर उम्रक़ैद तक की सज़ा का प्रावधान है.

हालांकि, हाल के सालों में किसी को सज़ा होने की बात सामने नहीं आई है. क़ानूनी तौर पर वैध नहीं होने पर भी, म्यांमार में इसे लेकर ख़ुलापन दिखता है.

म्यांमार में फ़रवरी में एलजीबीटी समुदाय की एक परेड हुई थी. यही नहीं रंगून में एलजीबीटी थीम पर एक कैफ़े और रेस्त्रां भी खोला गया है.

चीन

समलैंगिक संबंधों को चीन में 1997 में ही अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया गया था. वहां इसे एक मानसिक बीमारी माना जाता था.

एक ही सेक्स में शादी करने की वहां अब भी इजाज़त नहीं है. हालांकि, ताईवान के उच्चतम न्यायलय ने साल 2017 में ऐसी शादियों की इजाज़त दे दी थी.

दूसरे देशों की तरह यहां भी समलैंगिक लोगों को समाज में भेदभाव का शिकार होना पड़ता है. इसी साल मई में चीन के हूनान टीवी ने कथित तौर पर रेन्बो झंडे को ब्लर करके दिखाया था जिसकी काफ़ी आलोचना हुई थी.

भारतीय सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला चीन की सोशल मीडिया साइट्स साइना वीबो पर ट्रेंड कर रहा था. ज़्यादातर यूज़र्स इस फैसले का स्वागत करते दिखे. लोग इस बात को भी लिख रहे थे कि ये फैसला लेने में चीन भारत से 20 साल आगे रहा.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे