प्रेस रिव्यू: एशियन गेम्स में मेडल लाने वाला खिलाड़ी बेच रहा चाय

  • 8 सितंबर 2018
एशियन गेम्स इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption सफेद कपड़ों में भारतीय एथलीट हरीश कुमार

कई ऐसे एथलीट हैं जिन्होंने आर्थिक तंगी में जीवन बिताने के बावजूद भी देश के लिए कुछ कर दिखाया है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक ऐसे ही एक खिलाड़ी हैं एशियन गेम्स 2018 में ब्रॉन्ज हासिल करने वाले हरीश कुमार, जो दिल्ली के मंजनू का टीला इलाके में चाय की दुकान से अपना घर चलाते हैं.

हरीश ने सेपक टकरा की टीम स्पर्धा में पहली बार देश के लिए कांस्य पदक हासिल किया है. इसके बाद भारत आकर वो फिर से चाय बेचने का काम संभालने लग गए.

उनके पिता किराए पर एक ऑटोरिक्शा चलाते हैं और मां घरों में काम करती हैं. उनके पांच भाई-बहन हैं.

हरीश के बड़े भाई भी क्रिकेट के खिलाड़ी हैं जो कोच तक बन गए थे लेकिन उन्हें एक सड़क दुर्घटना के बाद क्रिकेट छोड़ना पड़ा. उनसे प्रेरणा लेकर हरीश ने भी साइकिल ट्यूब से बनी बॉल से खेलना शुरू किया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मॉब लिंचिंग पर सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी

हिंदुस्तान टाइम्स की ख़बर के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मॉब लिंचिंग रोकने को लेकर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रयासों पर नाराज़गी जताई.

29 राज्यों और 11 केंद्र शासित प्रदेशों में से सिर्फ़ 11 ने मॉब लिंचिंग के मामलों में कदम उठाने के कोर्ट के आदेश को लागू करने के बारे में रिपोर्ट पेश की है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने चेतावनी दी है कि अगर बाकी राज्य एक हफ़्ते में रिपोर्ट नहीं देते हैं तो उनके गृह सचिवों को व्यक्तिगत रूप से अदालत में पेश होना होगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

सभी 13 बदलावों के साथ सिर्फ़ एक रफ़ाफ्रांस से

इंडियन एक्सप्रेस के पहले पन्ने पर रफ़ाएल विमान से जुड़ी ख़बर है. जिसके मुताबिक कुल 36 लड़ाकू विमानों में से भारत को फ्रांस सिर्फ़ एक ही तैयार विमान देगा. ये विमान उन बदलावों से लैस होगा जो भारत ने फ्रांस को सुझाए हैं.

भारत ने रफ़ाएल विमानों में 13 बदलावों की मांग की है.

अख़बार ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के राज्य सभा में दिए एक जवाब का हवाला देते हुए लिखा है कि रफ़ाएल विमान भारत को सितंबर 2019 से मिलने शुरू हो जाएंगे. इसके बाद इनमें ज़रूरतों के अनुरूप बदलाव भारत में ही किया जाएगा.

भारत को सौंपे जाने वाले उस विमान का परीक्षण पिछले महीने फ़्रांस में किया गया है. इसमें अप्रैल 2022 तक आगे अभी और परीक्षण किए जाने बाकी हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

गुस्साई भीड़ ने तीन को पीट-पीटकर मार डाला

जनसत्ता के मुताबिक बिहार के बेगुसराय ज़िले में भीड़ ने स्कूल के अंदर 11 साल की लड़की को अगवा करने की कोशिश कर रहे तीन लोगों को पीट-पीटकर मार दिया.

पुलिस के मुताबिक ये घटना शुक्रवार को छौड़ाही थाना के नारायणपुर गांव में हुई.

बताया जा रहा है कि तीन लोग बंदूक के साथ स्कूल में घुस गए थे और वहां उन्होंने एक लड़की को अगवा करने की कोशिश की. शिक्षकों के विरोध करने पर उन्होंने गोली चला दी थी.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे