जम्मू के कठुआ में फादर पर नाबालिगों के यौन शोषण का आरोप

  • 8 सितंबर 2018
यौन शोषण, नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक बार फिर नाबालिग लड़कियों के यौन शोषण की ख़बर सामने आई है. इस बार यौन शोषण की ये ख़बर जम्मू क्षेत्र के कठुआ ज़िले के एक अवैध हॉस्टल से आई है जहां के केयरटेकर पर वहां रह रही बच्चियों ने यह आरोप लगाया है.

पुलिस ने इस मामले में कठुआ थाने में धारा 376, 323 के साथ-साथ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है.

जब शुक्रवार की शाम को अधिकारियों ने यहां छापा मारा तो इस कथित हॉस्टल (जो कि रजिस्टर्ड नहीं था) में, जम्मू, कठुआ, सांबा और पड़ोसी राज्य पंजाब की बच्चियां रह रही थीं.

वरिष्ठ अधिकारियों की एक टीम ने यहां अचानक छापा मारा और 5 से 15 आयुवर्ग के 20 बच्चों को बचाया जिसमें 8 लड़कियां और 12 लड़के शामिल हैं.

छापे के दौरान अधिकारियों की टीम का नेतृत्व करने वाले कठुआ के असिस्टेंट कमिश्नर (राजस्व) जितेंद्र मिश्रा ने मीडिया से कहा, "यह कठुआ के डिप्टी कमिश्नर (उपायुक्त) के निर्देश पर शुक्रवार की देर शाम को यह छापा मारा गया."

जितेंद्र मिश्रा ने कहा, "ज़िला प्रशासन को शिकायतें मिली थीं जिसके बाद इस 'गैरक़ानूनी घर' पर छापा मारने का फ़ैसला हुआ और नाबालिगों को सुरक्षित निकाला गया."

इमेज कॉपीरइट Mohit Kandhari-BBC

दो घंटे चली छापेमारी

उन्होंने कहा कि दो घंटे चली इस छापेमारी में पुलिस और अधिकारियों ने कंप्यूटर और अन्य रिकॉर्ड जब्त किए.

जितेंद्र मिश्रा ने कहा, "यह कथित हॉस्टल जो पिछले चार सालों से इस इलाके में मौजूद है, वो कठुआ प्रशासन में कहीं भी रजिस्टर्ड नहीं है."

उन्होंने कहा कि बचाए गए बच्चे डरे हुए थे और उन्हें बाल आश्रम और नारी निकेतन में भेज दिया गया है.

मिश्रा ने कहा, "हम उनके माता-पिता से संपर्क करने की प्रक्रिया में हैं और यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि वो यहां कैसे आये थे और साथ ही यह भी कि घर (कथित हॉस्टल) के अंदर किस तरह की गतिविधियां चल रही थीं."

छापा मारने वाली टीम के एक अन्य सदस्य ने कहा, "छापे के दौरान यह भी पता चला कि ये बच्चे इलाके के ही एक सरकारी स्कूल में पढ़ रहे थे और केयरटेकर इन बच्चों के रहने, खाने-पीने की व्यवस्था किया करता था."

इमेज कॉपीरइट Mohit Kandhari-BBC

केयरटेकर केरल के फादर एंथनी

जितेंद्र कुमार के मुताबिक इस कथित हॉस्टल के केयरटेकर की पहचान केरल के फादर एंथनी के रूप में की गई है.

मिश्रा ने कहा, "जब छापे के दौरान फादर एंथनी से कथित हॉस्टल के रजिस्ट्रेशन से जुड़े सबूत मांगे गये तो वो कोई भी दस्तावेज नहीं दिखा सके."

उनकी पत्नी जो इसी घर में रहती हैं, वो छापे के दौरान केरल गई हुई थीं.

अधिकारियों के मुताबिक इस घर से छुड़ाए जाने के दौरान बच्चों ने इस केयरटेकर के ख़िलाफ़ यौन उत्पीड़न की डरावने बातें बताईं.

उन्होंने कहा, "जब बच्चों ने फादर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया उसके बाद केयरटेकर को हिरासत में ले लिया गया."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

नशे की गोलियां भी दिया करता था केयर टेकर

बच्चों ने आरोप लगाया है कि केयर टेकर खाने-पीने की चीज़ों के साथ नाबालिग लड़कियों को नशे की गोलियां दिया करता था.

इस बीच, केयरटेकर के ख़िलाफ़ गंभीर आरोपों को देखते हुए पुलिस ने स्वतः संज्ञान लेते हुए मामले की जांच शुरू कर दी है.

कठुआ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रीधर पाटिल ने बीबीसी से कहा, "छापे के बाद हम मामले की विस्तृत जांच कर रहे हैं."

श्रीधर पाटिल ने कहा, "हम नाबालिग बच्चों के केयर टेकर पर लगाए यौन शोषण के आरोपों की भी जांच कर रहे हैं."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पाकिस्तान की एक महिला की आपबीती

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे