अमरीका के पूर्वी तट पर भयंकर चक्रवात का ख़तरा

  • 11 सितंबर 2018
हरिकेन फ़्लोरेंस इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका के पूर्वी तट पर चक्रवात फ़्लोरेंस के ख़तरे के कारण बड़े पैमाने पर लोगों को सुरक्षित स्थानों की ओर ले जाने का अभियान चलाया जा रहा है. माना जा रहा है कि यह इस क्षेत्र में पिछले कई दशकों में आने वाला सबसे भीषण चक्रवात साबित हो सकता है.

साउथ कैरोलाइना के गवर्नर ने तटीय इलाक़ों में बसे सभी लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने का आदेश दिया है. वहीं नॉर्थ कैरोलाइना और वर्जीनिया में आपातकाल लागू कर दिया गया है.

इस चक्रवात के कारण लाखों लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने की कोशिश की जा रही है.

माना जा रहा है कि यह ख़तरनाक चक्रवात गुरुवार को कैरोलाइना में दस्तक दे सकता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इंटरनेशनल स्पेस सेंटर से ली गई फ़्लोरेंस की तस्वीर

कितना ख़तरनाक है

अधिकारियों का कहना है कि फ़्लोरेंस अब चौथी श्रेणी का तूफ़ान बन गया है और इसके अंदर 195 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार वाली हवाएं चल रही हैं.

फ़्लोरेंस सोमवार सुबह तक दूसरी श्रेणी का तूफ़ान था और यह नॉर्थ कैरोलाइना के दक्षिण पूर्व में स्थित केप फ़ियर से 2000 किलोमीटर दूर था.

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि यह पांचवीं श्रेणी का तूफ़ान बन सकता है क्योंकि इसे अटलांटिक के गर्म पानी से ताक़त मिल रही है.

इमेज कॉपीरइट NOAA
Image caption सरकार की ओर से जारी की गई तस्वीर

नेशनल हरिकेन सेंटर (एनएचसी) ने फ्लोरेंस को 'बेहद ख़तरनाक' मौसमी घटना बताया है. यह तटीय और अंदरूनी इलाक़ों में भारी बारिश और बाढ़ के कारण तबाही मचा सकता है.

एनएचसी ने कहा है, "फ्लोरेंस के कारण जानलेवा प्रभाव पैदा हो सकते हैं. तटों में लहरें उठ सकती हैं और भारी-बारिश के कारण अंदरूनी इलाक़ों में पानी भरने के कारण बाढ़ आ सकती है. चक्रवात की ताक़तवर हवाएं तबाही मचा सकती हैं."

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने इस चक्रवात के कारण शुक्रवार को मिसीसिपी में होने वाली रैली रद्द कर दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे