जालंधर में कम क्षमता वाले चार धमाके

  • 14 सितंबर 2018
जालंधर धमाके इमेज कॉपीरइट PAL SINGH NAULI / BBC

पंजाब के जालंधर में शुक्रवार देर शाम चार सिलसिलेवार धमाके हुए हैं.

जालंधर पुलिस के मुताबिक़, शहर के मकसुदान थाने के पास चार कम क्षमता वाले धमाके हुए. इन धमाकों में मकसुदान थाने के एसएचओ घायल हो गए हैं.

इमेज कॉपीरइट PAL SINGH NAULI / BBC

जालंधर पुलिस कमिश्नर प्रवीण कुमार सिन्हा ने संदेह जताया है कि यह आतंकी हमला भी हो सकता है.

हालांकि अभी किसी भी बात की पुष्टि नहीं हुई है.

सिन्हा ने कहा है कि फ़ोरेंसिक जांच पूरी हो जाने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकेगा.

पुलिस कमिश्नर ने बताया "यह ग्रेनेड अटैक नहीं था, यह एक कम क्षमता वाला विस्फ़ोटक था. हालांकि एक बार फ़ोरेंसिक जांच की रिपोर्ट आ जाने के बाद ही कुछ भी पुख़्ता तौर पर कहा जा सकेगा."

सिन्हा ने बताया कि ये विस्फोट शाम 7:45 से आठ बजे के दौरान एक के बाद एक हुए.

इमेज कॉपीरइट PAL SINGH NAULI / BBC
Image caption जालंधर पुलिस कमिश्नर प्रवीण कुमार सिन्हा

उन्होंने कहा कि घटनास्थल का निरीक्षण करने से पता चला है कि विस्फोटक पुलिस स्टेशन के बाहर फेकें गए.

"जांच के बाद ही पता चल सकेगा कि इस घटना में किस तरह के विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया. विस्फोट के बाद इलाके को सील कर दिया गया है."

विस्फोट की आवाज़ काफी दूर तक सुनी गई, जिसके बाद लोग पुलिस स्टेशन की ओर भागे. हालांकि पुलिस ने घटना के बाद ही पूरे इलाक़े को सील कर दिया है और पूरे शहर में सुरक्षा बढ़ा दी है.

इमेज कॉपीरइट PALL SINGH NAULI / BBC
Image caption हमले में घायल एसएचओ

एक स्थानीय नेता ने बीबीसी को बताया कि ये धमाका पुलिस स्टेशन से क़रीब 300 मीटर की दूरी पर हुआ.

वरिष्ठ पत्रकार सतनाम चाना इस पुलिस स्टेशन से कुछ ही दूरी पर रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट PALL SINGH NAULI / BBC

उन्होंने बताया,"मेरा परिवार ऊपर की मंज़िल पर रहता है. उन लोगों ने धमाके की आवाज़ सुनी. वे सभी बहुत डर गए और फ़ौरन नीचे की ओर भागे."

इन धमाकों में मकसुदान थाने के एसएचओ घायल हो गए हैं.

गुरुग्रामः मस्जिद सील होने के बाद क्या था इलाक़े का माहौल?

कौन हैं वो मुसलमान जिनके दरबार में पहुँचे मोदी

रिहाई के तुरंत बाद 'रावण' ने दी भाजपा को चुनौती

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे