रफ़ाल समझौते की क़ीमत की जांच करेगा कैग: जेटली

  • 24 सितंबर 2018
अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट @arunjaitley

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने फ़्रांस से 36 लड़ाकू विमानों की ख़रीदारी में भ्रष्टाचार के आरोपों को झूठ बताते हुए कहा कि यह समझौता रद्द नहीं होगा.

कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने फ़्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ़्रांस्वा ओलांद के उस बयान को लेकर सरकार पर निशाना साधा है जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत की वर्तमान सरकार ने ही अनिल अंबानी की रिलायंस को इस समझौते में घरेलू कंपनी के तौर चुना था.

हालांकि जेटली ने कहा कि कैग इस समझौते की क़ीमत की जांच करेगी कि एनडीए का रफ़ाल समझौता अच्छा है या यूपीए का समझौता अच्छा था.

जेटली ने यह भी कहा कि रफ़ाल लड़ाकू विमान बनाने वाली कंपनी डेसो के एमओयू में रिलायंस फ़रवरी 2012 में ही शामिल हो गई थी और तब कांग्रेस की ही सरकार थी. जेटली ने कहा कि राहुल को इस आधार पर अपनी सरकार की भी आलोचना करनी चाहिए.

भारत के रफ़ाल से क्या डर जाएंगे चीन और पाकिस्तान?

इमेज कॉपीरइट @AmitShah

मनोहर पर्रिकर ही रहेंगे गोवा के मुख्यमंत्री

भारतीय जनता पार्टी गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बीमार होने के बावजूद कोई नया मुख्यमंत्री नहीं बनाएगी. बीजेपी प्रमुख अमित शाह ने कहा है कि गोवा के नेतृत्व से बातचीत के बाद फ़ैसला लिया गया है कि मनोहर पर्रिकर मुख्यमंत्री बने रहेंगे. शाह ने कहा कि मंत्रिमंडल में परिवर्तन होगा और कई लोगों के विभाग बदले जाएंगे.

पर्रिकर को 15 सितंबर को दिल्ली के एम्स में भर्ती किया गया था. पर्रिकर ने ख़ुद ही सीएम पद पर बने रहने में असमर्थता जताई थी. गोवा में बीजेपी नेतृत्व के संकट से जूझ रही है. पर्रिकर के अलावा दो और मंत्री फ़्रांसिस डिसुज़ा और पांडुरंग मदकाइकर भी बीमारी के कारण अस्पताल में भर्ती हैं.

गोवा की राजनीति में मनोहर पर्रिकर के बाद कौन?

इमेज कॉपीरइट @yadavakhilesh

बेटे अखिलेश की रैली में शामिल हुए मुलायम

समाजवादी पार्टी पूर्व प्रमुख और वर्तमान प्रमुख अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह अपने बेटे की एक रैली में शामिल हुए. इस रैली में अखिलेश, मुलायम और रामगोपाल यादव एक मंच पर दिखे. हाल ही में मुलायम सिंह के भाई शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया था और उन्होंने मुलायम के समर्थन का दावा किया था.

2016 में मुलायम सिंह यादव के परिवार में आई दरार के बाद पहली बार मुलायम सिंह, अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव एक मंच पर दिखे. 2016 में राज्य विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच मतभेद खुलकर सामने आए थे.

'मुलायम सोचते थे घुटनों पर होंगे अखिलेश लेकिन...'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'बातचीत की पेशकश को कमज़ोरी न समझे भारत'

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा है कि भारत बातचीत की पेशकश को पाकिस्तान की कमज़ोरी ना समझे. इमरान ने कहा है कि पाकिस्तान के बातचीत के प्रस्ताव को ठुकराकर भारत ने अपनी अकड़ का ही परिचय दिया है.

ख़ान ने कहा, ''मुझे उम्मीद है कि भारतीय नेतृत्व अपने अहम को कम करेगा और बातचीत की प्रक्रिया आगे बढ़ेगी. बातचीत के प्रस्ताव को कमज़ोरी के तौर पर नहीं देखना चाहिए क्योंकि दोनों देशों के बीच अमन से ही ग़रीबी के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ी जा सकती है.''

ख़ान ने कहा कि पाकिस्तान इस मामले में किसी भी तरह के दबाव के सामने नहीं झुकेगा. भारत ने नियंत्रण रेखा पर बीएसएफ़ के एक जवान के सिरकलम के बाद न्यूयॉर्क में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की प्रस्तावित बैठक को रद्द करने का फ़ैसला किया है.

'जीत' के बाद इमरान ख़ान ने भारत के बारे में क्या कहा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ईरान अमरीका में बढ़ा तनाव

संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी राजदूत निकी हेली ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी पर बेहद तल्ख़ टिप्पणियां कीं. उन्होंने कहा कि रूहानी को शनिवार को सैन्य परेड के दौरान हुए हमले लिए अमरीका को ज़िम्मेदार ठहराने के बजाय 'ख़ुद को आईने में देखना चाहिए.'

उन्होंने कहा, ''हसन रूहानी ख़ूब बढ़-चढ़कर बातें कर रहे हैं. अमरीका इस तरह किए गए किसी भी आतंकी हमले की निंदा करता है, चाहे वो कहीं भी हो. मुझे लगता है कि रूहानी को अपने भीतर झांकना चाहिए. ईरान में लोग उनके ही ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे हैं, वो लंबे वक़्त से अपने ही लोगों का दमन करते आ रहे हैं. ईरानी लोगों ने बहुत कुछ बर्दाश्त कर लिया है. लेकिन फिर भी वो चाहें तो हमें इन सब चीज़ों के लिए ज़िम्मेदार ठहरा सकते हैं. उन्हें ख़ुद को आईने में देखना चाहिए.''

ईरान को बदहाल होने से चीन भी क्यों नहीं बचा पाएगा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए