मृतक की पत्नी ने योगी से पूछा, 'कैसे गोली मार दी गई विवेक को?'

  • 29 सितंबर 2018
विवेक तिवारी-कल्पना तिवारी इमेज कॉपीरइट kalpana tiwari/facebook

राजधानी लखनऊ में यूपी पुलिस के एक कॉन्स्टेबल की गोली से मारे गए विवेक तिवारी की पत्नी ने आरोप लगाया है कि उनके पति की हत्या की गई है. उन्होंने सीधे तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इसका जवाब मांगा है.

एप्पल कंपनी में मैनेजर के पद पर काम करने वाले विवेक तिवारी को शुक्रवार देर रात गश्त कर रहे एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने कथित तौर पर उनकी संदिग्ध गतिविधियों के चलते उन्हें गोली मार दी, जिससे रात में ही उनकी मौत हो गई.

विवेक तिवारी पर गोली चलाने वाले पुलिस कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी और उनके एक सहकर्मी के ख़िलाफ़ हत्या का मुक़दमा दर्ज करते हुए दोनों को गिरफ़्तार कर लिया गया है. गिरफ़्तार पुलिस कॉन्स्टेबल का कहना है कि उन्होंने आत्मरक्षा में गोली चलाई.

इमेज कॉपीरइट Vivek Tiwari

'वे उन्हें जान से ही मारना चाहते थे'

बीबीसी से बातचीत में विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी ने कॉन्स्टेबल के इस आरोप को ग़लत बताते हुए पुलिस पर अपने पति के 'चरित्रहनन' का भी आरोप लगाया है.

कल्पना का कहना है, "यदि पुलिसवालों को कुछ ग़लत लग रहा था तो क्या सीधे गोली ही मार दी जाती है? गाड़ी रोक सकते थे? उन्हें पकड़कर पूछताछ कर सकते थे. गोली ही मारनी थी तो पैर में या हाथ में भी मार सकते थे लेकिन सिर के पास गोली मारने से साफ़ है कि वो उन्हें जान से ही मारना चाहते थे."

कल्पना ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी पूछा, "कैसा लॉ एंड ऑर्डर चल रहा है भई यहां. कैसे गोली मार दी गई विवेक को?"

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

बताया जा रहा है कि ये घटना तब हुई जब विवेक तिवारी दफ़्तर के एक कार्यक्रम से देर रात अपनी एक सहकर्मी के साथ घर लौट रहे थे.

गोली चलाने वाले कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि उन्होंने कार को संदिग्ध स्थिति में खड़ी देखकर विवेक तिवारी को उतरने को कहा लेकिन वो कार चलाकर आगे बढ़ गए.

प्रशांत चौधरी के मुताबिक, विवेक तिवारी ने उनकी बाइक के ऊपर कार चढ़ाने की कोशिश की और इसीलिए उन्हें आत्मरक्षा में गोली चलानी पड़ी. लेकिन परिवारवालों का आरोप है कि आत्मरक्षा में गोली सामने से सिर के क़रीब नहीं चलाई जाती.

क्या कहती है पुलिस

उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनंद कुमार का कहना है, "पुलिस ने इसे हत्‍या का मामला मानते हुए केस दर्ज किया है. दो सिपाहियों को गिरफ़्तार कर लिया है और उन्‍हें जेल भेजने की कार्रवाई हो रही है."

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना था कि घटना को देखकर लग रहा है कि गोली चलाने वाले हालात नहीं थे, फिर भी क्यों गोली चलाई गई ये बात जांच के बाद ही पता चल सकेगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

यूपी में सुल्तानपुर के रहने वाले विवेक तिवारी ने मेरठ के एक कॉलेज से एमबीए की पढ़ाई की थी और फ़िलहाल अपनी पत्नी और दो बेटियों के साथ लखनऊ में रह रहे थे.

विवेक की अचानक हुई इस मौत के बाद से उनके यहां मातम पसरा है. उनकी पत्नी का कहना है कि विवेक ये कहकर गए थे कि रात को देर से आएंगे क्योंकि कंपनी में कोई बड़ा आयोजन था.

उनका कहना था, "मैंने डेढ़-दो बजे के आस-पास अपने पति को फ़ोन किया लेकिन जवाब नहीं आया. दो-तीन बार कॉल करने के बाद भी कोई जवाब नहीं आया तो थोड़ी चिंता होने लगी. फिर तीन बजे के क़रीब किसी ने फ़ोन उठाया और बताया कि आपके पति को चोट आई है और उनका अस्पताल में इलाज चल रहा है."

कल्पना तिवारी इस बात पर संदेह जताती हैं कि पुलिस ने उन लोगों को कोई सूचना क्यों नहीं दी जबकि विवेक का मोबाइल फ़ोन लगातार बज रहा था. बहरहाल, पुलिस अभी पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट का इंतज़ार कर रही है.

ये भी पढ़ें-

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे