कश्मीर में मुठभेड़, तीन जवान, दो लड़ाके मारे गए

  • 21 अक्तूबर 2018
इमेज कॉपीरइट BBC/Mohit Kandhari

रविवार को भारत प्रशासित कश्मीर के राजौरी ज़िले के सुंदरबानी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास हुई एक मुठभेड़ में भारतीय सेना के तीन जवानों और घुसपैठ करने वाले दो लड़ाकों की मौत हो गई है.

एक बयान में भारतीय सेना के प्रवक्ता लेफ़्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा, "दोपहर करीब 1.45 बजे नियंत्रण रेखा के पास सुंदरबन सेक्टर में भारतीय सेना की हथियारों से लैस दो पाकिस्तानी घुसपैठियों से भीषण मुठभेड़ हुई."

उन्होंने कहा, "गश्ती बल के सैनिकों ने दोनों घुसपैठियों को मार दिया और हथियार बरामद किए जिनमें दो एके 47 राइफ़लें भी शामिल हैं."

इस हमले में तीन भारतीय सैनिकों की मौत हुई है और एक गंभीर रूप से घायल हुआ है जिसे हेलीकॉप्टर के ज़रिए उधमपुर में सेना के अस्पताल भेजा गया है. घायल सैनिक की स्थिति स्थिर बनी हुई है.

मारे गए सैनिकों में नौशेरा के रहने वाले हवलदार कौशल कुमार, डोडा के रहने वाले लांस नायक रंजीत सिंह और पल्लनवाला के रहने वाले राइफ़लमैन रजत कुमार हैं. सांबा के रहने वाले राफ़लैन राकेश कुमार घायल हुए हैं.

सेना के मुताबिक क्षेत्र में खोजी अभियान भी चलाया जा रहा है.

जम्मू-क्षेत्र में भारत और पाकिस्तान के बीच 198 किलोमीटर लंबी सीमा है. भारत और पाकिस्तान को बांटने वाली नियंत्रण रेखा 740 किलोमीटर लंबी है.

भारत के मुताबिक इस साल एक जनवरी से अब तक पाकिस्तान की ओर से 1050 बार संघर्ष विराम उल्लंघन किया गया है.

इमेज कॉपीरइट BBC/Mohit Kandhari

यही नहीं भारत में घुसपैठ की 145 कोशिशें भी हुई हैं जिनमें 70 कामयाब रही हैं.

इसी साल सितंबर में रामगढ़ सेक्टर में सीमा सुरक्षा बल के एक जवान को अग़वा किए जाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था.

बाद में भारतीय जवान का क्षत-विक्षत शव मिला था और पाकिस्तान पर सैनिक की हत्या के बाद शव से छेड़छाड़ के आरोप लगाए गए थे.

संयुक्त राष्ट्र के महाधिवेशन के समय हुई इस घटना ने दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा दिया था.

ये भी पढ़ें-

‘सर्जिकल स्ट्राइक’ से कश्मीर में तनाव कम हुआ?

कश्मीर के समाधान बिना शांति मुमकिन नहींः पाकिस्तान

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे