प्रेस रिव्यूः 'सरकारी हस्तक्षेप से आरबीआई की स्वायत्तता पर असर'

  • 27 अक्तूबर 2018
आरबीआई इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय रिजर्व बैंक के उच्च अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर सरकार आरबीआई की स्वायत्तता का सम्मान नहीं करेगी तो उसे इसके बुरे नतीजे देखने को मिलेंगे.

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित समाचार के अनुसार आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कहा कि बाज़ार सरकार को प्रभावित कर सकता है लेकिन वह केंद्रीय बैंक की स्वतंत्रता को कम नहीं कर सकता.

आचार्य ने कहा कि अगर आरबीआई के कामकाज में बहुत अधिक दख़ल दी गई तो इसका असर बाज़ार और देश के आर्थिक हालात पर पड़ेगा.

आईबी कर्मियों से बदसलूकी पर आईबी निदेशक नाराज़

सीबीआई विवाद के बीच अब देश का खुफ़िया ब्यूरो आईबी भी इसमें शामिल हो गया है. जनसत्ता में प्रकाशित खबर में बताया गया है कि आईबी के निदेशक रवि जैन ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से मुलाकात की है और सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के घरे के बाहर जिन आईबी कर्मियों को पकड़ा गया था उनके साथ की गई बदसलूकी पर रोष जताया है.

रवि जैन ने दिल्ली पुलिस के उन कर्मियों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर जांच की मांग की है जिन्होंने आईबी के कर्मियों के साथ बदसलूकी की. अख़बार लिखता है कि फौरी तरौर पर जैन और डोभाल की मुलाकात के बाद वर्मा के घर पर तैनात उनके दो सुरक्षा अधिकारियों हटा दिया गया है.

इसके बाद आईबी ने सरकारी कर्मचारियों को उनके काम करने से रोकने, अतिक्रमण और हमले का मामला दर्ज करवा दिया है.

इमेज कॉपीरइट Pti

जौहरी के इस्तीफ़े की मांग

मीटू अभियान से जुड़ी एक ख़बर को इंडियन एक्स्प्रेस ने प्रमुखता से प्रकाशित किया है. यह खबर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से जुड़ी है जिसमें बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी पर यौन उत्पीड़न करने के आरोप लगे थे.

इस संबंध में बीसीसीआई की प्रशासनिक कमिटी में शामिल महिला क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान डायना इडुलजी ने जौहरी के इस्तीफे की मांग की है. उन्होंने कहा है कि जौहरी के बीसीसीआई में रहने से महिलाओं सहज महसूस नहीं कर रही हैं और बीसीसीआई की छवि भी ख़राब हो रही है.

वहीं प्रशासनिक कमिटी के दूसरे सदस्य विनोद राय ने कहा है कि जौहरी पर लगे आरोपों की जांच करने के लिए एक स्वतंत्र कमिटी का गठन किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बीसीसीआई के सीईओ राहुल जोहरी

ट्वीट करने पर रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता को छुट्टी

रक्षा मंत्रालय ने अपनी प्रवक्ता स्वर्णश्री राव राजशेखर को अनिश्चितकालीन छुट्टी पर भेज दिया है. स्वर्णश्री ने नौसेना के पूर्व प्रमुख अरुण प्रकाश के एक ट्वीट पर रक्षा मंत्रालय के ट्विटर अकाउंट से कमेंट कर दिया था.

द हिंदू में प्रकाशित समाचार के अनुसार स्वर्णश्री ने अपने कमेंट में सैन्य अधिकारियों को मिलने वाले विशेषाधिकारों के दुरुपयोग की आलोचना कर दी थी. हालांकि इस ट्वीट पर हंगामे के बाद मंत्रालय ने ट्वीट हटा दिया साथ ही कर्नल अमन आनंद को कार्यवाहक प्रवक्ता नियुक्त किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए