प्रेस रिव्यूः सीबीआई ने मोइन क़ुरैशी मामले में जांच अधिकारी बदला

  • 29 अक्तूबर 2018
मोइन क़ुरैशी इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मोइन क़ुरैशी

सीबीआई में चल रहे विवाद के बीच संस्था ने व्यापारी मोइन कुरैशी मामले की जांच कर रहे अफसर को बदल दिया है.

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि अब इस मामले की जांच एस किरन की जगह सतीश डागर करेंगे. जिस रात सरकार ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेजने का फैसला लिया था, उस रात बुलाई गई अफ़सरों की मीटिंग में सतीश डागर भी शामिल थे.

डागर ही अस्थाना पर लगे आरोपों की जांच भी कर रहे हैं. डागर ने ही गुरमीत राम रहीम मामले की भी जांच की थी और उन्हें आरोपी साबित किया था.

इमेज कॉपीरइट Pti

'सीबीआई के नए अंतरिम प्रमुख की पत्नी ने करोड़ों का लेनदेन किया'

इंडियन एक्सप्रेस में ही प्रकाशित एक और समाचार सीबीआई के अंतरिम प्रमुख बनाए गए एम नागेश्वर राव से जुड़ा है.

खबर में बताया गया है कि एम नागेश्वर राव की पत्नी और कोलकाता की एक ट्रेडिंग कंपनी के बीच लगभग एक करोड़ से अधिक रुपयों का लेनदेन हुआ है.

इस कंपनी का नाम एंजेला मर्केंटाइल्स प्राइवेट लिमिटेड यानी एएमपीएल बताया गया है. और यह लेनदेन वित्तीय वर्ष 2011 से 2014 के बीच हुआ है.

अख़बार में लिखा है कि रजिस्ट्रार ऑफ़ कंपनीज़ के रिकॉर्ड के मुताबिक नागेश्वर राव की पत्नी एम संध्या ने मार्च 2011 में एएमपीएल कंपनी से 25 लाख रुपए कर्ज लिए थे. इसके बाद संध्या ने इस कंपनी को साल 2012 से 2014 से 1.14 करोड़ रुपए लोन दिया था.

इमेज कॉपीरइट Pti

नोटबंदी पर आरबीआई गवर्नर दोबारा तलब

संसद की एक समिति ने आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल को सरकार के नोटबंदी के क़दम के बारे में जानकारी लेने के लिए तीसरी बार तलब किया है.

जनसत्ता में प्रकाशित इस समाचार में बताया गया है कि इस समिति में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी सदस्य हैं. समिति में 31 सदस्य हैं और वीरप्पा मोइली इसके अध्यक्ष हैं.

समिति की बैठक के नोटिस के मुताबिक पटेल को 12 नवंबर को नोटबंदी में बंद हुए नोटों और उसके प्रभावों के बारे में समिति को जानकारी देने के लिए तलब किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption उर्जित पटेल

अटल की बेटी नहीं लड़ेंगी चुनाव

अमर उजाला में प्रकाशित एक समाचार के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने लखनऊ से चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया है.

भाजपा उन्हें लखनऊ से चुनाव मैदान में उतारना चाहती थी लेकिन नमिता ने इसे अस्वीकार कर दिया. अखबार के अनुसार नमिता ने कहा कि वे एक गैर राजनीतिक व्यक्ति हैं और खुद को इसके लिए तैयार नहीं कर सकती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए