जम्मू: भाजपा के प्रदेश सचिव और उनके भाई की गोली मारकर हत्या

  • 2 नवंबर 2018
जम्मू में बीजेपी राज्य सचिव अनिल परिहार की हत्या इमेज कॉपीरइट Anil Parihar/twitter
Image caption अनिल परिहार

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ क़स्बे में गुरुवार देर रात बीजेपी के प्रदेश सचिव अनिल परिहार और उनके भाई अजित परिहार की अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मारकर हत्या कर दी.

ये घटना किश्तवाड़ क़स्बे में उस समय हुई जब अनिल और उनके भाई घर वापस लौट रहे थे.

बताया जा रहा है कि अनिल और अजित पर बहुत नज़दीक से गोलियां चलाई गईं.

जम्मू-कश्मीर बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी अशोक कौल ने घटना की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि अनिल परिहार बीजेपी के बड़े नेताओं में शुमार थे.

कौल ने कहा, "अनिल बीजेपी के बड़े नेता थे. बचपन से ही बीजेपी के साथ जुड़े थे. वो जम्मू बीजेपी के बड़े सात-आठ नेताओं में शामिल थे. अनिल किश्तवाड़ के ही रहने वाले थे. वो बीजेपी स्टेट मोर्चा अध्यक्ष भी रह चुके थे. साथ ही ऑल इंडिया युवा मोर्चा के सदस्य रहे थे. पिछली बार भी स्टेट सेक्रेटरी रहे थे और हाल ही में रविंदर रैना ने फिर से उन्हें स्टेट सेक्रेटरी बनाया था. हाल ही में वो उधमपुर और आरएसपुरा के भी प्रभारी रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट Anil parihar/facebook

किश्तवाड़ में स्थिति तनावपूर्ण

कौल ने अनिल की हत्या को बुज़दिलाना हरक़त बताया और कहा कि हमें ऐसी घटनाओं की निंदा करनी चाहिए.

इस घटना के बाद प्रशासन ने किश्तवाड़ क़स्बे में शांति व्यवस्था बनाए रखने लिए कर्फ़्यू लगा दिया है. बताया जाता है कि पूरे किश्तवाड़ क़स्बे में हालात तनावपूर्ण हैं.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने घटना की निंदा करते हुए हैरानी जताई है.

जम्मू-कश्मीर बीजेपी के प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर ने इस हमले की निंदा करते हुए बताया कि जम्मू-कश्मीर में बीजेपी की बढ़ती शोहरत से कुछ लोग बौखला गए हैं. ठाकुर ने पुलिस से क़ातिलों को जल्द से जल्द पकड़ने की अपील की है.

इमेज कॉपीरइट Anil parihar/facebook

क्या कहती है पुलिस

इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस, जम्मू ज़ोन एस.डी. सिंह जम्वाल ने बीबीसी को बताया कि अभी तक हत्या में शामिल लोगों की कोई जानकारी नहीं मिल पाई है.

उन्होंने कहा, "अभी इस मामले में जांच चल रही है. अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है."

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अबदुल्ला ने इन हत्याओं पर शौक जताया है.

जम्मू-कश्मीर बीजेपी इकाई के जनरल सेक्रेटरी अशोक कौल ने कहा, "उमर अब्दुला इस घटना की निंदा कर रहे हैं, लेकिन निंदा करने से कुछ नहीं होगा. उन्हें उन लोगों की निंदा करनी चाहिए, जिन्होंने आज बड़गाम में पत्थर बरसाए."

जम्मू क्षेत्र में बीते वर्षों के दौरान पहली बार इस तरह की घटना सामने आई है कि किसी नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गई हो. हालांकि कश्मीर में ऐसे कई मामले देखने को मिलते रहते हैं.

बीते वर्षों में बीजेपी और दूसरी राजनीतिक पार्टियों के कई नेताओं और कार्यकर्ताओं की कश्मीर में संदिग्ध चरमपंथियों ने हत्या की है.

ये भी पढ़ें...

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार