'कोर्ट में गवाह का दावा- डीजी वंज़ारा ने दी थी गुजरात के गृह मंत्री हरेन पांड्या की सुपारी'

  • 4 नवंबर 2018
डीजी वंज़ारा इमेज कॉपीरइट PTI

सोहराबुद्दीन शेख़ के कथित फ़ेक एनकाउंटर मामले के एक अहम गवाह का मुंबई के एक कोर्ट में गवाही के दौरान किया गया दावा मीडिया में छाया हुआ है. इसे लेकर सोशल मीडिया पर भी ख़ूब चर्चा हो रही है.

अख़बार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सोहराबुद्दीन शेख़ के कथित फ़ेक एनकाउंटर मामले के गवाह आज़म ख़ान ने दावा किया है, "गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी डीजी वंज़ारा ने सोहराबुद्दीन को बीजेपी नेता और गुजरात के पूर्व मंत्री हरेन पांड्या की हत्या की सुपारी दी थी."

हरेन पांड्या गुजरात के गृहमंत्री थे. उनकी हत्या साल 2003 में कर दी गई थी. हरेन पांड्या की पत्नी जागृति पांड्या को गुजरात सरकार ने 2016 में राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग का अध्यक्ष बनाया था.

आज़म ख़ान सोहराबुद्दीन और तुलसीराम प्रजापति का सहयोगी था. उसके मुताबिक सोहराबुद्दीन ने ये बात उसे ख़ुद बताई थी.

इन मीडिया रिपोर्ट्स के बाद भी पूर्व आईपीसी अधिकारी डीजी वंजारा का कोई बयान सामने नहीं आया है.

इमेज कॉपीरइट PTI

अख़बार के मुताबिक आज़म ख़ान ने ये दावा भी किया कि साल 2010 में भी सीबीआई को ये बात बताई थी लेकिन 'तब अधिकारियों ने इस बात को उसके बयान में दर्ज़ करने से इनकार कर दिया था.'

"जब मैंने उन्हें (सीबीआई अधिकारी एनएस राजू) को हरेन पांड्या के बारे में बताया तो उन्होंने बोला नये बखेड़े में मत डालो"

2005 में सोहराबुद्दीन और 2006 में तुलसीराम प्रजापति की एनकाउंटर में मौत हो गई थी.

इस मामले में गुजरात और राजस्थान पुलिस पर फर्ज़ी मुठभेड़ के आरोप लगे और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद गुजरात सीआईडी क्राइम ब्रांच ने मामले की जांच की और पुलिस अधिकारियों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सुप्रीम कोर्ट ने जांच पर नज़र रखते हुए 2010 में कहा था कि सीआईडी (क्राइम) की जांच अधूरी है. हत्या के मक़सद को साफ़ नहीं पाया गया जिसके बाद जांच सीबीआई को सौंप दी गई.

सीबीआई ने जांच में पाया था कि सोहराबुद्दीन की हत्या राजस्थान की मार्बल लॉबी के निर्देश पर की गई थी. साथ ही उनकी पत्नी कौसर बी की भी हत्या कर दी गई. इस मामले में तुलसीराम अहम गवाह था, जिसे भी मार दिया गया.

गवाहों के ऊपर दबाव ना पड़े और इंसाफ़ सही तरीक़े से हो इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को मुंबई ट्रांसफ़र कर दिया था.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक आज़म ख़ान ने दावा किया, "सोहराबुद्दीन के साथ बातचीत में उसने मुझे बताया कि नईम ख़ान और शाहिद रामपुरी के साथ उसे गुजरात के गृहमंत्री हरेन पांड्या को मारने की सुपाड़ी मिली और उन्होंने उनकी हत्या कर दी. मुझे दुख हुआ और मैंने सोहराबुद्दीन से कहा कि उन्होंने एक अच्छे आदमी की जान ले ली है. सोहराबुद्दीन ने मुझे बताया कि ये सुपाड़ी वंज़ारा ने दी थी."

अख़बार के मुताबिक आज़म ख़ान ने ये दावा भी किया कि सोहराबुद्दीन ने उसे बताया था कि 'ऊपर से ये काम दिया गया था.'

इमेज कॉपीरइट BHAREDRESH GUJJAR

पूर्व आईपीएस अधिकारी डीजी वंज़ारा की गुजरात पुलिस में छवि एनकाउंटर स्पेशलिस्ट की थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब वंज़ारा को उनके करीबी अधिकारियों में गिना जाता था.

वंज़ारा साल 2002 से 2005 तक अहमदाबाद की क्राइम ब्रांच के डिप्टी कमिश्नर ऑफ़ पुलिस थे. उनकी यहां तैनाती के दौरान करीब बीस लोगों के एनकाउंटर हुए थे. बाद में इन एनकाउंटरों पर सवाल उठे थे.

वंज़ारा को 2007 में गुजरात सीआईडी ने गिरफ़्तार किया था.

मुंबई में सीबीआई की एक अदालत ने अगस्त 2017 में वंजारा को सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर मामले में बरी कर दिया. सीबीआई ने इस फ़ैसले को ऊपर की अदालत में चुनौती नहीं दी थी.

आज़म ख़ान को उदयपुर की सेंट्रल जेल से गवाही देने के लिए मुंबई लाया गया था. उसे उदयपुर पुलिस ने बीते महीने ही गिरफ़्तार किया था. आज़म ख़ान ने कोर्ट में ये भी बताया कि वो किस तरह सोहराबुद्दीन के संपर्क में आया.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक "आज़म ख़ान ने सीबीआई की स्पेशल कोर्ट को बताया दिसंबर 2005 में उसने अख़बार में पढ़ा कि सोहराबुद्दीन की पुलिस मुठभेड़ में मौत हो गई है. जब प्रजापति उसे उदयपुर सेंट्रल जेल में मिला तो उसने बताया कि सोहराबुद्दीन और कौसर बी उसकी ग़लती से मारे गए. प्रजापति ने बताया कि वो उनके बारे में सूचना देने को तैयार हो गया क्योंकि गुजरात पुलिस और वंज़ारा ने उसे बताया था कि उसे गिरफ़्तार करने के लिए राजनीतिक दबाव है."

अख़बार के मुताबिक "आज़म खान ने आगे बताया प्रजापति ने कथित तौर पर कहा था कि उसे भरोसा दिया गया था कि सोहराबुद्दीन 4-6 महीने में जमानत पर बाहर आ जाएगा. प्रजापति ने बताया कि बस से पकड़े जाने के बाद सोहराबुद्दीन, कौसर बी और उसे अहमदाबाद के एक फॉर्म हाउस ले जाया गया."

"जब कौसर बी ने अपने पति पर हमले के दौरान बीच में हस्तक्षेप की कोशिश की उसे दूसरी जगह ले जाया गया. जहां उसने फायरिंग की आवाज़ सुनी और कौसर बी की आवाज़ ज़्यादा देर तक सुनाई नहीं दी. उसने उस फ़ायरिंग की आवाज़ भी सुनी जिसमें सोहराबुद्दीन मारा गया."

सीबीआई कोर्ट में आज़म ख़ान की गवाही की चर्चा सोशल मीडिया पर भी हो रही है.

कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने टाइम्स ऑफ इंडिया की ख़बर को ट्वीट करते हुए लिखा है, "अब सवाल ये है कि हरेन पांड्या की हत्या के लिए वंज़ारा को किसने आदेश दिया था."

वकील प्रशांत भूषण ने ट्विटर पर लिखा है, "ये बड़ा मामला है."

सोहराबुद्दीन एनकाउंटरः हत्या क्यों हुई शायद पता ही न चले

सोहराबुद्दीन केस: 'अमित शाह के खिलाफ दोबारा जांच नहीं'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे