प्रेस रिव्यूः नोटबंदी से खेती बर्बाद होने की रिपोर्ट पर हंगामा

  • 22 नवंबर 2018
नोटबंदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

वित्त मामलों की संसदीय समिति को सौंपी गई कृषि मंत्रालय की रिपोर्ट में जैसे ही यह बात निकलकर आई कि नोटबंदी की वजह से देश का किसान और खेती बर्बाद हो गई, इस पर हंगामा मच गया.

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित समाचार के अनुसार, इस रिपोर्ट के आधार पर कांग्रेस ने सरकार पर कड़ा हमला बोला. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि जब कृषि मंत्रालय खुद मान रहा है कि नोटबंदी से नुकसान हुआ है उसके बाद भी प्रधानमंत्री अपनी रैलियों में इसके गुणगान कर रहे हैं.

अखबार लिखता है कि इस रिपोर्ट की चौतरफा आलोचना होने के बाद कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने ट्वीट कर रिपोर्ट के तथ्यों को गलत बताया. अपनी सफाई में कृषि मंत्री ने लिखा कि नोटबंदी शुरू होने से पहले ही ज़्यादातर बीज बंट चुके थे. गेहूं के बीजों का वितरण चल रहा था.

नमो प के ज़रिए खुली बीजेपी सांसदों की पोल

हिंदुस्तान अख़बार में प्रकाशित समाचार के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से बनाई गई नमो ऐप ने भाजपा के ही 90 सांसदों की पोल खोल दी.

ख़बर के मुताबिक इसमें से कुछ के क्षेत्र की जनता उनके कामकाज से खुश नहीं तो कुछ ऐसे हैं जिनसे कार्यकर्ता भी नाराज़ हैं. ख़बर के मुताबिक इनमें से सबसे अधिक सांसद उत्तर प्रदेश के हैं.

लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा अपने सांसदों और हर लोकसभा क्षेत्र से फ़ीडबैक जुटा रही है. इसी के तहत नमो एप के ज़रिए जनता से उनकी राय मांगी गई.

इमेज कॉपीरइट NAmo app

'अवैध प्रवासी देश के बाहर जाएं'

भारतीय थल सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा है कि देश में मौजूद अवैध प्रवासियों को देश के बाहर भेजा जाना चाहिए.

टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित इस ख़बर के मुताबिक बिपिन रावत ने कहा कि वे राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्ट्रेशन यानी एनआरसी का समर्थन करते हैं और जो लोग इसके समर्थन में नहीं हैं वे देश की सुरक्षा को गंभीरता से नहीं लेते.

ख़बर के अनुसार सेना प्रमुख ने कहा कि देश के राजनीतिक दल अवैध प्रवासियों को देश में रुकने में मदद करते हैं. उन्होंने कहा कि कुछ संगठन हैं जो इन अवैध प्रवासियों को देश की नागरिकता दिलाने की कोशिशें करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Pib
Image caption थलसेना प्रमुख बिपिन रावत

अक्षय कुमार से एसआईटी की पूछताछ

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार से बुधवार को एसआईटी ने पूछताछ की. पंजाब की अकाली-भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान एक गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी मामले में यह पूछताछ की गई.

जनसत्ता में प्रकाशित समाचार के अनुसार अक्षय कुमार से क़रीब 1 घंटा 40 मिनट तक पूछताछ की गई. अक्षय पर आरोप हैं कि उन्होंने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम और सुखबीर बादल के बीच अपने मुंबई स्थित फ्लैट में मीटिंग करवाई थी.

अखबार लिखता है कि अक्षय कुमार ने खुद पर लगे आरोपों को ग़लत बताया और कहा कि पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल से साल 2011 के दौरान हुए कबड्डी कप के दौरान ही उनकी मुलाकात हुई थी, इसके अलावा वे कभी नहीं मिले.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए