आज की पांच बड़ी ख़बरें: उमा भारती ने कहा बीजेपी का राम मंदिर मुद्दे पर पेटेंट नहीं

  • 27 नवंबर 2018
उमा भारती इमेज कॉपीरइट Uma Bharti @Twitter

राम मंदिर बनाने के लिए तारीख़ की मांग कर रही शिवसेना को भाजपा नेता उमा भारती का साथ मिला है.

उमा भारती ने उद्धव ठाकरे के अयोध्या में धर्मसभा का आयोजन करने की कोशिश की सराहना की है. उन्होंने कहा कि बीजेपी का राम मंदिर मुद्दे पर पेटेंट नहीं है, भगवान राम सभी के हैं.

उन्‍होंने राम मंदिर बनाने के काम में मदद देने के लिए बसपा, आज़म ख़ान और असदउद्दीन ओवैसी से भी मदद की अपील की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राहु का गोत्र और योगी का बयान

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव प्रचार के दौरान सोमवार को पहले अजमेर में ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ की दरगाह में ज़ियारत की, फिर पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर और घाट पर जा कर पूजा अर्चना की.

उन्होंने यहां पहली बार अपने गोत्र के बारे में बताया. पंडित के पूछे जाने पर उन्होंने अपना गोत्र 'कौल दत्तात्रेय' बताया.

इधर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान चुनाव प्रचार के सिलसिले में राजस्थान में ही थे. उन्होंने राहुल के अपने गोत्र सार्वजनिक करने को भाजपा की जीत बताया.

योगी ने कहा, "कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जनेऊ दिखाकर सनातनी हिन्दू दिखाने का प्रयास करना ही हमारी वैचारिक विजय है. राहुल के परदादा कहते थे कि मैं एक्सीडेंटली हिंदू हूं. कांग्रेस कहती रही है कि देश के संसाधनों पर पहला हक़ मुसलमानों का है. अगर ऐसा है तो हिंदू कहां जाएंगे?"

यह भी पढ़ें | आमिर ने बताया- क्यों पिटी 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'मुसलमान भी राम मंदिर के फ़ैसले के लिए तैयार'

राम मंदिर की जारी सियासी गरमी के बीच जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक़ अब्दुल्लाह ने कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम में राम मंदिर पर अपनी बात रखी.

उनका कहना है कि राम मंदिर पर वो सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला मानने को तैयार हैं.

उन्होंने कहा कि फ़ैसले का इंतज़ार करना चाहिए और क़ानून-संविधान की मर्यादा को दरकिनार नहीं करना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कक्षा दो तक बच्चों को होमवर्क नहीं

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश जारी कर कक्षा दो तक के बच्चों को होमवर्क से मुक्ति देने को कहा है.

छोटे बच्चों पर पढ़ाई का बोझ कम करने के लिए सरकार ने ये फ़ैसला किया है.

इतना ही नहीं बच्चों के बस्ते का बोझ भी कम करने का फ़ैसला किया गया है. अब कक्षा एक से दसवीं तक के बच्चों के बस्ते का न्यूनतम वज़न देढ़ किलो और अधिकतम पांच किलो होगा.

यह नया नियम नए सत्र 2019-20 से लागू होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

यूक्रेन में मार्शल लॉ लगाने का ऐलान

तीन यूक्रेनियाई जहाज़ों पर रूस के क़ब्ज़े के बाद यूक्रेन में मार्शल लॉ लगाने का ऐलान हुआ है. यूक्रेन की संसद ने मॉर्शल लॉ के पक्ष में वोट दिया है.

ये मार्शल लॉ 30 दिनों तक लागू रहेगा. इस लॉ का प्रमुख असर रूस से सटी सरहदों पर होगा. मार्शल लॉ में वर्तमान क़ानूनों की जगह सैन्य क़ानून ले लेते हैं.

यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने मार्शल लॉ 60 दिनों के लिए लगाने का प्रस्ताव दिया था, जिसे संसद ने नामंज़ूर कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार