मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018: कई जगहों से ईवीएम ख़राब होने की ख़बर

  • 28 नवंबर 2018
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव इमेज कॉपीरइट Facebook/ECI

मध्य प्रदेश की सभी 230 विधानसभा सीटों पर मतदान बुधवार सुबह शुरू हो गया. प्रदेश की तीन सीटों पर सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ, जबकि बाक़ी सीटों पर आठ बजे से वोटिंग शुरू हुई. यह तीन सीटें नक्सल प्रभावित क्षेत्र में है जहां पर मतदान दिन के तीन बजे तक ही किया जा सकेगा.

यहां सुबह से मतदाताओं की लम्बी क़तारें मतदान केंद्रों के बाहर देखी गई हैं. चुनाव आयोग ने सुरक्षा के कड़े इंतेज़ामात किए हैं.

चुनाव आयोग के आकड़ों के मुताबिक़ प्रदेश में सुबह नौ बजे तक 6.32 प्रतिशत मतदान किया जा चुका था.

इधर बुधवार चुनाव ड्यूटी में लगे तीन कर्मचारियों की मौत हार्ट अटैक से हो गई है, इनमें से एक पीठासीन अधिकारी थे.

इमेज कॉपीरइट SHURIAH NIAZI/BBC

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बीएल कांता राव ने पत्रकारों को जानकारी दी है कि दो लोगों की मौत इंदौर में और एक की मौत गुना में हुई है.

लगभग 70 मतदान केंद्रों में मशीन ख़राब होने की ख़बर आई है. हालांकि बीएल कांता राव ने इस बात से इंकार किया है कि मतदान से पहले बड़ी तादाद में ईवीएम मशीनें ख़राब निकली हैं.

चुनाव आयोग ने बताया कि प्रदेश में अब तक कहीं से भी कोई हिंसा की ख़बर नहीं है.

इमेज कॉपीरइट SHURIAH NIAZI/BBC

वोटिंग मशीनों ख़राब होने की शिकायतें कई जगहों से आ रही हैं. इनमें भोपाल के अलावा सतना, उज्जैन, खरगोन, भिंड, ग्वालियर, इंदौर के कुछ मतदान केंद्र हैं. बताया जा रहा है कि इस कारण कई जगहों पर देर से मतदान शुरु हुआ.

बीएल कांता राव ने कहा है कि जहां से भी मशीन ख़राब होने की ख़बर आ रही है, वहां पर 30 मिनट के अंदर ही उसे बदला जा रहा है.

उधर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने इस मामले पर सवाल उठाए हैं. दिग्विजय सिंह ने भी ट्विटर के ज़रिए इस मामले पर सवाल खड़े किए हैं.

कांग्रेस नेता कमलनाथ ने ट्वीट किया है कि "प्रदेश भर से बड़ी संख्या में ईवीएम मशीनों के ख़राब और बंद होने की जानकारी सामने आ रही है. इससे मतदान प्रभावित हो रहा है. मतदान केंद्रों पर लम्बी लाइनें लग गई हैं. इतनी बड़ी गड़बड़ी कैसे? चुनाव आयोग अविलंब इस पर निर्णय ले .तत्काल बंद मशीनों को बदला जाए."

दिग्विजय सिंह ने भी इस मामले में ट्वीट किया है कि, "कई ऐसे मतदान केंद्रों पर ईवीएम ख़़राब होने की ख़बर मिल रही हैं जहां रुझान कांग्रेस के पक्ष में हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार