सार्क सम्मेलन में पाकिस्तान नहीं जाएगा भारत: सुषमा स्वराज

  • 28 नवंबर 2018
सुषमा स्वराज, भारत, पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट UN TWITTER

पाकिस्तान के न्योते को अस्वीकार करते हुए भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि भारत सार्क सम्मेलन में शामिल नहीं होगा.

बुधवार को हैदराबाद में पत्रकारों के सवालों के जवाब में सुषमा स्वराज ने कहा कि जब तक पाकिस्तान भारत में आतंकी गतिविधियों पर रोक नहीं लगाएगा तब तक द्विपक्षीय बातचीत नहीं होगी.

उन्होंने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर शुरू होने का मतलब ये नहीं है कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत बहाल हो जाएगी.

वहीं, मंगलवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सार्क सम्मेलन के लिए न्योता दिया था. ये सम्मेलन इस्लामाबाद में होने वाला है लेकिन अभी इसका समय तय नहीं हुआ है.

सुषमा स्वराज ने कहा कि द्विपक्षीय बातचीत और करतारपुर कॉरिडोर दोनों अलग-अलग मसले हैं. भारत सरकार पिछले 20 सालों से इस कॉरिडोर को लेकर पाकिस्तान से बातचीत कर रही है.

पाकिस्तान ने पहली बार सकारात्मक जवाब दिया है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि द्विपक्षीय बातचीत शुरू हो जाएगी.

सुषमा स्वराज का ये बयान उस समय आया है, जब बुधवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने करतारपुर कॉरिडोर की नींव रखी.

इमेज कॉपीरइट AFP

करतारपुर आने से सुषमा का इनकार

इस कॉरिडोर को छह महीने में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. कॉरिडोर बन जाने पर भारत से लोग बिना ​वीज़ा के करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब जा पाएंगे. ये इलाक़ा पाकिस्तान में है.

वहीं, पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस नेता नववोज सिंह सिद्धू भी कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शामिल होने पाकिस्तान गए हैं.

पाकिस्तान ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को करतारपुर आने का न्योता दिया था लेकिन उन्होंने व्यस्तता का हवाला देकर इनकार कर दिया था.

उनकी जगह केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल और हरदीप सिंह पुरी ने इसमें हिस्सा लिया.

इमेज कॉपीरइट AFP

यह कॉरिडोर तब चर्चा में आया जब नवजोत सिंह सिद्धू इमरान ख़ान के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने पाकिस्तान गए थे.

तब सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने की मांग की थी और पाकिस्तान की तरफ़ से सकारात्मक रुख़ दिखाया गया था. उसी कार्यक्रम में सिद्धू पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा से गले मिले थे और इस पर भारत में काफ़ी विवाद हुआ था.

बाद में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर के बारे में कैबिनेट के फ़ैसले की जानकारी दी. उन्होंने बताया था कि गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में एक कमिटी बनी थी, जिसके सुझाव पर ये फ़ैसला लिया गया है.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार