पाँच बड़ी ख़बरें: मनमोहन सिंह के कार्यकाल के डेटा में बदलाव से विवाद

  • 29 नवंबर 2018
नरेंद्र मोदी और मनमोहन सिंह इमेज कॉपीरइट Getty Images

केंद्र सरकार ने यूपीए सरकार के 10 साल के कार्यकाल के अधिकांश वर्षों के दौरान हुई जीडीपी में बढ़ोतरी के आंकड़ों को घटा दिया है.

सरकार ने आंकड़ों को 2004-05 के आधार वर्ष के बजाय 2011-12 के आधार वर्ष के हिसाब से संशोधित किया है. सरकार का तर्क है कि इससे अर्थव्यवस्था की वास्तविक तस्वीर सामने आ सकेगी.

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) से जारी ताजा समायोजित आंकड़ों के अनुसार 2010-11 में अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 8.5 प्रतिशत रही थी जबकि इससे पहले 10.3 प्रतिशत बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया था.

कांग्रेस पार्टी ने सरकार की इस फ़ैसले की निंदा की है. पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने इस क़दम को घटिया मज़ाक क़रार देते हुए कहा, "नीति आयोग का संशोधित जीडीपी आंकड़ा दरअसल एक मज़ाक है. एक बहुत ही ख़राब मज़ाक. ये आंकड़े किसी सम्मानित क़दम को ठेस पहुंचाने भर के लिए जारी किए गए हैं."

कांग्रेस की प्रतिक्रिया को लेकर नीति आयोग के वाइस चेयरमैन ने कहा, "कांग्रेस पार्टी न सिर्फ़ सीएसओ की बौद्धिक और तकनीकी क्षमता को कमतर बताने की कोशिश कर रही है बल्कि सांख्यिकी के जिन 10 जाने-माने विद्वानों ने इस रिपोर्ट की समीक्षा की, उनके महत्व को भी कम कर रही है."

जीडीपी के आंकड़े से मोदी सरकार खुश, लेकिन...

इमेज कॉपीरइट AFP

एक फ़रवरी को पेश होगा अंतरिम बजट

वित्त मंत्री अरुण जेटली वित्त वर्ष 2019-20 के लिए एक फ़रवरी, 2019 को अंतरिम बजट पेश करेंगे.

बुधवार को वित्त मंत्रालय ने बताया कि अंतरिम बजट की तैयारियां ज़ोर पकड़ रही हैं

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार वित्त मंत्रालय ने इसके लिए अन्य केंद्रीय मंत्रालयों ने सुझाव लेना शुरू कर दिया है.

यह इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए सरकार का आख़िरी बजट होगा.

इस बार अरुण जेटली लगातार छठी बार बजट पेश करेंगे.

बजट के 5 'उलझे' शब्दों को ज़रूर सुलझा लें

इमेज कॉपीरइट Reuters

कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री पद छोड़ने की ख़बर को बताया अफ़वाह

कर्नाटक के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बयान जारी करके कहा है कि मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी पद नहीं छोड़ेंगे.

यह बयान मीडिया के एक धड़े में लगाए जा रहे क़यासों पर आया है. ऐसी ख़बरें आई थीं कि कुमारस्वामी ख़राब सेहत के कारण मुख्यमंत्री पद छोड़ सकते हैं.

कुमारस्वामी ने भी अपने वेरिफ़ाइड ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके लिखा है कि उनके इस्तीफ़े की ख़बरें निराधार हैं.

58 साल के कुमारस्वामी को डायबिटीज़ है और दिल की दो सर्जरी भी हो चुकी हैं.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/ECI

मध्य प्रदेश में रिकॉर्ड 75 फ़ीसदी मतदान

मध्य प्रदेश और मिज़ोरम में विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को रिकॉर्ड 75 प्रतिशत मतदान हुए.

दोनों राज्यों में चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार मध्य प्रदेश की 230 सीटों के लिए एक चरण में हुआ मतदान शांतिपूर्ण रहा और 74.61 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले.

अधिकारियों का कहना है कि आख़िरी मिलान के बाद यह संख्या बढ़ सकती है. इससे पहले अधिकतम मतदान का आंकड़ा 2013 का था जब 72.69 मतदाताओं ने वोट डाले थे.

पीटीआई के अनुसार माओवाद प्रभावित बालाघाट जिले के तीन विधानसभा क्षेत्रों में भी बड़ी संख्या में वोट डाले गए. बैहर में 75.05 प्रतिशत, लांजी में 79.07 प्रतिशत और परसवाड़ा में 80.05 प्रतिशत मतदान दर्ज किया.

इमेज कॉपीरइट EPA

ख़ाशोज्जी पर अमरीका में मतभेद

सऊदी अरब के पत्रकार जमाल ख़ाशोज्जी के मुद्दे पर अमरीकी कांग्रेस और ट्रंप प्रशासन के बीच मतभेद सामने आ रहे हैं.

ख़ाशोज्जी केस को लेकर हुई एक सुनवाई में सीआईए की निदेशक मौजूद नहीं रहीं. इस पर अमरीकी सीनेट के सदस्यों का कहना है कि ये मामले को छिपाने की कोशिश है.

सीआईए निदेशक जीना हास्पेल ने सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशोज्जी की हत्या के टेप्स को सुना है, लेकिन वो इस केस से जुड़ी सुनवाई में जवाब देने के लिए हाज़िर नहीं हुईं.

अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि अगर अमरीका सऊदी की मदद बंद करेगा तो इससे यमन में सीज़फायर की संभावनाओं पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

माना जाता है कि सीआईए निदेशक को ख़ाशोज्जी की हत्या के बारे में अच्छी ख़ासी जानकारी है.

उनकी ग़ैरमौजूदगी पर डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद डेक डर्बिन ने सवाल उठाए. डेक ने कहा, "सुनवाई में जीना हास्पेल को मौजूद रहना चाहिए था. हमें बताया गया कि वो व्हाइट हाउस के निर्देश पर सुनवाई में शामिल नहीं हुईं. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार