सेंटिनेल द्वीप से छह आदिवासियों को बाहर लाने वाला अधिकारी

  • 30 नवंबर 2018
मॉरिस विदाल पोर्टमैन इमेज कॉपीरइट WIKICOMMONS

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के उत्तरी सेंटिनेल द्वीप पर 27 वर्षीय अमरीकी नागरिक जॉन एलिन शाओ की मौत के बाद मानव विज्ञानी टीएन पंडित का नाम चर्चा में आया.

पंडित वो शख़्स हैं जो सेंटिनेल द्वीप पर जा कर यहां रहने वाली जनजाति के लोगों से मिल चुके हैं.

उनसे इस घटना के बाद सेंटिनेल जनजाति के साथ उनके अनुभव के बारे में पूछा गया और वहां के हालातों पर चर्चा की गई.

लेकिन, 19वीं सदी के आख़िर में ब्रिटिश नौसेना के एक नौजवान अधिकारी भी इस द्वीप पर जा चुके हैं. वो दूसरी जनजाति के कुछ हथियारबंद लोगों को अपने साथ ले कर वहां गए थे, जिनके साथ उनके औपनिवेशक संबंध थे.

सेंटिनेल द्वीप पर जाने वाले इस अधिकारी का नाम था मॉरिस विदाल पोर्टमैन जिन्हें अंडमान में प्रभारी बनाकर भेजा गया था. उन्हें भेजने का मकसद इन अनछुए समुदायों की भाषा और परंपराओं को समझना था. उनका संपर्क बाहरी दुनिया से कराना था.

उस वक्त भी इस आदिवासी जनजाति को लेकर कई बातें सुनने को मिलती थीं, जैसे कि जो लोग ग़लती से इस द्वीप पर पहुंचे उन्हें मार दिया गया या भाले लगे उनके शव पानी में तैरते हुए मिले.

बताया जाता है कि जॉन एलिन शाओ की तरह पोर्टमैन ये सब बातें जानते थे. लेकिन वो उन लोगों के साथ किसी तरह से बात करना चाहते थे.

इमेज कॉपीरइट SURVIVAL INTERNATIONAL

जंगल से ग़ायब हुए थे आदिवासी

इतिहासकार एडम गुडहार्ट ने साल 2000 में अमरीकन स्कॉलर मैगज़ीन में लिखा था कि पोर्टमैन के साथ गए अन्य आदिवासियों ने पूरे द्वीप को छान मारा था लेकिन उन्हें वहां कोई नहीं मिला.

गुडहर्ट ने बताया है, "जब सेंटिनेल आदिवासियों को यूरोपीय लोगों के आने का पता चला तो वो जंगल में ही कहीं गायब हो गए."

वह कहते हैं कि पोर्टमैन और उनके साथ गए लोग इस द्वीप की मिट्टी की उर्वरता और जंगल के पेड़-पौधों को देखकर काफ़ी हैरान थे. वह कई दिनों तक उस द्वीप रुके और अंत में उन्हें वो मिल गया जिसके लिए आए थे.

पोर्टमैन को वहां एक बुर्जुग दंपत्ति और उनके चार बच्चे मिले. वह उन्हें जहाज में अंडमान-निकोबार की राजधानी पोर्ट ब्लेयर ले आए जहां वो रहते थे. वो इन आदिवासियों पर अध्ययन करना चाहते थे.

लेकिन, इस अपहरण का अंत बहुत दुखदायी हुआ.

इमेज कॉपीरइट T N PANDIT
Image caption मानव विज्ञानी टीएन पंडित

जब हुआ बाहरी दुनिया से संपर्क

सेंटिनेल द्वीप से लाए गए लोग बाहरी दुनिया और अन्य इंसानों के संपर्क में कभी नहीं आए थे. उनका शरीर भी कीटाणुओं और बीमारियों के लिए तैयार नहीं था.

इसलिए द्वीप से बाहर आने पर दोनों बुर्जुग कुछ ही समय बाद बीमारी की चपेट में आ गए और उनकी जान चली गई.

इसके बाद चारों आदिवासी बच्चों को तोहफों के साथ उनके द्वीप पर ही वापस भेज दिया गया.

इमेज कॉपीरइट SURVIVAL INTERNATIONAL
Image caption उत्तरी सेंटिनेल

गुडहार्ट ने बताया है कि बाद में पोर्टमैन ने आदिवासियों की ज़िंदगी में इस दख़लअंदाजी को असफलता माना था.

लंदन में रॉयल सोसाइटी ऑफ जियोग्राफी की एक बैठक में उन्होंने भारतीय द्वीपों पर अपने कुछ रोमाचंक अनुभव साझा किए थे.

पोर्टमैन ने कहा था, "आदिवासियों के विदेशियों के साथ संपर्क ने उन्हें सिर्फ़ नुकसान पहुंचाया. मुझे एक बात का बहुत अफसोस है कि ऐसी अच्छी प्रजाति तेज़ी से लुप्त हो रही है."

कई विशेषज्ञों और भारत सरकार का मानना है कि इस जनजाति का अपने सिद्धांतों के अनुसार जीने की इच्छा का सम्मान करना ज़रूरी है.

इमेज कॉपीरइट INDIAN COAST GUARD/SURVIVAL INTERNATIONAL
Image caption हेलीकॉप्टर को नीचे गिराने की कोशिश करता सेंटिनेल आदिवासी

कौन हैं सेंटिनेल आदिवासी?

अंडमान के उत्तरी सेंटिनेल द्वीप में रहने वाली सेंटिनेल एक प्राचीन जनजाति है, इनकी आबादी महज 50 से 150 के क़रीब ही रह गई है.

उत्तरी सेंटिनेल द्वीप एक प्रतिबंधित इलाका है और यहां आम इंसान का जाना बहुत मुश्किल है. यहां तक कि वहां किसी भारतीय के जाने पर भी प्रतिबंध है.

साल 2017 में भारत सरकार ने अंडमान में रहने वाली जनजातियों की तस्वीरें लेने या वीडियो बनाने को ग़ैरक़ानूनी बताया था जिसकी सज़ा तीन साल क़ैद तक हो सकती है.

वैज्ञानिकों का मानना है कि सेंटिनेल जनजाति के लोग क़रीब 60 हज़ार साल पहले अफ़्रीका से पलायन कर अंडमान में बस गए थे. भारत सरकार के अलावा कई अंतरराष्ट्रीय संगठन इस जनजाति को बचाने की कोशिशें कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार