मध्य प्रदेश के नतीजे आने में आख़िर इतनी देरी क्यों हुई

  • 12 दिसंबर 2018
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

मध्य प्रदेश में चुनावी नतीजे की तस्वीर साफ़ होने में दूसरे दिन तक इंतज़ार क्यों करना पड़ा? मध्य प्रदेश में 11 दिसंबर की सुबह आठ बजे शुरू हुई मतगणना कुछ सीटों पर 12 दिसंबर की सुबह तक होती रही. और आख़िरकार 12 दिसंबर को सुबह आठ बजे के बाद ही सभी 230 सीटों की गिनती पूरी हो सकी.

मध्य प्रदेश के नतीजों में इतनी देरी को देख, लोग कह रहे हैं कि बैलट पेपर वाले दिन याद आ गए. ईवीएम होने के बावजूद आख़िर इतनी देरी क्यों हुई?

ईवीएम से अब तक हुए चुनावों में दोपहर बाद ही नतीजों की तस्वीर साफ़ हो जाती थी. वीवीपीएटी मशीन का पहली बार मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में इस्तेमाल किया गया है.

चुनाव आयोग के हवाले से कई मीडिया रिपोर्ट्स छपी है कि वोटर-वेरिफ़ाइएबल पेपर ऑडिट ट्रेल यानी वीवीपीएटी से दोबारा मिलान के कारण ज़्यादा वक़्त लगे.

मध्य प्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों के सभी मतगणना केंद्रों के किसी न किसी एक ईवीएम के वोटों का मिलान वीवीपीएट से किया गया है और इसे ही देरी की वजह बताई जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आशंका की स्थिति में वीवीपीएटी से मिलान

मध्य प्रदेश के सभी 306 मतगणना केंद्रों पर पहले 30 मिनट तक पोस्टल बैलट की गिनती हुई और उसके बात ईवीएम के मतों की गिनती शुरू हुई थी.

मध्य प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी वीएल कांता राव ने मीडिया से मंगलवार को कहा कि निर्वाचन अधिकारियों को मतगणना केंद्रों पर प्रत्येक चरण की गिनती के बाद वीपीपीएटी से मतों का मिलान करना पड़ा.

उन्होंने कहा कि अगर उम्मीदवार को लगता है कि वोटों की गिनती में कोई गड़बड़ी हुई है तो वीवीपीएटी से मतों का मिलान करना होता है.

छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिज़ोरम में मतों की गिनती के नतीजों की तुलना में राजस्थान और मध्य प्रदेश में देरी हई. मध्य प्रदेश के चुनाव अधिकारी आनंद कुमार ने नतीजों में देरी पर कहा कि वीवीपीएटी से मिलान के कारण देरी हुई है.

मंगलवार की शाम कुमार ने कहा कि कितनी देरी होगी इसे लेकर कुछ कहा नहीं जा सकता है. वहीं वीएल कांता राव का भी कहना है कि सभी उम्मीदवारों को सर्टिफ़िकेट सभी चरणों की मतगणना पूरी होने के बाद दिया गया.

मंगलवार की शाम पाँच बजे तक मध्य प्रदेश के ज़्यादातर मतगणना केंद्रों पर वोटों की गिनती पूरी नहीं हुई थी. कई मतदान केंद्रों पर न्यूनतम 10 राउंड में वोटों की गिनती हुई और अधिकतम 32 राउंड में. चुनाव अधिकारियों का कहना है कि कई मतदान केंद्रों पर 21 राउंड तक की गिनती हो गई थी तो कई पर 10 और 11 राउंड तक ही गिनती हो पाई थी.

छत्तीसगढ़ में योगी का आशीर्वाद क्यों हुआ निष्फल?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रमुख कमलनाथ और राज्य में कांग्रेस के चुनावी अभियान के प्रमुख ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिल्ली में मुख्य चुनाव आयुक्त से मिल सभी राउंड के मतों की गिनती हो जाने पर एक सर्टिफिकेट की मांग की थी.

कहा जा रहा है कि इस प्रक्रिया के कारण भी मध्य प्रदेश में देरी हुई. जहां ज़्यादा उम्मीदवार थे, वहां वोटों की गिनती में ज़्यादा वक़्त लगा और उसके बाद सभी उम्मीदवारों को सर्टिफिकेट भी देना था.

एक कारण यह भी बताया जा रहा है कि कई सीटों पर जीत का फ़ासला इतना कम था कि प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवारों ने फिर से गिनती की मांग की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार