सुब्रमण्यम स्वामी की नरेंद्र मोदी और अमित शाह को नसीहत

  • 12 दिसंबर 2018
इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption कांग्रेस को छत्तीसगढ़ के अलावा राजस्थान और मध्य प्रदेश में साफ बहुमत नहीं मिला

विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की हार के बाद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि किसी को भी ख़ुद को जनता का ठेकेदार नहीं समझना चाहिए और पार्टी को जागने की ज़रूरत है.

बीबीसी से एक ख़ास बातचीत में जब पार्टी के प्रदर्शन और पार्टी अध्यक्ष की रणनीति के बारे में पूछा गया, तो सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, "हम तो कहते थे जीतते जाएंगे, जीतते जाएंगे लेकिन जनता के बारे में कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता है. इंदिरा गांधी भी यही समझती थीं लेकिन क्या हुआ? वो ख़ुद हार गईं."

दावा

अपनी बेबाकी के लिए जाने जानेवाले स्वामी ने किसी का नाम तो नहीं लिया लेकिन लोगों को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का वो बयान याद होगा, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि 2019 वो जीतेंगे और उसके बाद अगले 50 सालों तक पार्टी देश में शासन करेगी.

सितंबर में बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ये बात मीडिया को बताई थी.

मंगलवार को आए चुनाव नतीजे में बीजेपी को हिंदी पट्टी के तीन राज्यों- मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में हार का सामना करना पड़ा है और कांग्रेस तीनों सूबों में सरकार बनाने की प्रक्रिया में है.

लेकिन सुब्रमण्यम स्वामी का कहना है कि इन वोटों को कांग्रेस के पक्ष में नहीं देखा जाना चाहिए, क्योंकि छत्तीसगढ़ के अलावा कांग्रेस को दोनों में से किसी राज्य में बहुमत नहीं मिला है.

स्वामी ने कहा, "उत्तर-पूर्वी राज्य मिज़ोरम जहां कांग्रेस पार्टी सत्ता में थी, वहां वो हार गई है और दक्षिणी राज्य तेलंगाना में भी उसे कोई कामयाबी हासिल नहीं हुई."

Image caption स्वामी ने नए आरबीआई गवर्नर की नियुक्ति पर प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी है

भाजपा के राज्य सभा सांसद का कहना था कि चुनाव नतीजों से स्पष्ट हो गया है कि पब्लिक बीजेपी को जगाना चाहती थी.

उनका कहना था कि नोटबंदी और जीएसटी की वजह से किसान और व्यापारियों में नाराज़गी है. ये लोग परंपरागत रूप से बीजेपी के समर्थक रहे हैं.

मध्य प्रदेश में 47 हज़ार वोट ज़्यादा मिलने पर भी कैसे हारी बीजेपी?

राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी के लिए विधानसभा चुनाव के नतीजों के क्या मायने है?

भारत के 29 राज्यों में सिर्फ़ एक महिला मुख्यमंत्री क्यों है?

मध्य प्रदेश के नतीजे आने में आख़िर इतनी देरी क्यों हुई

वो विदेशों से काला धन वापस लाने के बीजेपी का वादे पूरा न हो पाने को भी जनता की नाराज़गी की वजह मानते हैं और दावा करते हैं कि 15 लाख रुपए हर भारतीय के खाते में दिए जाने का जो वादा प्रधानमंत्री ने किया था वो पूरा होगा.

स्वामी ये भी कहते हैं कि राम मंदिर के निर्माण के मुद्दे पर बीजेपी को ज़ोर-शोर से काम करना होगा. हालांकि इस मामले को वो अदालत के ज़रिए सुलझाना चाहते हैं जहां उनकी एक याचिका लंबित है.

आरएसएस और वीएचपी राम मंदिर निर्माण के लिए क़ानून लाने की मांग कर रहे हैं लेकिन स्वामी का कहना है कि क़ानून या विधेयक लाए जाने के मामले पर वो कुछ नहीं बोलना चाहेंगे क्योंकि उससे जो क़ानूनी प्रक्रिया उन्होंने अदालत में चला रखी है उसको नुक़सान हो सकता है.

नाराज़गी

शक्तिकांत दास को आरबीआई का गवर्नर नियुक्त किए जाने पर सुब्रमण्यम स्वामी नाराज़ हैं और उनका कहना है कि वो नहीं समझ सकते हैं कि जिस आदमी को उन्होंने वित्त मंत्रालय से बाहर करवाया था, उसे देश के केंद्रीय बैंक का मुखिया कैसे बना दिया गया.

उनका कहना था कि उन्होंने इस मामले पर प्रधानमंत्री को लिखा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार