अमरीकी सीनेट से क्यों चिढ़ा सऊदी अरब?- आज की पाँच बड़ी ख़बरें

  • 17 दिसंबर 2018
सलमान इमेज कॉपीरइट EPA

सऊदी अरब ने अमरीकी सीनेट के उस प्रस्ताव की निंदा की है जिसमें पत्रकार जमाल ख़ाशोज्जी की हत्या मामले में क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को ज़िम्मेदार ठहराने के लिए वोटिंग की गई.

सऊदी अरब के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि ये सऊदी के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप की कोशिश है और सीनेट का प्रस्ताव झूठे आरोपों पर आधारित था.

अमरीकी सीनेट ने सऊदी अरब के नेतृत्व में यमन में चल रहे युद्ध से अमरीकी मदद ख़त्म करने और पत्रकार की हत्या के लिए सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को ज़िम्मेदार मानने के पक्ष में मतदान किया था.

इसे अमरीकी राष्ट्रपति के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है क्योंकि वह इन दोनों ही बातों के ख़िलाफ़ थे. ट्रंप प्रशासन इस बिल का विरोध कर रहा था.

ट्रंप ने इस मामले पर वीटो करने की बात कही थी.

हालांकि हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेंटेटिव्स में इस बिल का पारित होना बहुत मुश्किल है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आज तीन राज्यों में होगा शपथ ग्रहण समारोह

छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की जीत के बाद आज तीनों राज्यों में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली जाएगी.

सियासी माथापच्ची के बाद कांग्रेस ने इन तीनों राज्यों के लिए मुख्यमंत्री पद के नामों पर मुहर लगाई थी.

मध्य प्रदेश में कमलनाथ, राजस्थान में अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस का बसपा सुप्रीमो मायावती ने साथ दिया है. लेकिन माना जा रहा है कि वो किसी भी शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत नहीं करेंगी.

इससे ठीक एक दिन पहले रविवार को विधायक दल की बैठक में छत्तीसगढ़ के लिए भूपेश बघेल के नाम पर मुहर लगी थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

सिख दंगों में आज आएगा फ़ैसला

1984 के सिख दंगों से जुड़े एक मामले में दिल्ली हाईकोर्ट आज फ़ैसला सुना सकती है.

इस केस में कांग्रेस नेता सज्जन कुमार अभियुक्त हैं. सज्जन को निचली अदालत ने बरी कर दिया था.

दिल्ली पुलिस ने 1984 में ये केस बंद कर दिया गया था.

लेकिन नानावटी कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर 2005 में इस मामले में फिर से केस दर्ज किया गया.

ये मामला दिल्ली कैंट इलाके का है. तारीख़ थी 1 नवंबर 1984. इस दिन हज़ारों लोगों की भीड़ ने सिख समुदाय के लोगों पर हमला कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

फेथाई चक्रवात का ख़तरा

आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटीय क्षेत्र में फेथाई चक्रवात का ख़तरा बढ़ता दिख रहा है.

चक्रवात के ख़तरे को देखते हुए हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है.

बंगाल की खाड़ी में उठा ये चक्रवाती तूफान आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों की ओर बढ़ता नज़र आ रहा है. इसकी वजह से इन इलाकों में भारी बारिश की आशंका है. इस दौरान हवाओं की गति 100 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है.

विशाखापट्टनम चक्रवात चेतावनी केंद्र के मुताबिक़, अगले कुछ घंटों में चक्रवात फेथाई मज़बूत होगा. हालांकि कहा जा रहा है कि सोमवार दोपहर तक ये चक्रवात कमज़ोर हो जाएगा.

चक्रवात को देखते हुए आपदा प्रबंधन की टीमों को अलर्ट पर रखा गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आज बीजेपी करेगी 70 प्रेस कॉन्फ्रेंस

आज भारतीय जनता पार्टी देश के अलग-अलग हिस्सों में 70 प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी.

ये प्रेस कॉन्फ्रेंस रफ़ाल सौदे को लेकर कांग्रेस के पीएम नरेंद्र मोदी पर 'हल्ला बोल' के ख़िलाफ़ की जाएंगी.

बीजेपी का कहना है कि वो कांग्रेस की ओर से मोदी के ख़िलाफ़ रची जा रही साज़िश का पर्दाफाश करेगी.

इन कॉन्फ्रेंस का ऐलान ऐसे वक़्त में हुआ है, जब शनिवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के रफ़ाल को लेकर सुनाए फ़ैसले पर सुधार की अर्जी लगाई है.

सरकार ने उस पैराग्राफ़ में संशोधन का अनुरोध किया था, जिसमें सरकार की ओर से कोर्ट को दी गई जानकारी को उद्धृत करते हुए कहा गया था कि रफ़ाल विमानों की क़ीमत के ब्यौरे सीएजी को सौंप दिए गए हैं और उसकी पीएसी ने भी जांच की है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, एक अधिकारी ने बताया कि सरकार की ओर से इस संबंध में एक शपथ पत्र दाख़िल किया गया था. सरकार की ओर से सीलबंद लिफाफे में शीर्ष कोर्ट को सौंपे गए दस्तावेज़ में सीएजी और पीएसी से जुड़ी बात को ग़लत समझा गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार