बिहार में जेडीयू-बीजेपी और पासवान के बीच हुई सीटों की घोषणा

  • 23 दिसंबर 2018
बीजेपी इमेज कॉपीरइट @BJP4India

बिहार में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए (नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस) में 2019 के लोकसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर चल रही उठापटक ख़त्म हो गई है.

शनिवार को बीजेपी प्रमुख अमित शाह, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लोक जनशक्ति पार्टी प्रमुख रामविलास पासवान ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर सीटों से बंटवारे की घोषणा कर दी.

बीजेपी और जेडीयू को 17-17 सीटें मिली हैं और रामविलास पासवान को 6 सीटें मिली हैं. रामविलास पासवान ने 6 सीटों पर संतोष जताया. नीतीश कुमार ने भी इस मौक़े पर कहा कि रामविलास पासवान को सम्मानजनक सीटें मिली हैं.

नीतीश ने कहा कि यह गठबंधन 2009 के लोकसभा चुनाव से भी ज़्यादा सीटों पर जीत दर्ज करेगा. अमित शाह ने रामविलास पासवान को राज्यसभा भेजने की भी घोषणा की.

सीटों के बँटवारे की घोषणा करते हुए अमित शाह ने कहा कि बिहार की ज़मीनी राजनीति हक़ीक़त तो देखते हुए तीनों पार्टियों ने यह फ़ैसला लिया है. अमित शाह ने कहा कि तीनों पार्टियों को भरोसा है कि 2019 के चुनाव में एनडीए को 2014 से भी ज़्यादा सीटों पर जीत मिलेगी.

नीतीश कुमार को प्रशांत जैसे लोग ही क्यों रास आते हैं

नीतीश कुमार की सियासी मुश्किलों का हल निकाल पाएंगे प्रशांत किशोर?

बढ़ते अपराध के बीच बोले सीएम नीतीश- 'सब ठीक है'

इमेज कॉपीरइट @NitishKumar

हाल ही में अमित शाह की मुलाक़ात रामविलास पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान से हुई थी. चिराग पासवान ने इस मुलाक़ात के बाद कहा था कि सीटों की घोषणा जल्द ही होगी. चिराग ने हाल ही में बीजेपी को सीटों के बँटवारे को लेकर 31 दिसंबर तक का अल्टीमेटम दिया था.

उपेंद्र कुशावहा के एनडीए से बाहर निकलने के बाद पासवान के भी एनडीए छोड़ने के क़यास लगाए जा रहे थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 30 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे और 22 पर जीत मिली थी.

एलजेपी को 6 और उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी को तीन सीटों पर जीत मिली थी. 2014 में नीतीश कुमार की पार्टी ने अकेले चुनाव लड़ा था लेकिन महज दो सीटों पर ही जीत मिली थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार