बोगीबील ब्रिज के उद्घाटन पर क्यों नाराज़ हैं पूर्व पीएम: प्रेस रिव्यू

बोगीबील ब्रिज

इमेज स्रोत, AVIK CHAKRABORTY

रणनीतिक महत्व वाले इस पुल के उद्घाटन पर नाराज़गी क्यों?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ब्रह्मपुत्र नदी पर बने देश के सबसे लंबे डबल डेकर रेल और रोड ब्रिज का उद्घाटन किया.

असम के डिब्रूगढ़ शहर के पास बोगीबील में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने इस पुल की लंबाई तक़रीबन 4.94 किलोमीटर है.

सुरक्षा रणनीति के नज़रिए से इस पुल को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

जानकारों का मानना है कि ब्रह्मपुत्र के दोनों तरफ बसे लोगों की कनेक्टिविटी के अलावा असम के इस हिस्से को चीन की सीमा से सटे अरुणाचल प्रदेश से जोड़ना बेहद ज़रूरी था. ताकि बिना किसी दिक़्क़त के भारतीय फ़ौज अपने सामान के साथ सीमावर्ती प्रदेश के आख़िरी छोर तक कम समय में पहुंच सके.

लेकिन पुल के उद्घाटन समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा को नहीं बुलाया गया, जबकि इस पुल की आधारशिला उन्होंने ही साल 1997 में रखी थी. उद्घाटन समारोह में नहीं बुलाए जाने पर उन्होंने नाराज़गी जताई है. इस ख़बर को दैनिक हिंदुस्तान ने पहले पन्ने पर जगह दी है.

चलती कार में आग लगने से व्यक्ति की मौत

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

सांकेतिक तस्वीर

नोएडा की एक कंपनी से नाइट शिफ्ट करने के बाद मंगलवार को ग्रेटर नोएडा अपने घर लौट रहे एक इंजीनियर की कार में जलकर मौत हो गई.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने इस ख़बर को पहले पन्ने पर लिया है. कासना के पास फोर्ड इकोन गाड़ी में आग लगने से 45 वर्षीय इंजीनियर की मौत हो गई है. हादसा सुबह क़रीब पांच बजे हुआ.

इस मामले में किसी तरह की शिकायत दर्ज़ नहीं कराई गई है. पुलिस के मुताबिक़ गाड़ी में शार्ट सर्किट होने की वजह से आग लग गई.

दिल्ली में फिर लागू हो सकता है ऑड-ईवन

इमेज स्रोत, AFP

दिल्ली-एनसीआर में वायू प्रदूषण की समस्या गंभीर बनी हुई है. ताज़ा माहौल का जायज़ा लेते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार प्रदूषण से निपटने के लिए हर ज़रूरी क़दम उठा रही है.

केजरवाल का कहना है कि अगर प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए ज़रूरी हुआ तो सरकार एक बार फिर ऑड-ईवन लागू कर सकती है. नवभारत टाइम्स ने इस ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है.

मेहुल चोकसी भी बैंको का पैसा लौटाने को तैयार

इमेज स्रोत, Getty Images

देश के बैंकों को हजारों करोड़ रुपये का चूना लगाकर विदेश भागे आर्थिक अपराधियों पर नए क़ानून का ख़ौफ़ दिख रहा है.

यह ख़बर छापी है दैनिक जागरण अख़बार ने. अख़बार का कहना है कि भगोड़ा आर्थिक अपराधी क़ानून का फंदा कसता देख अब मेहुल चौकसी भी बैंकों का पैसा चुकाने के लिए तैयार हो गए हैं.

चोकसी 13 हज़ार करोड़ के पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी हैं और गिरफ़्तारी से बचने के लिए फ़िलहाल एंटीगुआ की नागरिकता लेकर वहीं रह रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)