कोर्ट ने कहा, 'सोहराबुद्दीन केस में नेताओं को फंसाना चाहती थी CBI': 5 बड़ी ख़बरें

  • 29 दिसंबर 2018
अमित शाह इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोहराबुद्दीन, तुलसी प्रजापति और कौसर बी के कथित फर्ज़ी एनकाउंटर मामले में सभी 22 दोषियों को रिहा करने वाली विशेष अदालत ने अपने विस्तृत फैसले में कहा है कि सीबीआई इस मामले में कुछ नेताओं को फंसाना चाहती थी.

अदालत ने कहा कि सीबीआई के पास पहले से तय एक थ्योरी और स्क्रिप्ट थी जिसका मक़सद किसी तरह कुछ नेताओं को फंसाना था.

21 दिसंबर को दिए गए 350 पन्नों के फैसले में स्पेशल सीबीआई जज एसजे शर्मा ने मामले में अभियुक्त रहे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का भी ज़िक्र किया.

उन्होंने कहा, "मुझसे पहले वाले जज ने आरोपी नंबर 16 (अमित शाह) को आरोपों से मुक्त करते हुए साफ तौर पर कहा था कि जांच राजनीति से प्रेरित थी."

सीबीआई ने शुरू में अमित शाह को इस मामले में आरोपी बनाया था लेकिन 2014 में उन्हें आरोपों से बरी कर दिया गया था.

जज एसजे शर्मा ने कहा, "मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि सीबीआई जैसी एक शीर्ष जांच एजेंसी के पास एक पहले से तय थ्योरी और पटकथा थी, जिसका मक़सद राजनेताओं को फंसाना था. महत्वपूर्ण सबूतों के प्रति सीबीआई ने लापरवाही बरती, जो स्पष्ट संकेत देती है कि एजेंसी ने आनन-फानन में जांच पूरी की."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रूठों को मनाएंगे मोदी?

उत्तर प्रदेश में सहयोगी दलों की नाराज़गी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज ग़ाज़ीपुर में रैली करेंगे.

एनडीए गठबंधन में शामिल अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के नेता हाल ही में पर्याप्त सम्मान न मिलने का आरोप लगाते हुए भाजपा के ख़िलाफ़ बयान दे चुके हैं.

माना जाता है कि ग़ाज़ीपुर ज़िले में सुहेलदेव पार्टी के नेता ओमप्रकाश राजभर की अच्छी पकड़ है. वह ज़िले की ज़हूराबाद सीट से ही विधायक है. हालांकि रैली में उनकी अनुपस्थिति के कयास भी लगाए जा रहे हैं.

ख़बर यह भी है कि प्रधानमंत्री इस रैली के दौरान ही राजा सुहेलदेव के नाम पर डाक टिकट जारी कर सकते हैं. उनके इस क़दम को रूठे सहयोगी दल को मनाने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट PENMOVIES/TRAILERGRAB/BBC

'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' पर बैन नहीं: कांग्रेस

कांग्रेस ने साफ़ किया है कि मध्य प्रदेश सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ज़िंदग़ी पर आधारित फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' पर प्रतिबंध नहीं लगाया है.

शुक्रवार शाम कुछ मीडिया रिपोर्टों में यह दावा किया गया था कि प्रदेश कांग्रेस सरकार ने फिल्म पर प्रतिबंध का ऐलान कर दिया है, जिसके बाद भाजपा नेताओं ने अभिव्यक्ति की आज़ादी के हवाले से कांग्रेस को निशाने पर लिया था.

लेकिन पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने ट्विटर पर जानकारी दी कि यह ख़बर सही नहीं है.

उन्होंने लिखा, "यह ग़लत है. मध्य प्रदेश सरकार ने ऐसा कोई क़दम नहीं लिया है. बीजेपी का फर्ज़ी प्रोपेगेंडा हमें मोदी सरकार को इन विषयों पर सवाल करने से नहीं रोकेगा- ग्रामीण भारत की हताशा, बेरोज़गारी, नोटबंदी की भूल, ख़ामियों वाला जीएसटी, नाकाम मोदीनॉमिक्स और व्यापक भ्रष्टाचार."

फिल्म में अनुपम खेर मनमोहन सिंह की भूमिका निभा रहे हैं. भारतीय जनता पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से फिल्म का प्रचार किया गया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कादर ख़ान के लिए दुआएं

अपने समय के दिग्गज बॉलीवुड अभिनेता और लेखक कादर ख़ान की सेहत बिगड़ने की ख़बरें हैं और सोशल मीडिया पर उनके शीघ्र स्वस्थ होने की दुआएं की जा रही हैं.

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि वह कनाडा के एक अस्पताल में भर्ती हैं. उन्हें सांस की तक़लीफ़ है.

अभिनेता अमिताभ बच्चन ने शुक्रवार को इस बारे में ट्वीट करते हुए लिखा, "कादर ख़ान, शानदार प्रतिभा वाले लेखक-अभिनेता. उनकी सलामती और जल्द स्वस्थ होने के लिए प्रार्थनाएं और दुआएं. मैंने उन्हें स्टेज पर परफॉर्म करते देखा और अपनी फिल्मों के लेखक के तौर पर उनका स्वागत किया. शानदार साथी, तुला राशि वाले और बहुत कम लोग नहीं जानते होंगे कि उन्होंने गणित पढ़ाई थी."

इमेज कॉपीरइट AFP

ट्रंप की मध्य अमरीकी देशों को चेतावनी

राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने तीन मध्य अमरीकी देशों को आर्थिक मदद में भारी कटौती की चेतावनी दी है. ट्रंप ने ट्विटर पर लिखा कि ग्वाटेमाला, होंडुरास और अल सल्वाडोर सालों से अमरीका का अनुचित फ़ायदा उठाते रहे हैं.

अक्टूबर में भी ट्रंप ने कहा था कि चूँकि ये देश अपने नागरिकों का अमरीका में ग़ैरक़ानूनी प्रवेश रोकने में नाकाम रहे हैं, इसलिए वे उनकी आर्थिक मदद में कटौती करना शुरू कर देंगे.

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने डेमोक्रेट्स सांसदों से अपील की है कि वे मेक्सिको सीमा पर प्रस्तावित दीवार के लिए ज़रूरी फंड्स को मंज़ूरी दें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार