राहुल गांधी मोदी से और लोग राहुल से बोले- BeAMan

  • 10 जनवरी 2019
राहुल और मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पर दिया बयान सोशल मीडिया पर छाया हुआ है.

जयपुर में बुधवार को हुई किसान रैली में राहुल गांधी ने रफ़ाल सौदे को लेकर संसद में हुई बहस पर पीएम मोदी को घेरा था.

राहुल ने कहा था, ''56 इंच की छाती वाला प्रधानमंत्री लोकसभा में एक मिनट के लिए नहीं आ पाया. ढाई घंटे निर्मला सीतारमण जी ने भाषण दिया. हमने भाषण की धज्जियां उड़ाईं. वो जवाब नहीं दे पाईं. लोकसभा में रफ़ाल पर बहस हो रही थी, मोदी पंजाब भाग गए. चौकीदार रफ़ाल पर एक मिनट भी नहीं बोल पाए... चौकीदार लोकसभा में पैर नहीं रख पाया. और एक महिला से कहता है कि निर्मला सीतारमण जी आप मेरी रक्षा कीजिए, मैं अपनी रक्षा नहीं कर पाऊंगा. आपने देखा कि ढाई घंटे महिला रक्षा नहीं कर पाई.''

राहुल गांधी ने एक ट्वीट कर कहा, ''हमारी सभ्यता में महिलाओं का सम्मान घर से शुरू होता है. डरना बंद कीजिए. मर्दों की तरह बात कीजिए. और मेरे सवाल का जवाब दीजिए. क्या वायुसेना और रक्षा मंत्रालय ने असली रफ़ाल डील को ख़त्म किए जाने का विरोध किया था?''

राहुल गांधी के इस बयान की पीएम नरेंद्र मोदी ने आलोचना की. मोदी ने कहा, ''अब विपक्ष एक महिला का अपमान करने पर उतारू हो गया है. यह देश की महिलाओं का अपमान है."

राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस बयान को लेकर राहुल गांधी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

सोशल मीडिया पर 'मर्द बनिए' टॉप ट्रेंड

राहुल गांधी ने पीएम मोदी से 'मर्द बनिए' यानी Be A Man कहा था.

ये Be A Man की ट्विटर पर टॉप ट्रेंड है. बीजेपी से जुड़े लोग और आम लोग इस हैशैटग के साथ ट्वीट कर रहे हैं.

बीजेपी आइटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट किया, ''राहुल गांधी का देश की रक्षा मंत्री के लिए ऐसे आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल हैरान करने वाला है. वो भी इसलिए क्योंकि वो महिला हैं. असली मर्द औरतों का अपमान नहीं करते हैं. #BeAMan'

संचिता गजपति ने ट्वीट किया, ''रक्षा मंत्री निर्मला पर राहुल गांधी का बयान शर्मनाक है. ये हर भारतीय महिला का अपमान है. असली मर्द महिला का सम्मान करता है.''

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा लिखती हैं, ''राहुल गांधी इस बयान से क्या साबित करना चाहते हैं. क्या वो ये सोचते हैं कि महिलाएं कमज़ोर हैं?''

शीतल मिश्रा लिखती हैं, ''पीएम मोदी ने डर की वजह से संयुक्त राष्ट्र में सुषमा स्वराज को भेजा होगा? क्यों राहुल गांधी जी?''

खुद को मोदी समर्थक बताने वाली रिद्धिमा त्रिपाठी लिखती हैं, ''ये आदमी जो एक औरत की इज्जत नहीं कर सकता. वो हमारे भारत को चलाना चाहता है. कमाल है.''

हालांकि कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो पीएम मोदी के सुनंदा पुष्कर पर 2012 में दिए बयान को ट्वीट कर रहे हैं.

इस ट्वीट किए वीडियो में मोदी ये कहते नज़र आते हैं, ''भाइयों बहनों, क्या देश में कभी किसी ने 50 करोड़ की गर्लफ्रेंड देखी है. 50 करोड़ की गर्लफ्रेंड इस ग़रीब देश में.''

पहले कब-कब नेताओं के बिगड़े बोल?

राहुल गांधी का किसी महिला को लेकर दिया बयान पहला वाकया नहीं है.

इससे पहले कई ऐसे मौक़े रहे हैं, जिसमें नेताओं ने महिलाओं को लेकर बयान दिए हैं. इन बयानों को लेकर काफी आपत्तियां जताई गईं और विवाद भी हुआ.

ये लिस्ट यूं तो काफी लंबी है. लेकिन हम आपको यहां कुछ बयान पढ़वाते हैं.

आइए ऐसे ही बयानों पर एक नज़र डालते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

नरेंद्र मोदी

दिसंबर 2018:विधानसभा चुनावों के लिए पीएम नरेंद्र मोदी प्रचार कर रहे थे.

मोदी ने तब कहा था, ''कांग्रेस की नींद क्यों हराम हो गई है. कांग्रेस की सरकार में जो बेटी पैदा नहीं हुई, वो विधवा भी हो गई और पेंशन भी मिल गई. ये रुपये कौन विधवा थी जो लेती थी. ये कांग्रेस की कौन सी विधवा थी, जिसके खाते में रुपया जाता था.''

फरवरी 2018:पीएम मोदी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बोल रहे थे. इस दौरान कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी ज़ोर-ज़ोर से हँसने लगीं. तब सभापति वेंकैया नायडू ने रेणुका को चुप रहने के लिए कहा.

तब पीएम मोदी ने कहा था, ''सभापति जी, मेरी आपसे विनती है कि रेणुका जी को कुछ मत कहिए. रामायण सीरियल के बाद ऐसी हँसी सुनने का सौभाग्य आज मिल पाया है.''

क्तूबर 2012:एक चुनावी रैली में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुनंदा पुष्कर को लेकर एक बयान दिया था.

मोदी ने कहा था, ''भाइयों बहनों बता दीजिए. इस देश में कभी किसी ने 50 करोड़ की गर्लफ्रेंड देखी है. इस ग़रीब देश में. और उस समय इतना माहौल ख़राब हो गया कि उनसे इस्तीफ़ा ले लिया गया. अभी भी वो ऐसे मामले में लटके हुए हैं. कल भी उनको मंत्री बनाकर बाइज्ज़त बरी कर दिया गया. कांग्रेस का कल्चर देखिए.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शरद यादव

जनवरी 2013:जेडीयू नेता शरद यादव ने दिल्ली गैंगरेप केस पर एक विवादित बयान दिया था.

शरद यादव ने कहा था, ''जैसा खाना खाना, सांस लेना स्वभाविक है. उसी तरह सेक्स है. 15-20 दिन में नौजवान को चाहिए. अब ये सच्ची बात देश मानने को तैयार नहीं है. देश पाखंड करता है.''

हालांकि विवादों में घिरने के बाद शरद यादव ने कहा था- मेरे बयान को ग़लत तरीके से पेश किया गया.

1996: महिला आरक्षण विधेयक.

जब इस विधेयक को पहली बार लोकसभा में पेश करने की कोशिश की गई थी तब भी सत्तारूढ़ पक्ष में एक राय नहीं थी.

तब गठबंधन की एक प्रमुख पार्टी के नेता शरद यादव ने विधेयक के प्रावधानों पर ऐतराज़ जताया था और यहां तक कहा था कि इस विधेयक से सिर्फ़ ''परकटी महिलाओं'' को ही फ़ायदा पहुंचेगा.

2015:राज्यसभा में बीमा बिल पर चर्चा हो रही थी.

तब शरद यादव ने कहा था, ''दक्षिण भारतीय महिलाएं सांवली तो ज़रूर होती हैं लेकिन उनका शरीर ख़ूबसूरत होता है. उनकी त्वचा सुंदर होती है और वो नाचना जानती हैं. निर्भया पर डॉक्यूमेंट्री बनाने वाली लेस्ली के किस्से से पता चलता है कि भारतीय लोग गोरी चमड़ी के आगे सरेंडर करते हैं.''

इमेज कॉपीरइट fb

कांग्रेस नेता संजय निरूपम

साल 2012: गुजरात विधानसभा चुनावों का वक़्त.

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने एक टीवी डिबेट के दौरान स्मृति ईरानी पर कहा था, ''आपको राजनीति में आए हुए चार दिन हुए हैं. कल तक टीवी पर ठुमके लगाती थीं. अब राजनीतिक विश्लेषक बनके घूम रही हैं.''

कांग्रेस की शीला दीक्षित

साल 2012 में दिल्ली गैंगरेप के बाद दिल्ली की तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का एक बयान काफी विवादों में रहा था.

शीला दीक्षित ने कहा था, ''लड़कियों को इतना एडवेंचरेस नहीं होना चाहिए कि आधी रात को घर से बाहर निकलें.''

बीजेपी के मुख्तार अब्बास नकवी

साल 2008: मुंबई में चरमपंथी हमले के बाद ताज होटल का दौरा करने वाले नेताओं के साथ फ़िल्मकार रामगोपाल वर्मा भी गए थे.

इस पर काफी विवाद हुआ था. बीजेपी के तत्कालीन उपाध्यक्ष मुख्तार ने कहा था, ''रामगोपाल के ताज जाने से मुझे कोई ऐतराज नहीं है. ये ठीक उसी तरह से है, जैसे हमारी कुछ माताएं, बहनें लिपिस्टिक, पाउडर लगाकर पश्चिमी पोशाक पहने हुए मोमबत्ती लेकर नेताओं को गाली दे रही हैं.''

इमेज कॉपीरइट Pti

मुलायम सिंह यादव

साल 2015:उत्तर प्रदेश में सपा की सरकार थी.

तब एक मंच से मुलायम ने कहा था, ''अक्सर ऐसा होता है कि रेप एक आदमी करता है लेकिन नाम चार लोगों का आता है. ये कैसे संभव है? ये प्रैक्टिकल नहीं है.''

इसके अलावा मुलायम का 2014 का वो बयान भी ख़बरों में रहा था, ''क्या रेप में फ़ांसी दी जाएगी. अरे लड़के हैं. ग़लती हो जाती है.''

नरेश अग्रवाल

साल 2018. सपा से बीजेपी में आए नरेश अग्रवाल का जया बच्चन को लेकर दिया एक बयान काफी चर्चा में रहा था.

नरेश अग्रवाल ने कहा था, ''फ़िल्मों में नाचने वाली की ख़ातिर मेरा टिकट काटा गया.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार