प्रियंका गांधी के बारे में कितना जानते हैं आप

  • 23 जनवरी 2019
प्रियंका गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

साल 1988. इंदिरा गांधी की हत्या को चार साल बीत चुके थे. तभी एक मंच पर लोगों ने प्रियंका गांधी को देखा.

प्रियंका की उम्र तब सिर्फ़ 16 साल थी. ये प्रियंका का पहला सार्वजनिक भाषण था. इस भाषण के 31 साल बाद कांग्रेस समर्थक अक्सर जिस मांग को उठाते रहे थे, वो अब पूरी हो गई है.

कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को महासचिव बनाकर पूर्वी उत्तर प्रदेश की ज़िम्मेदारी दी है.

हालांकि 2014 आम चुनावों से पहले भी ये माना जा रहा था कि प्रियंका वाराणसी से चुनाव लड़ना चाहती थीं.

लेकिन मोदी के ख़िलाफ़ लड़ने के जोखिम को देखते हुए इस फ़ैसले पर मुहर नहीं लग पाई.

बीते साल सोनिया गांधी से जब प्रियंका के राजनीति में आने की बात पूछी गई थी, तब उन्होंने कहा था कि ये प्रियंका तय करेंगी कि वो राजनीति में कब आना चाहती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रियंका को कहते हैं भया जी

प्रियंका गांधी जब छोटी थीं और अपने पिता राजीव और सोनिया के साथ रायबरेली जाती थीं तो उनके बाल हमेशा छोटे रहते थे.

अमेठी और रायबरेली के दौरे पर गांव के लोग राहुल की तरह प्रियंका को भी भइया बुलाते थे. अगले कुछ सालों में ये बदलकर भइया जी हो गया.

यूपी में प्रियंका की लोकप्रियता को आप यूं भी समझ सकते हैं कि आम लोग उन्हें काफ़ी पसंद करते हैं.

इसकी एक वजह प्रियंका का हेयरस्टाइल, कपड़ों के चयन और बात करने के सलीके में इंदिरा गांधी की छाप का साफ नज़र आना.

प्रियंका जब यूपी के दौरे पर रहती हैं तो उनका दिन सुबह छह बजे शुरू होता है. ट्रेडमिल पर थोड़ी मशक्कत करने के बाद प्रियंका योग करती हैं.

बताया जाता है कि प्रियंका यूपी दौरे पर जब रहती हैं तो रोटी या परांठे के साथ सब्ज़ी और दाल खाना पसंद करती हैं. साथ में आम/नींबू के अचार के साथ.

हालांकि प्रियंका और उनके पति रॉबर्ट वाड्रा को मुग़लई खाना भी बेहद पसंद है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रिक्शा की सैर

प्रियंका ने चुनावी प्रचार साल 2004 में शुरू किया था.

तब प्रियंका बतौर मेहमान रायबरेली निवासी रमेश बहादुर सिंह के घर पर एक महीने ठहरी थीं.

रमेश ने बीबीसी को इस बारे में 2016 में बताया था, "प्रियंका प्रचार करने अकेले निकलतीं थी और देर रात लौट पातीं थीं. दोनों बच्चे घर में आया के साथ रहते थे. एक दिन वे जल्दी लौट आईं और मुझसे बोलीं बच्चों को रिक्शे की सैर करानी है इसलिए दो रिक्शे मिल सकते हैं क्या?"

"जैसे ही रिक्शे आए वे बच्चों के साथ एक पर बैठ कर बाहर निकल चलीं और भौचक्के एसपीजी वाले पीछे भागे. आधे घंटे बाद वे लौटीं और रिक्शा वालों को 50 रुपए का नोट देकर हँसते हुए भीतर लौट आईं."

इमेज कॉपीरइट AFP

2004 में क्यों प्रचार में उतारी गईं प्रियंका गांधी

24 अकबर रोड किताब लिखने वाले रशीद किदवई ने प्रियंका की कांग्रेस में ज़रूरत की एक दिलचस्प कहानी बताते हैं.

साल 2004 के आम चुनाव के समय ये महसूस किया गया कि कांग्रेस की हालत ख़राब है. पार्टी ने एक प्रोफ़ेशनल एजेंसी की सेवाएं लीं जिसने तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को बताया कि वह अकेले बीजेपी के बड़े नेता और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को टक्कर नहीं दे सकती.

इसके बाद ही राहुल गांधी ब्रिटेन में अपनी नौकरी छोड़कर सक्रिय राजनीति में आए.

इन चुनावों के बाद जब नतीजे आने शुरू हुए तो अमेठी में टीवी देख रहीं प्रियंका के चेहरे की मुस्कुराहट हर 10 मिनट में बढ़ रही थी.

एकाएक प्रियंका बोल उठीं, "मम्मी हैज़ डन इट.... ".

रशीद बताते हैं कि इसी एजेंसी से सोनिया ने फिर सलाह मांगी. तब जो सलाह मिली वो ये थी कि ज़ोरदार वापसी के लिए राहुल और प्रियंका की संयुक्त जोड़ी की ज़रूरत होगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जब प्रियंका ने 10 मिनट तक नेता को लगाई डांट

साल 2012. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव चल रहे थे. प्रियंका रायबरेली की बछरांवा सीट पर प्रचार कर रही थीं.

एक गांव में उनके स्वागत के लिए वहां के सबसे बड़े कांग्रेसी नेता और पूर्व विधायक खड़े दिखे.

प्रियंका के चेहरे के भाव बदले, उन्होंने अपनी गाड़ी में बैठे लोगों को उतरने के लिए कहा और इशारे से उस 'क़द्दावर' स्थानीय नेता को गाड़ी में बैठाया.

अपनी अगली सीट से पीछे मुड़ कर ग़ुस्से से तमतमाई प्रियंका ने उस नेता को 10 मिनट तक डांटा और कहा, "आगे से मुझे ऐसा कुछ सुनाई न पड़े. मैं सब जानती हूं. अब गाड़ी से मुस्कुराते हुए उतरो".

इसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं की एक बैठक हुई. बीच में मीटिंग रोक कर एक स्थानीय नेता को प्रियंका बुलाकर पीछे कमरे में ले गईं और पांच मिनट बाद वे कमरे से निकले तो उनकी आंखों से आंसू टपक रहे थे.

कुछ महीनों बाद प्रियंका गांधी ने टिकट बंटवारों के दौरान हुई कोर बैठक में इस नेता की राय भी बखूबी सुनी थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रियंका गांधी के सफ़र पर एक नज़र

  • 12 जनवरी 1972 को जन्म
  • मॉर्डन स्कूल से पढ़ाई
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी के जीसस एंड मैरी कॉलेज से मनोविज्ञान की पढ़ाई
  • 1997 में व्यापारी रॉबर्ट वाड्रा से शादी
  • 2004 में सोनिया गांधी के लिए प्रचार किया
  • प्रियंका गांधी को दो बच्चे हैं, एक बेटा और एक बेटी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए