प्रियंका गांधी का पीछा करेंगे रॉबर्ट वाड्रा के ये विवाद

  • 24 जनवरी 2019
प्रियंका गांधी और रॉबर्ट वाड्रा इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में कूद चुकी हैं. कांग्रेस ने उन्हें पार्टी का महासचिव बनाया है.

लोकसभा चुनावों के मद्देनजर प्रियंका को पूर्वी उत्तर प्रदेश की ज़िम्मेदारी दी गई है.

आम तौर पर बयानों और सभाओं से किनारा रखने वाली प्रियंका गांधी, कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी हैं.

प्रियंका के राजनीति में आने से एक ओर जहां कांग्रेस उत्साहित है, वहीं प्रतिद्वंदी पार्टी भाजपा को परिवारवाद और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस को घेरने की कोशिश कर रही है.

पिछले लोकसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगभग अपने सभी भाषणों में रॉबर्ट वाड्रा का जिक्र 'दामाद जी' कह कर किया करते थे और कांग्रेस परिवार पर उन्हें फायदा पहुंचाने और दामाद के जरिए भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का आरोप लगाते थे.

अप्रैल 2014 में छत्तीसगढ़ के विश्रामपुर में एक रैली के दौरान मोदी ने "दामाद जी" का जिक्र करते हुए कहा था, "ये मां-बेटे का जादू देखो, जो एक लाख को तीन सौ करोड़ कर देते हैं."

हालांकि कांग्रेस परिवार इन आरोपों को खारिज करता रहा है.

वाड्रा और विवाद, दोनों साथ-साथ चलते रहे हैं. प्रियंका गांधी के राजनीति में आने के बाद अब उन्हें वाड्रा से जुड़े विवादों का भी सामना सीधे तौर पर करना पड़ेगा.

उन पर वाड्रा के किए गए कथित भ्रष्टाचारों पर भी जवाब देने का दबाव होगा. चलिए जानते हैं वाड्रा कौन हैं और वो किन-किन आरोपों में घिरे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कौन हैं वाड्रा

यूँ तो रॉबर्ट वाड्रा उस समय से ही चर्चा में आ गए थे, जब उन्होंने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और सबसे प्रभावशाली महिला सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी से शादी की थी.

उस वक्त भारत का ये नवविवाहित जोड़ा न सिर्फ चर्चा में रहा बल्कि लोग जानना चाहते थे कि ये रॉबर्ट वाड्रा हैं कौन.

रॉबर्ट वाड्रा का दरअसल हैंडिक्राफ्ट आइटम्स और कस्टम आभूषणों का कारोबार है और उनकी कंपनी का नाम है आर्टेक्स एक्सपोर्ट्स.

इसके अलावा भी रॉबर्ट वाड्रा की कई कंपनियों में भागीदारी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रॉबर्ट वाड्रा का परिवार

रॉबर्ट वाड्रा 18 अप्रैल, 1969 में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद शहर में पैदा हुए. मुरादाबाद भारत में पीतल के काम के लिए प्रसिद्ध है. उनके पिता राजेंद्र वाड्रा पीतल व्यवसायी थे और मां मूलत: स्कॉटलैंड की रहने वाली थीं.

मूल रूप से वाड्रा परिवार पाकिस्तान के सियालकोट से है, भारत विभाजन के समय राजेंद्र वाड्रा के पिता यानी रॉबर्ट वाड्रा के दादा भारत आकर बस गए थे.

रॉबर्ट वाड्रा के एक भाई और एक बहन थीं. 2001 में उनकी बहन की कार दुर्घटना में मौत हो गई थी और 2003 में उनके भाई ने आत्महत्या कर ली थी.

2009 में उनके पिता की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी. रॉबर्ट वाड्रा के एक बेटा और एक बेटी है.

रॉबर्ट वाड्रा और प्रियंका गांधी की मुलाकात 1991 में दिल्ली में एक कॉमन फ्रेंड के घर पर हुई थी. बाद में दोनों की नज़दीकियां बढ़ीं और दोनों ने 18 फरवरी, 1997 को शादी कर ली.

अब नज़र डालते हैं उनसे जुड़े विवादों पर...

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वाड्रा-डीएलएफ़ विवाद

अक्तूबर 2012 में आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाए कि रॉबर्ट वाड्रा ने दिल्ली और आसपास में कई ज़मीन-जायदाद खरीदी और उसके लिए धन आया रियल इस्टेट कंपनी डीएलएफ़ की ओर से, जिसने रॉबर्ट वाड्रा को "ग़ैर ज़मानती ब्याज मुक्त कर्ज़" दिए.

वाड्रा और डीएलएफ़ दोनो ने आरोपों से इनकार किया था. मामले की जांच चल रही है और उन पर और उनकी कंपनी पर कई मामले दर्ज किए गए हैं.

आरोप लगाए गए कि वाड्रा ने इसके लिए गांधी परिवार के नाम का ग़लत इस्तेमाल किया था.

आईएएस अफ़सर अशोक खेमका को वाड्रा के ज़मीन विवाद मामले में व्हिसल-ब्लोअर माना जाता है और रिपोर्टों के मुताबिक़ सरकारों के फ़ैसलों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के कारण 23 सालों में उनका 45 बार तबादला हो चुका है.

अशोक खेमका का आरोप था कि कांग्रेस सरकार ने उन पर इसलिए निशाना साधा और परेशान किया क्योंकि उन्होंने रॉबर्ड वाड्रा और डीएलएफ़ के बीच समझौते को रद्द कर दिया.

फ़ेसबुक टिप्पणी पर विवाद

साल 2012 में जब रॉबर्ट वाड्रा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे तो उन्होंने अपने फ़ेसबुक पेज पर लिखा - 'मैंगो पीपल इन बनाना रिपब्लिक'.

इसका मतलब निकाला गया कि वाड्रा भारत को बनाना रिपब्लिक और लोगों को 'मैंगो पीपल' कहा है.

उनकी टिप्पणी पर विवाद होने के बाद वाड्रा ने अपना फ़ेसबुक अकाउंट बंद कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मीडिया पर भड़के वाड्रा

साल 2014 में जब समाचार एजेंसी एएनआई के एक पत्रकार ने ज़मीन विवाद पर उनसे सवाल पूछा तो बेहद गुस्से में वाड्रा ने उनसे पूछा, 'क्या आप गंभीर हैं?' और फिर ये बात बार-बार दोहराई और फिर माइक को झटककर आगे बढ़ गए.

'प्रियंका की ज़रूरत नहीं'

अप्रैल 2016 में समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में रॉबर्ट वाड्रा ने कहा था, "अपनी ज़िंदगी सुधारने के लिए मुझे प्रियंका की ज़रूरत नहीं थी."

वाड्रा ने कहा था, "मेरे पास काफ़ी था, मेरे पिता ने मुझे बहुत कुछ दिया था. उन्होंने मुझे शिक्षा दी."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सुरक्षा जांच

घरेलू हवाई अड्डों पर जिन लोगों को सुरक्षा जांच से मुक्त रखा गया है, उस सूची में रॉबर्ड वाड्रा का भी नाम था. इसे लेकर कई दिनों तक काफ़ी हंगामा मचा.

सितंबर 2015 में ख़बर आई कि वाड्रा को उस सूची से हटा लिया गया है. हालांकि बाद में मीडिया में कई ऐसी रिपोर्ट्स आई जिसमें बताया गया था कि उन्हें कई अन्य जगहों पर जांच से छूट दी गई थी.

वाड्रा काअपने पिता से विवाद

कहा जाता है कि रॉबर्ट के प्रियंका से शादी से फ़ैसले को उनके परिवार ने पसंद नहीं किया और इसके चलते पिता-पुत्र के रिश्तों में दरार भी आ गई.

अपने पिता के साथ संबंध बिगड़ने पर रॉबर्ट वाड्रा सुर्खियों में आए थे. एक दौर ऐसा भी आया जब 2001 में उन्होंने एक सार्वजनिक बयान देकर खुद को अपने पिता से अलग कर लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार