हिंदू लड़की को छूने वाला हाथ बचना नहीं चाहिए: अनंत हेगड़े - पांच बड़ी ख़बरें

  • 28 जनवरी 2019
केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े इमेज कॉपीरइट Getty Images

विवादित बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहने वाले केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने रविवार को फिर एक बयान दिया है.

उन्होंने कर्नाटक के कोडागू में एक सभा में कहा कि अगर हिंदू लड़की को कोई हाथ छूता है तब वह हाथ बचना नहीं चाहिए.

उन्होंने कहा, "हमें अपने समाज की प्राथमिकताओं पर दोबारा सोचना चाहिए. हमें अपनी जाति के बारे में नहीं सोचना चाहिए. अगर कोई हाथ हिंदू लड़की को छूता है तब वह हाथ बचना नहीं चाहिए."

उन्होंने संविधान को लेकर पर भी अपने विचार रखे. उन्होंने कहा, "कुछ लोग कहते हैं संविधान धर्मनिरपेक्षता की बात कहता है और उसे स्वीकारना चाहिए. हमें संविधान का सम्मान करना चाहिए लेकिन संविधान कई बार बदल चुका है और यह भविष्य में भी बदल सकता है. हम यहां संविधान बदलने के लिए हैं और हम इसे बदलेंगे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'जनता राजनेताओं की पिटाई भी कर सकती है'

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि जो राजनेता जनता को सपने दिखाते हैं लेकिन इन सपनों को पूरा नहीं कर पाते उन्हें 'जनता पीटती' भी है.

रविवार को बॉलीवुड अभिनेत्री ईशा कोप्पिकर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुईं. इस मौक़े पर मोदी सरकार के परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, ''सपने दिखाने वाले नेता लोगों को अच्छे लगते हैं. लेकिन दिखाए गए सपने अगर पूरे नहीं किए तो जनता उनकी पिटाई भी कर सकती है. इसलिए सपने वही दिखाओ जो पूरे हो सकें. मैं सपने दिखाने वालों में से नहीं हूं, मैं जो बोलता हूं वो 100 फ़ीसदी डंके की चोट पर पूरा करता हूं.''

उन्होंने आगे कहा, '' जब मैं महाराष्ट्र में पीडब्लूडी मंत्री था तो मैंने कहा था कि मैं मुंबई में 50 फ़्लाईओवर बनवाउँगा. लोग मुझ पर हंसा करते थे लेकिन मैंने ये किया और उन्हें गलत साबित किया.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'कांग्रेस और लेफ़्ट नहीं करतीं चुनाव आयोग का सम्मान'

रविवार को केरल के त्रिशूर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर चुनाव आयोग का सम्मान ना करने का आरोप लगाया. हाल ही में लंदन में ईवीएम 'हैकेथॉन' में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल की मौजूदगी पर तंज़ कसते हुए कहा कि जो भी भारत के जनादेश को विदेशी ज़मीन पर जाकर कमज़ोर बताते हैं उन्हें देश की जनता को जवाब देना चाहिए.

युवा मोर्चा रैली में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ''कांग्रेस और लेफ़्ट पार्टियां संस्थाओं का सम्मान नहीं करतीं. ये लोग चुनाव आयोग का सम्मान नहीं करते और लोकतंत्र की बात करते हैं, इससे बड़ा कोई मज़ाक नहीं हो सकता.''

उन्होंने कहा, ''डीएमके और अन्य पर्टियां सामान्य वर्ग के ग़रीब लोगों के लिए 10 फ़ीसदी आरक्षण को लेकर ग़लतफ़हमी फैला रही हैं. इस आरक्षण को इस तरह लाया गया है कि इससे मौजूदा समय में दलित, आदिवासियों और अन्य पिछड़ा वर्ग को मिलने वाला आरक्षण प्रभावित नहीं होगा.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

देश की सबसे तेज़ 'वंदे भारत एक्सप्रेस'

देश में ही बनाई गई सबसे तेज़ रफ़्तार से चलने वाली रेलगाड़ी 'ट्रेन 18' के नाम की घोषणा हो गई है.

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि ट्रेन 18 का नाम 'वंदे भारत एक्सप्रेस' होगा. यह ट्रेन दिल्ली से वाराणसी के बीच अधिकतम 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से चलेगी. इस ट्रेन को जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हरी झंडी दिखाएंगे.

16 कोच की इस ट्रेन को चेन्नई की इंटिग्रल कोच फ़ैक्ट्री में 18 महीनों में 97 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है. साथ ही इसमें कोई इंजन नहीं है.

पूरी तरह से वातानुकूलित यह ट्रेन केवल कानपुर और इलाहाबाद में रुकेगी और इसमें दो प्रकार के एग्ज़िक्युटिव चेयरकार कोच होंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

आनुवंशिक रूप से बनाई गई मुर्गियां

स्कॉटलैंड के शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने ऐसी आनुवंशिक रूप से संशोधित मुर्गियां बनायी हैं जिनसे सस्ती प्रोटीन आधारित दवाएं बन सकेंगी.

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि इन दवाओं का एक दिन गठिया और कैंसर जैसी बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकेगा. मुर्गियों के अंडो का पहले से ही दवाओं के लिए वायरस पैदा करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन रोस्लिन इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं का कहना है कि वो मनुष्यों के इस्तेमाल लायक दवा बनाने के लिए मुर्गियों को आनुवंशिक रूप से संशोधित कर सकते हैं.

वैज्ञानिकों का दावा है कि एक दिन इस तकनीक का इस्तेमाल ओद्योगिक स्तर पर दवाएं बनाने के लिए किया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए