राहुल गांधी और प्रियंका ने क्या अपनी उम्र ग़लत बताई?

  • 29 जनवरी 2019
कांग्रेस पार्टी इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी की 'डेट ऑफ़ बर्थ' से छेड़छाड़ कर ये अफ़वाह फैलाने की कोशिश की है कि दोनों नेताओं में से किसी एक ने अपनी सही जन्मतिथि सार्वजनिक नहीं की है.

इन लोगों ने लिखा है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की उम्र में सिर्फ़ 6 महीने का अंतर कैसे है? क्या गांधी परिवार ने यहाँ भी कोई धांधलेबाज़ी की है?

दक्षिणपंथी रुझान रखने वाले कुछ फ़ेसबुक ग्रुप्स में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के विकीपीडिया पन्नों के एडिट किए गए स्क्रीनशॉट सैकड़ों बार शेयर किए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Image Grab

इन्हें शेयर करने वालों ने लिखा है, "जन्म की तारीख़ में भी कांग्रेस का महाघोटाला. राहुल के जन्म के 6 महीने बाद हुआ प्रियंका का जन्म."

ट्विटर और व्हॉट्सऐप पर भी इसी तरह के स्क्रीनशॉट शेयर किए गए हैं. कुछ लोगों ने अपने ट्वीट में इंडिया टुडे ग्रुप के आज तक न्यूज़ चैनल का एक स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Image Grab

लेकिन ये सभी दावे और सवाल, ग़लत और बेबुनियाद हैं. राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के जन्म के बीच 18 महीने और 24 दिन का अंतर है.

राहुल गांधी का जन्म 19 जून, 1970 को दिल्ली में हुआ था. जबकि प्रियंका गांधी का जन्म दिल्ली में ही 12 जनवरी, 1972 को हुआ था. कांग्रेस पार्टी की आधिकारिक वेबसाइट पर भी दोनों नेताओं की यही जन्मतिथि लिखी हुई है.

विकीपीडिया पर भी दोनों नेताओं के जन्म की यही सूचना प्रकाशित है, लेकिन जिन लोगों ने सोशल मीडिया पर विकीपीडिया के स्क्रीनशॉट शेयर किए हैं, उन्होंने फ़ोटो एडिट कर राहुल गांधी की जन्मतिथि 19 जून, 1971 कर दी है.

एडिट की गईं यही फ़र्ज़ी तस्वीरें सोशल मीडिया और व्हॉट्सऐप पर शेयर की जा रही हैं, जिन्हें देखकर लगता है कि ये हाल ही में राजनीति में आईं प्रियंका गांधी के ख़िलाफ़ जानबूझकर ग़लत सूचना फैलाने की एक कोशिश है.

कांग्रेसी नेता राजनीति में प्रियंका गांधी की औपचारिक एंट्री को पार्टी का 'ट्रंप कार्ड' बता रहे हैं. वहीं जानकारों की मानें तो प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने से कांग्रेस पार्टी को 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के ख़िलाफ़ लड़ने के लिए नई ऊर्जा मिलेगी.

पढ़ें 'फ़ैक्ट चेक' की अन्य कहानियाँ:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार