मध्य प्रदेश के गांव में मुसलमानों को प्रवेश न करने की धमकीः प्रेस रिव्यू

  • 30 जनवरी 2019
मुसलमान इमेज कॉपीरइट Getty Images

द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूर्वी मध्य प्रदेश के राजगढ़ ज़िले के गांवों में मुसलमानों के प्रवेश पर रोक की धमकी दी गई है. पुलिस को मिले पत्र में कहा गया है, "लिम्बोदा गांव में कोई मुसलमान फेरी वाला नहीं घुसना चाहिए. अगर वो आए तो हमें ज़िम्मेदार न ठहराया जाए. कोई मुसलमान हमारे गांव में न घुसे." पुलिस को ऐसे धमकी भरे पत्र गणतंत्र दिवस के मौके पर खुजनेर क़स्बे में हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद मिले हैं. प्रदेश में सत्ता में आई कांग्रेस के शासन की ये पहली सांप्रदायिक वारदात है.

पूर्वोत्तर में बीजेपी के ख़िलाफ़ लामबंद हुईं सहयोगी पार्टियां

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption नागरिकता संशोधन विधेयक के मुद्दे पर पूर्वोत्तर में ज़बरदस्त विरोध हो रहा है

पूर्वोत्तर राज्यों में बीजेपी की सहयोगी पार्टियां केंद्र सरकार की ओर से लाए जा रहे नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ लामबंद हो रही हैं. द हिंदू अख़बार की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूर्वोत्तर की दस क्षेत्रीय पार्टियों ने मंगलवार को नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ सम्मेलन किया जिसमें बिहार में बीजेपी की सहयोगी जनता दल यूनाइटेड पार्टी भी शामिल हुई. प्रस्तावित क़ानून के तहत अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश, पाकिस्तान और म्यांमार में रह रहे अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता दी जा सकेगी लेकिन इन देशों से आने वाले मुसलमान नागरिकता नहीं ले सकेंगे.

नागरिकता संशोधन विधेयक पर क्या है भाजपा की असल राजनीति

लोकायुक्त के दायरे में आएंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री

इमेज कॉपीरइट TWITTER / CMOMAHARASHTRA

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणनवीस की सरकार मुख्यमंत्री को कुछ शर्तों के साथ लोकायुक्त के दायरे में लाना चाहती है. महाराष्ट्र लोकायुक्त क़ानून के तहत फिलहाल लोकायुक्त जन प्रतिनिधियों, मंत्रियों और स्थानीय निकायों के सदस्यों के ख़िलाफ़ तो भ्रष्टाचार के मामले की जांच कर सकता है लेकिन मुख्यमंत्री इसके दायरे से बाहर हैं. मंगवाल को राज्य की कैबिनेट ने मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ शिकायत दायर करने के प्रस्ताव को मंज़ूरी दे दी.

यूपी लोकायुक्त पर सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला पलटा - BBC News हिंदी

भारत में सांप्रदायिक हिंसा का ख़तराः अमरीका

इमेज कॉपीरइट SAMIRATMAJ MISHRA

अमरीका ने विश्व में सुरक्षा ख़तरों को लेकर जारी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि भारत में होने वाले आगामी लोकसभा चुनावों के दौरान सांप्रदायिक हिंसा की वारदातों में बढ़ोत्तरी हो सकती है. हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक इस रिपोर्ट में भारत में पाकिस्तान स्थित संगठनों की ओर से हमलों का ख़तरा भी ज़ाहिर किया गया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी अपने हिंदू राष्ट्रवाद की थीम को आगे बढ़ाती है तो सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं बढ़ने की संभावना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार