अयोध्या में 21 फरवरी से शुरू होगा मंदिर निर्माण, धर्म संसद की घोषणा

  • 31 जनवरी 2019
शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती इमेज कॉपीरइट Samiratmaj mishra/bbc

प्रयागराज के कुंभ क्षेत्र में तीन दिवसीय परम धर्म संसद में संतों ने एलान किया है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण आगामी 21 फरवरी से शुरू हो जाएगा.

साधु-संत 10 फ़रवरी को बसंत पंचमी के बाद अयोध्या कूच करना शुरू कर देंगे और 21 फरवरी को मंदिर के शिलान्यास के लिए भूमि पूजन किया जाएगा. हालांकि ये किस जगह पर होगा, इस बारे में कोई स्पष्ट बयान नहीं आया है.

तीन दिन तक चली परम धर्म संसद के आख़िरी दिन शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने ये घोषणा की और बताया कि इसके लिए सभी अखाड़ों के संतों से भी बात हो चुकी है.

परम धर्म संसद का आयोजन कुंभ मेला क्षेत्र के सेक्टर नौ स्थित गंगा सेवा अभियानम के शिविर में हुआ था. तीन दिन के दौरान धर्म संसद में कई अन्य प्रस्ताव भी पारित किए गए.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj mishra/bbc

आयोजकों की ओर से दावा किया गया है कि इस धर्म संसद में दुनिया भर से सनातन धर्म से जुड़े प्रतिनिधि आए थे और धर्म संसद के एजेंडे में राम मंदिर निर्माण की तारीख़ तय करना भी शामिल था.

परम धर्म संसद के आयोजक और गंगा सेवक अभियानम के प्रमुख स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने बीबीसी को बताया कि उन्हें सरकार से राम मंदिर निर्माण के संबंध में कोई उम्मीद नहीं है.

उनका कहना था, "जो सरकार काशी और प्रयाग में सैकड़ों मंदिरों को तोड़कर नष्ट कर चुकी हो, उस सरकार से मंदिर निर्माण की उम्मीद करना मूर्खता के सिवाय कुछ नहीं है. परम धर्म संसद में दुनिया भर से आए संतों और सनातन धर्म के प्रतिनिधियों ने ये तय कर लिया है कि 21 फरवरी को हर हाल में अयोध्या पहुंचना है. हमें यदि रोकने की कोशिश की जाएगी तो भी हम वहां पहुंचेंगे."

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj mishra/bbc

'नारे लगाकर हिंदुओं की सहानुभूति ली गई'

परम धर्म संसद के दौरान शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने गंगा के स्वच्छ न होने पर नाराज़गी जताई. उनका कहना था, "मां गंगा ने बुलाया है, मैं गंगा को निर्मल करूंगा जैसे नारे लगाकर सिर्फ हिंदुओं की सहानुभूति ली गई है. गंगा की दशा अभी भी दयनीय है. गंगा न तो निर्मल हुई हैं और न ही अविरल."

इस बीच, गुरुवार यानी 31 जनवरी से दो दिन की धर्म संसद कुंभ क्षेत्र में ही विश्व हिन्दू परिषद भी आयोजित कर रही है जिसमें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पहुंचने की भी उम्मीद जताई जा रही है.

वीएचपी की धर्म संसद में भी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर किसी ख़ास घोषणा की उम्मीद की जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj mishra/bbc

प्रयागराज के कुंभ मेले में सोमवार को शंकराचार्य स्वरूपानन्द सरस्वती की अध्यक्षता में परम धर्म संसद की शुरुआत हुई थी.

धर्म संसद में जहां केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ राम मंदिर को लेकर आलोचना प्रस्ताव पारित किया गया वहीं गंगा स्वच्छता समेत तमाम मुद्दों पर सरकार पर निशाना साधा गया.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार