जींद में बीजेपी की जीत, सुरजेवाला तीसरे नंबर पर

  • 31 जनवरी 2019
जींद, हरियाणा

हरियाणा की जींद विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने बाज़ी मार ली है.

बीजेपी के कृष्ण मिड्ढा ने जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के उम्मीदवार दिग्विजय चौटाला को 12935 वोटों से हरा दिया है.

जबकि कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला तीसरे नंबर पर रहे.

जींद में उपचुनाव कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला की वजह से प्रतिष्ठा की लड़ाई में बदल चुका थी.

कांग्रेस ने एक बड़ा दाँव खेलते हुए इस सीट से अपने प्रवक्ता और कैथल विधानसभा सीट से विधायक रणदीप सिंह सुरजेवाला को उम्मीदवार बनाया था.

हरियाणा में 2014 से बीजेपी की सरकार है और इस उप-चुनाव को सत्तारूढ़ सरकार पर जनता का मूड नापने के तौर पर भी देखा जा रहा था.

इस सीट पर सुरजेवाला के अलावा बीजेपी के कृष्ण मिड्ढा, इंडियन नेशनल लोकदल (आईएनएलडी) से उम्मेद सिंह रेडू और जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) से दिग्विजय चौटाला उम्मीदवार थे.

यह सीट आईएनएलडी के क़ब्ज़े में थी और पिछले साल अगस्त में विधायक हरिचंद मिड्ढा के निधन के बाद यह सीट ख़ाली हुई थी.

इस चुनाव में आईएनएलडी उनके बेटे कृष्ण मिड्ढा को उम्मीदवार बनाना चाहती थी मगर उन्होंने बीजेपी का हाथ थाम लिया.

नतीजे आने के बाद सुरजेवाला ने ईवीएम में गड़बड़ी की बात की.

पत्रकारों से बात करते हुए सुरजेवाला का कहना था, ''इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को लेकर कई विवाद सामने आए. ईवीएम के नंबर मैच नहीं कर रहे थे. ईवीएम का नंबर को बाहर लिखा था और जिसपर पोलिंग एजेंट के हस्ताक्षर थे और जो अंदर था वो लगभग दो दर्जन मशीनों में अलग था. ये सारे एतराज़ात हमने लिख कर दे दिए हैं. एक दर्जन पार्टीज़ के उम्मीदवारों ने ये कहा कि आप इस काउंटिंग को रोककर, सबकुछ वेरीफ़ाई करें. रिटर्निंग ऑफ़िसर ने इसबात को स्वीकार नहीं किया.''

उधर बीजेपी की शानदार जीत के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने जींद की जनता को बधाई दी है.

रामगढ़ः नटवर सिंह के बेटे के भाग्य का फ़ैसला

उधर राजस्थान के रामगढ़ विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी साफिया ख़ान जीत गई हैं. उन्होंने बीजेपी के सुखवंत सिंह को 12,228 मतों से हराया.

इस जीत के साथ ही राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के 100 सीट हो गए हैं. अब राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पूर्ण बहुमत से केवल एक सीट पीछे है.

राजस्थान में नई सरकार बनने के तक़रीबन डेढ़ महीने के अंदर ही एक सीट पर अलवर ज़िले की रामगढ़ सीट पर उप-चुनाव हुए थे.

इस सीट पर सत्तारुढ़ कांग्रेस, बीजेपी और बसपा के बीच लड़ाई थी.

सात दिसंबर को बीएसपी उम्मीदवार लक्ष्मण सिंह की मौत के बाद यह सीट खाली हुई थी.

बसपा ने इस सीट से पूर्व केंद्रीय मंत्री नटवर सिंह के बेटे जगत सिंह को उम्मीदवार बनाया है. वहीं, कांग्रेस ने शफ़िया ज़ुबैर ख़ान और बीजेपी ने सुखवंत सिंह को उम्मीदवार बनाया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार