जींद उपचुनाव: 'चौटाला के लड्डू बीजेपी को देने की माँग', क्या है सच?

  • 31 जनवरी 2019
लड्डू इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

सोशल मीडिया और व्हॉट्सऐप ग्रुप्स में लड्डुओं की ये तस्वीर इस दावे के साथ शेयर की जा रही है कि 'बीजेपी से हार के कारण चौटाला की पार्टी जेजेपी के क्विंटलों लड्डू अब धरे रह जाएंगे'.

कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर मज़ाक में लिखा है कि 'जननायक जनता पार्टी को ये सारे लड्डू बीजेपी मुख्यालय तक पहुँचा देने चाहिए'.

दरअसल, 28 जनवरी को हरियाणा की जींद विधानसभा सीट पर हुए उप-चुनाव के नतीजे आ चुके हैं और इस सीट पर बीजेपी को जीत हासिल हुई है.

इमेज कॉपीरइट Twitter/Viral Image

हरियाणा की जींद विधानसभा सीट पर हुआ उप-चुनाव एक ओर जहाँ कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया था, वहीं बीजेपी के लिए भी ये चुनाव यह दिखाने का एक मौक़ा माना जा रहा था कि हरियाणा में अब भी बीजेपी की लहर है.

लेकिन कांग्रेस और बीजेपी के बीच ओम प्रकाश चौटाला के परिवार में फूट पड़ने के बाद बनी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) ने भी इस उप-चुनाव में काफी दम दिखाया.

हालांकि बुधवार को स्थानीय मीडिया में कुछ ऐसी रिपोर्ट्स आई थीं जिनमें कहा गया था कि 'जेजेपी जींद विधानसभा सीट पर अपनी जीत को लेकर आश्वस्त है और पार्टी ने जीत का जश्न मनाने के लिए लड्डू बनवाने शुरू कर दिए हैं'.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेकिन लड्डुओं की जो तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है, उसका दिसंबर 2018 में बनी जेजेपी से कोई लेना-देना नहीं है.

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि लड्डुओं की यह तस्वीर साल 2016-17 से इंटरनेट पर कई जगह इस्तेमाल की जा चुकी है.

फ़ेसबुक पर बड़े त्योहारों के समय कई धार्मिक ग्रुप्स यह तस्वीर पोस्ट कर चुके हैं.

गूगल प्लस के कुछ यूज़र्स के अनुसार यह तस्वीर साल 2016 में गणेश चतुर्थी से पहले किसी धार्मिक आयोजन के दौरान खींची गई थी.

बहरहाल, इस तस्वीर में दिख रहे सफेद पंडाल पर किसी राजनीतिक दल का झंडा या पोस्टर नहीं है जिसे देखकर यह कहा जा सकता है कि वायरल हो रही ये फ़ोटो किसी राजनीतिक आयोजन की नहीं है.

पढ़ें 'फ़ैक्ट चेक' की अन्य कहानियाँ:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार