‘सोनिया गांधी को हिंदुओं से नफ़रत’- क्या पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ऐसा लिखा?

  • 1 फरवरी 2019
सोशल मीडिया इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोशल मीडिया पर दक्षिणपंथी रुझान वाले ग्रुप्स में एक फ़र्ज़ी और भड़काऊ आर्टिकल तेज़ी से शेयर किया जा रहा है.

आर्टिकल का शीर्षक है- 'हिंदुओं से नफ़रत करती हैं सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किया ख़ुलासा'.

ये भड़काऊ सामग्री व्हॉट्सऐप पर भी कई भाजपा समर्थक ग्रुप्स में पिछले कुछ दिन में शेयर की गई है. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी इसके हज़ारों शेयर हैं.

कुछ लोगों ने 'पोस्ट-कार्ड न्यूज़', 'हिंदू एग्ज़िस्टेंस' और 'परफ़ॉर्म इन इंडिया' नाम की कुछ वेबसाइट्स के लिंक भी शेयर किये हैं जिन्होंने इस फ़र्ज़ी ख़बर को अपनी वेबसाइट पर जगह दी है.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Posts

साल 2018 में इन वेबसाइट्स पर छपे ये आर्टिकल भी दावा करते हैं कि भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपनी किताब में कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी को हिंदू विरोधी कहा है.

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि साल 2018 में फ़रवरी-मार्च में भी इन लिंक्स को सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर किया गया था.

लेकिन 7 से ज़्यादा किताबें लिख चुके पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की 2017 में छपी 'द कोलेशन इयर्स: 1996-2012' नामक किताब में क्या वाक़ई सोनिया गांधी के बारे में कोई ऐसी बात लिखी गई है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस बारे में जानने के लिए हमने कांग्रेस नेता और प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के ऑफ़िस से भी बात की.

प्रणब मुखर्जी के ऑफ़िस के अनुसार उनकी किताब में ऐसा कोई हिस्सा नहीं है जहाँ उन्होंने सोनिया गांधी को हिंदू विरोधी लिखा गया हो या प्रणब दा ने लिखा हो कि सोनिया गांधी हिंदुओं से नफ़रत करती हैं.

वहीं बीबीसी से बात करते हुए शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा, "ये पूरी तरह से झूठ है. ऐसी ख़बरें दुष्प्रचार से ज़्यादा कुछ नहीं हैं."

साल 2018 में 7 जून को जब नागपुर स्थित आरएसएस मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रणब मुखर्जी बतौर मुख्य अतिथि पहुँचे थे और उन्होंने वहाँ से भाषण दिया था, तब उनकी बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ट्वीट कर अपने पिता को चेताया था.

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने 6 जून को ट्विटर पर लिखा था, "लोग आपकी स्पीच भूल जाएंगे. तस्वीरें और विज़ुअल रह जाएंगे और उन्हें फ़र्ज़ी बयानों के साथ सर्कुलेट किया जाएगा. नागपुर जाकर आप बीजेपी और आरएसएस को आपके ख़िलाफ़ फ़र्ज़ी ख़बरें प्लांट करने का चांस दे रहे हैं."

पढ़ें 'फ़ैक्ट चेक' की अन्य कहानियाँ:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार