मनी लॉन्ड्रिंग मामले में रॉबर्ट वाड्रा को ईडी के समक्ष पेश होने का आदेश: प्रेस रिव्यू

  • 3 फरवरी 2019
रॉबर्ट वाड्रा इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी ख़बर के मुताबिक दिल्ली की एक विशेष अदालत ने रॉबर्ट वाड्रा से प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेश होने को कहा है.

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है और इसी मामले में अदालत ने शनिवार को उन्हें ये आदेश दिया.

इससे पहले वाड्रा ने अदालत में अग्रिम ज़मानत याचिका दायर की थी और कहा था कि वो अपनी बीमार मां की देखभाल करने के लिए लंदन में हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि उनसे राजनीतिक बदला लिया जा रहा है. वाड्रा ने ये भी कहा कि उन्हें 16 फ़रवरी तक गिरफ़्तारी से सुरक्षा मिली हुई है.

मनी लॉन्ड्रिंग का ये केस रॉबर्ट वाड्रा के करीबी सहयोगी सुनील अरोड़ा से जुड़ा है. सुनील अरोड़ा के ख़िलाफ़ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है.

इस मामले में अरोड़ा को कोर्ट से 6 फ़रवरी तक के लिए गिरफ़्तारी से अंतरिम राहत मिल चुकी है. यह मामला लंदन स्थित 19 लाख पाउंड की एक प्रॉपर्टी की ख़रीदारी में कथित मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा है.

ईडी का कहना है कि इस संपत्ति के असली मालिक रॉबर्ट वाड्रा हैं.

ये भी पढ़ें: CBI के नए बॉस ऋषि कुमार शुक्ला पर खड़गे के सवाल

इमेज कॉपीरइट MP POLICE
Image caption ऋषि कुमार शुक्ला, सीबीआई के नए निदेशक

CBI को मिला नया बॉस, तेलतुंबड़े को राहत

दिल्ली से छपने वाले लगभग सभी अख़बारों ने सीबीआई के नए निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला की नियुक्ति की ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है.

हिंदुस्तान टाइम्स समेत कई अख़बारों ने नए सीबीआई निदेशक की पृष्ठभूमि और विस्तृत प्रोफ़ाइल भी छापी है.

इसके अलावा दलित लेखक आनंद तेलतुंबड़े की गिरफ़्तारी को अदालत द्वारा अवैध ठहराए जाने की ख़बर भी ज़्यादातर अख़बारों ने प्रमुखता से छापी है.

इंडियन एक्सप्रेस की हेडिंग है- Teltumbde arrested, released. यानी तेलतुंबड़े गिरफ़्तार हुए, रिहा हुए.

जनसत्ता लिखता है- तेलतुंबड़े की गिरफ़्तारी को अवैध बता कोर्ट ने दिया रिहाई का आदेश.

पुणे पुलिस ने भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट में प्रोफ़ेसर और सामाजिक कार्यकर्ता आनंद तेलतुंबड़े को शनिवार तड़के गिरफ़्तार कर लिया था. इसके बाद सत्र न्यायलय ने 24 घंटे के भीतर ही उनकी गिरफ़्तारी को अवैध बताते हुए उन्हें तुरंत रिहा किए जाने का आदेश दिया.

सुप्रीम कोर्ट ने तेलतुंबड़े को 11 फ़रवरी तक गिरफ़्तारी से छूट दे रखी थी. सत्र न्यायलय ने अपने फ़ैसले में कहा कि इस अवधि से पहले उन्हें गिरफ़्तार किया जाना पुणे पुलिस द्वारा सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है.

तेलतुंबड़े को प्रतिबंधित माओवादियों से सम्बन्ध रखने के शक़ के आधार पर गिरफ़्तार किया गया था.

ये भी पढ़ें: क्रिकेट छोड़ क्या राजनीतिक पिच पर बैटिंग करेंगे गौती?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भीख मांगते पूर्व सैनिक को गंभीर की मदद

जनसत्ता में छपी एक ख़बर के अनुसार क्रिकेटर गौतम गंभीर ने ट्विटर का इस्तेमाल करके भीख मांगने पर मजबूर एक भारतीय पूर्व सैनिक की मदद की.

गंभीर ने अपने ट्विटर हैंडल से एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें एक बुजुर्ग गले में अपना पहचान पत्र लटकाए और हाथों में एक प्लेकार्ड लिए खड़े हैं. प्ले कार्ड पर लिखा है कि उन्होंने 1965 और 1965 के युद्ध में हिस्सा लिया था और हाल ही में एक हादसे का शिकार हो गए हैं.

बुजुर्ग पूर्व सैनिक दिल्ली के कनॉट प्लेस में भीख मांगने को मजबूर थे और शनिवार को इसकी ख़बर गौतम गंभीर को लग गई. इसके बाद उन्होंने उनकी तस्वीर ट्विटर पर पोस्ट की. भारतीय रक्षा मंत्रालय ने गंभीर के इस ट्वीट का जवाब दिया और मदद का भरोसा दिलाया.

ये भी पढ़ें: अमरीका में भीषण ठंड से 21 लोगों की मौत

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिल्ली की सबसे ठंडी फ़रवरी

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार साल 2014 के बाद से दिल्ली में फ़रवरी महीने का सबसे ठंडा दिन रहा. शनिवार को अधिकतम तापमान 17.9 डिग्री सेल्सियस था जो सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस कम है.

शनिवार को न्यूनतम तापमान 8.5 डिग्री सेल्सियस था जो सामान्य है. अख़बार मौसम विभाग के हवाले से लिखता है कि दिल्ली में अभी ठंडी जारी रहने और तामपान गिरने का अनुमान है.

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि अब गर्मी भी सामान्य से दो डिग्री ज़्यादा पड़ेगी. इसके साथ ही अच्छी बारिश होने की संभावना भी जताई जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार